बिजली चोरी पकड़ने को विजिलेंस टीम संग निकले अधिकारी

जागरण संवाददाता इटावा बिजली चोरी रोकने के लिए बिजली विभाग के अधिकारियों ने विजिलेंस क

JagranWed, 28 Jul 2021 05:08 PM (IST)
बिजली चोरी पकड़ने को विजिलेंस टीम संग निकले अधिकारी

जागरण संवाददाता, इटावा : बिजली चोरी रोकने के लिए बिजली विभाग के अधिकारियों ने विजिलेंस की टीमों के साथ संयुक्त छापेमारी की। जिसमें 10 चोरी के मामले पकड़े गए। शहर के साथ अब ग्रामीण इलाकों में भी बिजली चोरों के खिलाफ अभियान का चलाया जा रहा है। बुधवार की सुबह पांच से सात बजे तक शहर में अधिकारियों ने विशेष तलाशी अभियान चलाया। उपखंड अधिकारी सचिन कुमार और सुनील के नेतृत्व में अवर अभियंताओं ने फ्रेंड्स कालोनी पचावली के साथ ही सुंदरपुर उपकेंद्रों से पोषित क्षेत्रों को खंगाला। दो घंटे में टीमों द्वारा लगभग 100 घरों के कनेक्शनों की जांच की। जिसमें 10 घरों में बिजली की चोरी पकड़ी गई है। अधिकारियों का कहना है कि इनमें चार घरों में तो अतिरिक्त केबल डालकर बिजली जलाई जा रही थी। सभी के खिलाफ बिजली थाने में तहरीर दी गई है। कार्रवाई के दौरान अवर अभियंता विपिन कुमार, विनय शील च नवल किशोर भी शामिल थे।

अधिशासी अभियंता श्री प्रकाश का कहना है कि ट्रांसफार्मर और कनेक्शन बाक्स से कटिया पकडे़ जाने पर एफआइआर दर्ज कराई जाएगी। प्रतिदिन अभियान का संचालन कराया जा रहा है। इस दौरान उपखंड अधिकारी सचिन कुमार ने बताया कि विभाग की नजर अब छोटे कामर्शियल कनेक्शनो पर भी है उनको भी काटा जाएगा।

------------

अब ट्रांसफार्मर बताएंगे कितनी हो रही बिजली चोरी

जागरण संवाददाता, इटावा : बिजली चोरी रोकने के लिए अपनाए गए सभी हथकंडे लगभग फेल हो रहे हैं। अब विभाग तकनीकी का सहारा लेने की तैयारी कर रहा है। सभी ट्रांसफार्मरों पर कालोनी में स्वीकृत लोड के आधार पर मीटर लगाए जाएंगे। जो बताएंगे कि कितनी बिजली चोरी हो रही है। अगर ट्रांसफार्मरों के मीटर की रीडिग स्वीकृत लोड से ज्यादा मिलती है तो उस कालोनी को चोरी के दायरे में रखकर छापामार कार्रवाई की जाएगी।

अधीक्षण अभियंता संदीप अग्रवाल का कहना है कि कालोनियों के स्वीकृत लोड के अनुसार ही आपूर्ति के लिए ट्रांसफार्मर लगवाए जाते हैं। इनकी क्षमता इतनी रखी जाती है कि ये पूरी कालोनी का लोड आसानी से संभाल सकें, लेकिन कालोनी में ज्यादातर अनाधिकृत कनेक्शन की वजह से लोड बढ़ जाता है। कालोनियों के ऐसे बिजली चोरों को पकड़ने के लिए अब मीटरों का सहारा लिया जाएगा। सभी ट्रांसफार्मरों पर कालोनी के स्वीकृत लोड के अनुसार मीटर लगाए जाएंगे। यदि कालोनी के स्वीकृत लोड से मीटर में लोड ज्यादा दिखाया जाएगा तो यह माना जाएगा कि संबंधित कालोनी में बिजली चोरी हो रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.