सुविधाएं कागजों पर बेहतर, हकीकत में स्थिति खराब

जागरण संवाददाता फतेहपुर नगर पालिका की लापरवाही या फिर आम नागरिकों बच्चों और शिक्षक

JagranSun, 24 Oct 2021 05:38 PM (IST)
सुविधाएं कागजों पर बेहतर, हकीकत में स्थिति खराब

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : नगर पालिका की लापरवाही या फिर आम नागरिकों, बच्चों और शिक्षकों की बदकिस्मती कहें सुविधाओं और सेवाओं के बजाए समस्याओं के मकड़जाल ने घेर रखा है। समस्याओं से जूझ रहे लोगों ने कई बार पालिका और बिजली विभाग से शिकायत की है। ऐसे में सुविधाएं भले ही कागजों में बेहतर हों, लेकिन हकीकत में स्थिति बहुत खराब है।

शहर के खेलदार मुहल्ले की बदहाली और समस्याओं के मकड़जाल से स्थानीय लोग उबर नहीं पा रहे हैं। जिम्मेदारों के दावों की पोल लोग खोल रहे हैं और पालिका प्रशासन के द्वारा मिलने वाली सफाई, प्रकाश, विकास की सुविधाएं मुंह चिढ़ा रही हैं। जीटी रोड से चंद कदम दूर नगर संसाधन केंद्र (बीआरसी) और आदर्श कंपोजिट विद्यालय खेलदार के गेट के सामने पालिका ने कूड़ा जमा करने का स्थान बना रखा है। आसपास के इलाकों से निकलने वाला कूड़ा सफाई कर्मी यहां डालते हैं। बच्चों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ने के कारण बेसिक शिक्षा विभाग के द्वारा कई बार शिकायत भी की गई है लेकिन सुनवाई न होने से लोगों के मन में खासी मायूसी है। कूड़ाघर के बगल ने निकलने वालों को सांस रोकनी पड़ती है या फिर नाक और मुंह पर रुमाल रखकर दूरी नापनी पड़ रही है। पश्चिम दिशा में बसे इस मुहल्ले में सफाई का सर्वथा अभाव है। नालियों में जमा सिल्ट इस बात की गवाही देते हैं कि जिम्मेदार किस तरह से खामियों में पर्दा डाल रहे हैं। मुहल्ले की प्रकाश व्यवस्था को लेकर कोई संतुष्ट नहीं दिख रहा है। लोगों का कहना है कि लगाई जाने वाली एलईडी टिकाऊ नहीं हैं। जलने वाली एलईडी से ज्यादा बुझी की संख्या है। वार्ड पर एक नजर

मुहल्ला : खेलदार

आबादी : 4768

प्रमुख समस्याएं : गंदगी, बदहाल स्ट्रीट लाइट, लटकते हुए बिजली के तार।

काम के बोझ की दुहाई

लोगों का कहना है कि सफाई कर्मियों को टोको तो कहते हैं कि काम बहुत है सफाई कर्मचारी कम हैं। ऐसे में कहां तक काम करें। सफाई निरीक्षक और पालिका कर्मचारियों की संख्या नहीं बढ़ता है। जहां पर भेजा जाता है वहां पर काम करते हैं। यही वजह है कि जगह जगह गंदगी का अंबार लगा हुआ है।

हादसे को न्योता दे रहे बिजली के तार

बीएसए दफ्तर की दीवार से सटे बिजली के नंगे तारों से करंट दौड़ाया जा रहा है। बिजली के तार इतने लटक रहे हैं कि सी भी दिन हादसा हो सकता है। इस रास्ते से जहां टीबी अस्पताल, सीएमओ दफ्तर और बीएसए आफिस, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) के वाहन निकलते हैं वहीं स्कूली बसों का आवागमन होता है। तार इतने लटके हुए हैं कि जरा सी असावधानी बड़े हादसे का कारण बन सकती है।

कूड़े में जानवरों का विचरण, फैलाते गंदगी

गंदे जानवरों में सूअर आदि के पालन में शासन ने रोक लगा रखी है। कूड़ा डंपिग प्वाइंट में इन जानवरों का विचरण कभी भी देखा जा सकता है। इतना ही नहीं बेसहारा गाय और सांड़ कूड़े में खाने की तलाश में विचरण करते हैं और कूड़ा सड़क तक फैलाते हैं।

समस्याओं का निस्तारण नहीं, करते अनसुनी

असल में नगर पालिका के जिम्मेदारों के अंदर न सुनने की आदत है। जनता समस्या बताती है तो उसे अनसुनी कर दिया जाता है।

आशीष सिंह, चौहान सफाई व्यवस्था कागजों में चकाचक ही दिखती है। मुहल्ले के अंदर दाखिल होते ही गंदगी के प्रमाण मिल जाएंगे।

राहुल गुप्ता

बीएसए दफ्तर के पास लगे बिजली के तार जमीन छूने केा आतुर दिखाई दे रहे हैं। कई बार शिकायत की जा चुकी है।

मोहम्मद नूर

जनता शिकायत करती है तो जनप्रतिनिधि अपना सुर अलापते रहते हैं। पूरा मुहल्ला समस्याओं से जकड़ा हुआ है।

संतोष गुप्ता मुहल्ले की समस्याएं संज्ञान में आते ही निदान करवाई जाती हैं। रही बात कूड़ा डंपिग प्वाइंट की तो कई बार जगह की तलाश करवाई गई है, लेकिन उपलब्ध नहीं हो पाई है। अभी भी प्रयास किए जा रहे हैं कि कूड़ा डंप करने की नई जगह मिल जाए। मुहल्ले का निरीक्षण करवाकर समस्याओं का निदान करवाया जाएगा।

मीरा सिंह, अधिशासी अधिकारी, नगर पालिका

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.