प्रांतीय बैठक में शिक्षक समायोजन में अनियमितता की गूंज

प्रांतीय बैठक में शिक्षक समायोजन में अनियमितता की गूंज

अयोध्या शिक्षक समायोजन की काउंसिलिग प्रक्रिया आरोपों के घेरे में है। रविवार को यह प्रकरण प्रांतीय नेताओं के समक्ष लखनऊ में उठा। सभी ने एक स्वर से इसके विरोध पर सहमति जताई। जिले के पदाधिकारियों को साक्ष्य सहित आमंत्रित किया गया। साथ ही मनमाने तरीके से संपन्न कराई गई काउंसिलिग प्रक्रिया पर रोष भी व्यक्त किया गया। प्रवक्ता ओम प्रकाश यादव ने बताया कि उत्तर प्रदेशीय शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष नीलमणि त्रिपाठी ने प्रदेश अध्यक्ष डॉ. दिनेश चंद्र शर्मा को पूरी जानकारी दी।

JagranSun, 18 Aug 2019 11:36 PM (IST)

अयोध्या: शिक्षक समायोजन की काउंसिलिग प्रक्रिया आरोपों के घेरे में है। रविवार को यह प्रकरण प्रांतीय नेताओं के समक्ष लखनऊ में उठा। सभी ने एक स्वर से इसके विरोध पर सहमति जताई। जिले के पदाधिकारियों को साक्ष्य सहित आमंत्रित किया गया। साथ ही मनमाने तरीके से संपन्न कराई गई काउंसिलिग प्रक्रिया पर रोष भी व्यक्त किया गया। प्रवक्ता ओम प्रकाश यादव ने बताया कि उत्तर प्रदेशीय शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष नीलमणि त्रिपाठी ने प्रदेश अध्यक्ष डॉ. दिनेश चंद्र शर्मा को पूरी जानकारी दी। साथ ही बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल के सदन में दिए गए जबाव की वह कॉपी थमाई, जिसमें समायोजन प्रकिया के तहत प्रधानाध्यापकों को न हटाए जाने की बात कही गई है। नीलमणि ने बताया कि गत 18 जुलाई को एमएलसी केदारनाथ सिंह व डॉ. जयपाल सिंह ने विधान परिषद में इस पर सवाल उठाया था, जबाब में बेसिक शिक्षा मंत्री ने साफ तौर पर कहा कि समायोजन प्रक्रिया में तीन अगस्त 2018 का शासनादेश प्रभावी रहेगा। इस शासनादेश के क्रमांक दो में शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 का उल्लेख है, जिसमें 150 छात्रसंख्या वाले प्राथमिक विद्यालयों व 100 छात्रसंख्या वाले जूनियर विद्यालयों में प्रधानाध्यापकों का पद न होने की बात कही गई है, लेकिन इसी में पूर्व से तैनात प्रधानाध्यापक को न हटाए जाने का भी उल्लेख है। नीलमणि ने बताया कि इसका काउंसिलिग में उल्लंघन हुआ है। साथ ही काउंसिलिग के पहले प्रकाशित सूची पर आपत्ति के लिए पर्याप्त समय भी नहीं दिया गया। दूसरी ओर सूची प्रकाशित होते ही शिक्षक संघ न्यायालय की शरण में भी जाएगा, इसकी तैयारी की जा रही है। जिला मंत्री अजीत सिंह ने कहा कि महिला व दिव्यांग शिक्षकों के साथ अन्याय किया गया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.