Ayodhya Ram Mandir : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्र से रामनगरी के विकास को लगे पंख, अमल भी शुरू

Ayodhya Ram Mandir : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्र से रामनगरी के विकास को लगे पंख, अमल भी शुरू

Ayodhya Ram Mandir श्रीराम मंदिर की भव्यता के अनुरूप नगरी को सुंदर और व्यवस्थित बनाने की कार्य योजना में नगर निगम और विकास प्राधिकरण जुट गए हैं।

Publish Date:Fri, 07 Aug 2020 06:00 AM (IST) Author: Umesh Tiwari

अयोध्या [रविप्रकाश श्रीवास्तव]। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आगमन रामनगरी की विकास योजनाओं को नई रफ्तार दे गया। पीएम मोदी ने आर्थिक विकास का जो सूत्र दिया अगले दिन से ही उस पर अमल भी होता दिखने लगा है। समीक्षा के लिए फाइलें आलमारी से टेबल पर आ गई हैं। श्रीराम मंदिर की भव्यता के अनुरूप नगरी को सुंदर और व्यवस्थित बनाने की कार्य योजना में नगर निगम और विकास प्राधिकरण जुट गए हैं। रामनगरी के विकास से जुड़ी महत्वपूर्ण योजनाओं में स्मार्ट सिटी और नव्य अयोध्या की योजना को यथाशीघ्र जमीन पर उतारने की कवायद जोर पकड़ चुकी है।

रामनगरी अयोध्या के नगर आयुक्त डॉ. नीरज शुक्ल ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सूत्र से विकास योजनाओं को ऊर्जा मिली है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले से ही रामनगरी को विकास को शीर्ष प्राथमिकता में रख कर चल रहे हैं। रामनगरी को प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की मंशा के मुताबिक विकास योजनाओं पर त्वरित कार्य शुरू करना है।

250 करोड़ की स्मार्ट सिटी : अयोध्या को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाना है। ऐतिहासिकता, हेरिटेज के साथ आधुनिक होटल, आवास, विद्यालय, सड़क, तकनीक से सुसज्जित कई सुविधाएं, आधुनिक उद्यान, ट्रैफिक, पुलिस व्यवस्था आदि की स्थापना की जानी है। इस योजना पर लगभग 250 करोड़ रुपये खर्च किया जाना है। इस योजना के पीछे शासन की मंशा अयोध्या को अंतरराष्ट्रीय स्तर की नगरी के रूप में विकसित करने की है।

700 एकड़ की नव्य अयोध्या : रामनगरी के समानांतर नव्य अयोध्या बसाने की भी योजना है। 700 एकड़ की इस योजना को लेकर अभी जमीनी तैयारी चल रही है। यह नई टाउनशिप होगी। यह नगरी अयोध्या का आधुनिक चेहरा होगी और विदेशी पर्यटकों को केंद्र में रखते हुए बसाई जाएगी। यह अयोध्या से करीब दो किलोमीटर दूर शाहनेवाजपुर ग्राम के निकट बसेगी। नव्य अयोध्या में फाइव स्टार होटल, रिवर साइड रिसॉर्ट, मल्टी स्टोरी बिल्डिंग, आवासीय और व्यावसायिक भूखंड, बेहतरीन मार्ग, भूमिगत ड्रेनेज सिस्टम शामिल होंगे।

सूर्य की तरह चमकेगा सूर्यकुंड : रामनगरी से सटे ऐतिहासिक सूर्यकुंड को सूर्य की तरह चमकाने की योजना है। पर्यटन को दृष्टिगत रखते हुए सूर्यकुंड को विकसित किया जाएगा। लाइट एंड साउंड शो, नियमित सांस्कृतिक कार्यक्रम, यज्ञशाला, ध्यान केंद्र, चारदीवारी सहित सुंदरीकरण के कई कार्य कराए जाने हैं।

स्मार्ट रोड : अयोध्या-फैजाबाद मुख्य मार्ग पर जालपा चौराहा स्थित प्रवेश द्वार से रामघाट तक करीब साढ़े चार किलोमीटर का मार्ग स्मार्ट रोड के रूप में विकसित होना है। स्मार्ट रोड की विस्तृत कार्ययोजना नगर विकास विभाग की ओर से नामित एक संस्था तैयार कर रही है। मार्ग को इस तरह से विकसित किया जाएगा कि नगरी में प्रवेश करते ही पर्यटकों एवं श्रद्धालुओं को सुखद एहसास हो।

दौड़ेगी सिटी वॉक योजना : पर्यटकों को रामनगरी के धर्मस्थलों की सैर कराने के लिए नगर निगम ने सिटी वॉक योजना बनाई है। इसमें अब रामनगरी से सटे आसपास के जिलों में 60 किलोमीटर परिधि के भीतर स्थित धार्मिक स्थलों को भी शामिल किया गया है। सिटी वॉक गोंडा, बाराबंकी, अंबेडकरनगर, सुल्तानपुर, बस्ती जिले की ख्याति को भी बढ़ाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.