दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

अधिशासी अभियंता लघु सिचाई की कोरोना से मौत

अधिशासी अभियंता लघु सिचाई की कोरोना से मौत

जागरण संवाददाता इटावा जनपद में गुरुवार को एक दुखद खबर आई। अधिशासी अभियंता लघु सिचाई ड

JagranThu, 06 May 2021 06:14 PM (IST)

जागरण संवाददाता, इटावा : जनपद में गुरुवार को एक दुखद खबर आई। अधिशासी अभियंता लघु सिचाई डीडी वर्मा की बुधवार को लखनऊ में कोरोना संक्रमण के चलते मौत हो गई। सीडीओ प्रेरणा सिंह ने बताया कि उनकी मौत की खबर उनके पास आ गई है। वे एक अच्छे अधिकारी थे। पिछले 10-15 दिन से उनकी तबीयत ज्यादा खराब हो गई थी और संक्रमण से जूझ रहे थे। बुधवार को उनकी मृत्यु हो गई। उन्होंने बताया कि पंचायत चुनाव में वे मास्टर ट्रेनर थे और अच्छा काम किया था। गुरुवार को नए संक्रमित लगातार दूसरे दिन भी कम संख्या में आए। 155 मामले सामने आए। इनमें शहरी क्षेत्र के 56 व ग्रामीण क्षेत्र के 92 व अन्य सात मामले शामिल हैं। सैंपलिग प्रभारी डॉ. सुशील कुमार यादव ने बताया कि गुरुवार को निकले मामलों में जिला अस्पताल, नगला बाबा, गाड़ीपुरा, अड्डा जालिम, फ्रेंड्स कालोनी, विकास कालोनी भाग दो, सुल्तानपुर कला, रेलवे स्टेशन इटावा, न्यू तुलसी नगर, यादव नगर, रतन नगर, कृष्णा कालोनी, राजपूत कालोनी, कटरा शमशेर खां, मोतीझील कालोनी आदि शामिल हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी के मामले भी दो दर्जन से अधिक आए हैं। इसके अलावा उदी मोड़ ने भी प्रमुखता से स्थान बनाया है। गुरुवार को तीन लोगों की मौत भी हो गई। इनमें बसरेहर की दो महिलाएं एक 90 वर्षीय व एक 65 वर्षीय शामिल है जबकि सैफई की एक 55 वर्षीय महिला की मौत हुई है। एनएचएम प्रभारी संदीप दीक्षित ने बताया कि गुरुवार को 261 लोग स्वस्थ भी हुए हैं। संक्रमित को किया होम आइसोलेट भरथना : कोविड प्रभारी रामजी भदौरिया ने बताया कि गुरुवार को सीएमओ कार्यालय से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार नगर के मोहल्ला यादव नगर तथा राजागंज में एक-एक कोरोना संक्रमित मरीज पाया गया है। इनमें से राजागंज निवासी व्यक्ति लखनऊ में चिकित्सा लाभ ले रहा है, जबकि यादव नगर के मरीज को होम आइसोलेट किया गया है। जिला मुख्यालय से आयी स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा एक दर्जन से अधिक व्यक्तियों की कोरोना संक्रमण जांच की गई है। जिले की लिस्ट में फीडिग मिस्टेक जसवंतनगर : सिक्सलेन हाइवे और ओवरब्रिज बनाने वाली ओरिएंट स्ट्रक्चर कंपनी प्राइवेट लिमिटिड कंपनी में काम करने वाले 22 कर्मियों के नाम कोरोना पॉजिटिव की लिस्ट में आने से जसवंतनगर में गुरुवार को हड़कंप कट गया। दरअसल लिस्ट में जो नाम थे वह इस कंपनी के जसवंतनगर के कैंप के लोगों के थे। कंपनी के कर्मी कैस्थ गांव स्थित तहसील के करीब कचौरा बाईपास पर कैंप में आवासित है। जिले की गुरुवार को निकली कोरोना लिस्ट में कुल 155 नाम थे, जिनमें 26 जसवंतनगर के थे। चार लोग क्रमश: झीला गांव के 2, कुरसैना गांव का 1 और एक सीएचसी जसवंतनगर का निवासी था। अकेले 22 नाम इस कंस्ट्रक्शन कंपनी के कोरोना पॉजिटिव दर्शाए गए थे। लिस्ट में इन सबको एंटीजन टेस्ट में कोरोना पॉजिटिव घोषित किया गया था। 5 मई को इनका टेस्ट होना और टेस्ट स्वास्थ्य विभाग की टी-3 टीम द्वारा किया बताया गया था। सोशल मीडिया पर जैसे ही इस कंपनी के 22 कर्मियों के पॉजिटिव होने की खबर चली, कंपनी के लोग भौचक्के रह गए, क्योंकि किसी कर्मी का एंटीजन टेस्ट 4 या 5 मई को हुआ हीं नही था। पहले हुआ था, तब कोई पॉजिटिव नहीं निकला था। कंपनी के जसवंतनगर प्रभारी मुन्ना सिंह आदि ने सीएचसी जसवंतनगर के प्रभारी से बात की, अन्य अफसरों की कुंडी भी खटखटायी। बाद में इटावा कोरोना फीडिग कंट्रोल और सीएमओ तक को सूचना दी गयी। छानबीन के बाद दोपहर सीएचसी जसवंतनगर प्रभारी डॉ. सुशील कुमार ने जानकारी देते हुए साफ किया कि कंप्यूटर ऑपरेटर की गलती से ये कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मी जिला लिस्ट में निगेटिव की जगह पॉजिटिव दर्ज हो गए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.