मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में 2707 रोगियों को दी गई दवा

मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में 2707 रोगियों को दी गई दवा

जागरण संवाददाता फर्रुखाबाद मुख्यमंत्री जन आरोग्य स्वास्थ्य मेला का आयोजन जनपद के 31 प्राथमिक स्वा

JagranSun, 24 Jan 2021 11:14 PM (IST)

जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : मुख्यमंत्री जन आरोग्य स्वास्थ्य मेला का आयोजन जनपद के 31 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर किया गया। यहां पर रोगियों की भीड़ उमड़ी। उधर मुख्य चिकित्साधिकारी ने तीन पीएचसी पर लगे मेले का निरीक्षण कर दिशा निर्देश दिए।

जनपद के 27 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर मुख्यमंत्री आरोग्य मेला लगाया गया। मुख्य चिकित्साधिकारी वंदना सिंह ने पीएचसी गदनपुर तुर्रा, जरारी और दरौरा का निरीक्षण किया। सीएमओ ने बताया कि जनपद के सभी पीएचसी पर आरोग्य मेले में 2707 रोगियों को दवा दी गई। आरोग्य मेले में उमड़ी भीड़

संवाद सूत्र, संकिसा : प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर आयोजित किए गए मुख्यमंत्री जन आरोग्य स्वास्थ्य मेले में मरीजों की भीड़ उमड़ी। डॉ. नीरज यादव ने बताया कि 83 मरीजों का चिकित्सीय परीक्षण कर दवाएं दी गई। उन्होंने बताया कि अधिकांश मरीज खुजली, शुगर और सर्दी जुखाम के आए। एएनएम ममता यादव ने गर्भवती महिलाओं का परीक्षण कर दवा दी। मेले में महिलाओं की संख्या अधिक रही। डॉ. धर्मेंद्र यादव, स्त्री रोग विशेषज्ञ श्वेता यादव, फार्मासिस्ट सुरेंद्र कुमार, एलटी देवेश कुमार, सीएचओ सुनीता वर्मा, एएनएम शानू चौहान, आशा बहुएं व आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं मौजूद रहीं। 60 जोड़ों के सामूहिक विवाह को मिला बजट

जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : जिला समाज कल्याण अधिकारी आरएल मिश्रा ने बताया कि जनपद को 60 जोड़ों के सामूहिक विवाह के लिए शासन की ओर से बजट उपलब्ध करा दिया गया है। गरीबी रेखा से नीचे के लाभार्थी युवतियां अथवा अभिभावक आवेदन कर सकते हैं।

उन्होंने बताया कि संबंधित खंड विकास अधिकारी, नगर क्षेत्र में निकाय कार्यालय अथवा जनपद मुख्यालय पर समाज कल्याण अधिकारी कार्यालय में आवेदन जमा किए जा सकते हैं। तलाक शुदा अथवा विधवा युवतियां भी पुनर्विवाह की स्थिति में सामूहिक विवाह अनुदान के लिए आवेदन कर सकती हैं। उन्होंने बताया कि सामूहिक विवाह का आयोजन अगले माह किया जाना है। योजना के अंतर्गत एक जोड़े के लिए 51 हजार रुपये का अनुदान मिलता है। इसमें से 35 हजार रुपये युवती के खाते में भेजे जाते हैं। 10 हजार रुपये की धनराशि से कपड़े व अन्य उपहारों की व्यवस्था की जाती है। शेष छह हजार रुपये आयोजन पर व्यय किए जाते हैं। दो लाख रुपये से कम की वार्षिक आय वाले परिवार योजना का लाभ उठा सकते हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.