दिन भर रही इस्तीफे की चर्चा इंस्पेक्टर राजेंद्र त्यागी ने किया इन्कार

जागरण संवाददाता गाजियाबाद लोनी बार्डर क्षेत्र में 11 नवंबर को मुठभेड़ में सात गोहत्यारों क

JagranWed, 17 Nov 2021 10:51 PM (IST)
दिन भर रही इस्तीफे की चर्चा इंस्पेक्टर राजेंद्र त्यागी ने किया इन्कार

जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : लोनी बार्डर क्षेत्र में 11 नवंबर को मुठभेड़ में सात गोहत्यारों को पैर में एक ही जगह गोली मारकर गिरफ्तार करने वाले पूर्व थाना प्रभारी राजेंद्र त्यागी के द्वारा नौकरी से इस्तीफा देने का बाजार गर्म रहा लेकिन उन्होंने इस चर्चा का खंडन किया है। साथ ही एसएसपी ने भी इस्तीफा प्राप्त होने से मना किया है।

इंस्पेक्टर राजेंद्र त्यागी ने मुठभेड़ की सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को न देने पर कहा है कि मुठभेड़ के समय वह फोन करने की स्थिति में नहीं थे। गोलियां चल रही थीं, इसके चलते उन्होंने वायरलेस सेट पर तत्काल सूचना प्रसारित कर दी थी, लेकिन कोई वरिष्ठ अधिकारी मौके पर नहीं आए। उन्होंने कहा कि मान-सम्मान के साथ समझौता नहीं करेंगे। मान-सम्मान के साथ उन्हें नौकरी मिलेगी तो वह करेंगे। उन्होंने कहा कि पहले एनकाउंटर की जांच करानी चाहिए थी उसके बाद कार्रवाई होनी चाहिए थी। एसएसपी पवन कुमार ने मंगलवार को अनुशासनहीनता और ट्रांसफर के बाद गैरहाजिर रहने पर राजेंद्र त्यागी को निलंबित कर दिया था।

--------

सीओ को जल्द जांच रिपोर्ट देने को कहा गया

एसएसपी पवन कुमार ने पूरे प्रकरण की जांच सीओ लोनी को सौंपी थी। उन्हें जल्द ही जांच पूरी कर रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है।

-------- तस्करा लीक होने के लिए विधायक ने एसएसपी को बताया जिम्मेदार

जागरण संवाददाता, गाजियाबाद : विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने एसएसपी को पत्र लिखकर उनपर थाना प्रभारी का तबादला कर पुलिस का मनोबल और साख गिराने का आरोप लगाया है। उन्होंने तस्करा लीक होने पर एसएसपी को जिम्मेदार बताते हुए उनसे स्वयं पर कार्रवाई करने की बात कही है। विधायक ने कहा कि तस्करा लीक होने का आरोप लगाते हुए थाना प्रभारी को निलंबित किया गया है, जबकि उनके थाना छोड़ने के बाद तस्करा लीक हुआ था। एसएसपी और एसपी देहात ने थाना प्रभारी पर गोदाम मालिक का नाम मुकदमे में न लिखने का दबाव बनाया था। लेकिन थाना प्रभारी ने उनकी बात नहीं मानी।

-------

लोनी विधायक ने एसएसपी पर दागे पांच सवाल

विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने पत्र में एसएसपी से पांच सवाल पूछे हैं। पत्र में उन्होंने पूछा है कि गोतस्करों के सरगना सलीम पहलवान का नाम मुकदमे में दर्ज न करने के लिए थाना प्रभारी पर दबाव क्यों बनाया गया?, जल्दबाजी में पहले तबादला और फिर निलंबन किसके दबाव में किया गया? क्या आप तस्करा लीक होने और जनपद में बढ़ती गोहत्या के लिए स्वयं को जिम्मेदार मानकर अपने खिलाफ कार्रवाई के लिए तस्करा दर्ज कराएंगे? यदि नहीं तो आपको गोतस्करों का संरक्षक क्यों न माना जाए? क्या थाना प्रभारी राजेंद्र त्यागी के लिए न्याय की बात करने और गोतस्करों पर कार्रवाई की मांग करने के कारण मुझसे व्यक्तिगत रंजिश रखते हैं? या फिर किसी बड़े गोतस्कर का दबाव है? क्या आपके उक्त कृत्यों से उत्तर प्रदेश पुलिस की साख नहीं गिरी है? क्या थाना प्रभारी के खिलाफ ईष्र्या भाव से ग्रस्त होकर एवं गोतस्करों के दबाव में यह कार्रवाई नहीं की गई है?

---------

मानवाधिकार आयोग पहुंचा संगठन लोनी : मानव अधिकार संगठन की राष्ट्रीय अध्यक्ष एस शबाना ने मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष को पत्र लिखकर इस प्रकरण की जांच की मांग की है। बार्डर थाना पुलिस द्वारा 11 नवंबर को बेहटा हाजीपुर गांव स्थित एक गोदाम से मुठभेड के बाद सात लोगों को गिरफ्तार किया गया था, जिसमें सभी आरोपितों को एक स्थान पर गोली लगी थी।

----------

लोनी विधायक का पत्र मुझे अभी प्राप्त नहीं हुआ है। पत्र वायरल होने की जानकारी जरूर मिली है। अभी पत्र पढ़ नहीं पाया हूं। पत्र पढ़कर ही कुछ कहने की स्थिति होगी। नंदकिशोर गुर्जर जनप्रतिनिधि हैं। उनके प्रत्येक सवाल का जवाब दिया जाएगा।

पवन कुमार, एसएसपी, गाजियाबाद

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.