कोरोना के चलते रामलीला मंचन पर लगा ग्रहण

जागरण संवाददाता इटावा कोरोना काल के चलते रामलीला के आयोजनों पर लगा ग्रहण अभी बरकरा

JagranFri, 01 Oct 2021 06:31 PM (IST)
कोरोना के चलते रामलीला मंचन पर लगा ग्रहण

जागरण संवाददाता, इटावा : कोरोना काल के चलते रामलीला के आयोजनों पर लगा ग्रहण अभी बरकरार बना हुआ है। कई जगह तो पूर्व विराम लगा हुआ है तो कुछ स्थानों संशय बरकरार है। शासन ने तीन दिन पूर्व रामलीला का मंचन कराने का निर्देश जारी कर दिया है लेकिन अभी तक कोई स्पष्ट गाइड लाइन जारी नहीं की है। दूसरी ओर मंचन का समय नजदीक होने से अधिकतर आयोजक अधूरी तैयारियों के साथ रामलीला कराना सही नहीं मान रहे हैं।

कोरोना काल से पूर्व विश्व विख्यात जसवंतनगर की मैदानी रामलीला, बसरेहर, लखना, शहर में पुरानी रामलीला और नई मंडी रामलीला, इकदिल, चितभवन, लखना, महेवा, अहेरीपुर, सरसई नावर सहित जनपद के अन्य कई प्रमुख स्थानों पर अश्विन मास में पितृपक्ष की एकादशी से शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तक रामलीला का आयोजन होता था जसवंतनगर में यह कार्यक्रम और अधिक दिनों तक होता था। बीते साल कोरोना काल के दौरान महज 100 दर्शकों की क्षमता के साथ रामलीला का मंचन कराने की अनुमति दी गई थी लेकिन अधिकतर आयोजकों ने गाइड लाइन का पालन करने में असर्मथता प्रकट कर दी थी। बसरेहर तथा कुछ स्थानों पर पखवारे के बजाए दस दिवसीय रामलीला का मंचन कराया। भगवान भोलेनाथ, श्रीराम की बारात और जुलूस कोई नहीं निकाल पाया था। इस साल शासन ने रामलीला का आयोजन कराने का निर्देश दिया तो भी कई जगह रामलीला पर पूर्ण विराम लगा हुआ है। पूर्ण विराम वाली रामलीला

शहर में नई मंडी में रामलीला कराने वाली समिति के सूचना मंत्री सतीश यादव का कहना है कि ऐन वक्त पर आयोजन कराने का आदेश होने से तैयारियां होना मुश्किल हैं इसलिए आयोजन बीते साल की भांति निरस्त रहेगा। लखना रामलीला कमेटी के निवर्तमान महामंत्री संजीव त्रिपाठी का कहना है कि कमेटी भंग होने से कोई रणनीति नहीं बन पाई इससे आयोजन इस साल भी निरस्त रहेगा। भरथना रामलीला समिति के अध्यक्ष सुनील यादव पूर्व प्रधान का कहना है कि एक-दो दिन की आंशिक रामलीला कराने का प्रयास किया जाएगा। दस दिवसीय रामलीला की तैयारियां

प्रसपा राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने जसवंतनगर की रामलीला की सराहना करते हुए इस साल रामलीला कराने की मंशा जाहिर की तो वहां की कमेटी ने दस दिवसीय रामलीला कराने की तैयारियां शुरू कर दी है। इसी तरह बसरेहर में रामलीला कराने की तैयारियां जोरों पर है। शहर की पुरानी रामलीला समिति के अध्यक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता संजय दुबे पप्पनजी का कहना है कि शासन ने जो छूट दी है उसके अनुरूप दस दिवसीय रामलीला कराने पर विचार किया जा रहा है। शासन ने अभी नई गाइड लाइन जारी नहीं की है। बीते साल की भांति कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए 100 लोगों की संख्या में मंचन कराने की अनुमति दी जा सकती है।

- सिद्धार्थ एसडीएम सदर

--------------

मंचीय नहीं केवल मैदानी लीलाएं होंगी

संवाद सहयोगी, जसवंतनगर : यूनेस्को द्वारा विश्वधरोहर के रूप में घोषित जसवंतनगर की मैदानी रामलीला का 11 दिवसीय आयोजन शुक्रवार को घोषित कर दिया गया। मंचीय लीला नहीं होंगी, मैदानी लीलाओं का प्रदर्शन होगा। समिति के प्रबंधक राजीव गुप्ता ने कार्यक्रम की घोषणा पत्रकारों से वार्ता करते हुए की। उन्होंने कहा कि 161 वर्ष का इतिहास रखने वाली जसवंतनगर की रामलीला पिछले वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते नही हो सकी थी। इस साल आठ अक्टूबर को तालाब मंदिर पर श्रीराम वनवास की लीला के साथ महोत्सव शुरू होगा। नौ अक्टूबर को भरत मनौआ तथा मिलाप, 10 को जयंत की आंख फोड़ना, सूपर्णखां की नाक कटना, खरदूषण बध, रावण मारीच वार्ता, 11 को सीताहरण, सुग्रीव मिलाप, 12 को बालि बध, अक्षय वध व लंका दहन, 13 को अंगद-रावण संवाद, लक्ष्मण शक्ति लीला होगी। 14 अक्टूबर को नाग फांस, मेघनाद-कुम्भकर्ण वध तथा 15 को दशहरा अहिरावण, नारायणंतक व रावण बध होगा। 14 और 15 कि इन लीलाओं का प्रदर्शन नगर की सड़कों पर परंपरागत तरीके से होगा। 16 अक्टूबर को तालाब मंदिर पर भरत मिलाप, 17 को नगर भ्रमण और 18 को चौक कटरा पुख्ता में राम राज्याभिषेक और सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ रामलीला महोत्सव का समापन होगा। उन्होंने बताया कि कोरोना काल तथा संक्रामक रोगों के कारण रात्रिकालीन अखिल भारतीय कवि सम्मेलन और रास लीला आदि कार्यक्रम इस वर्ष आयोजित न करने का निर्णय लिया गया है। राम बारात भी नहीं निकलेगी, मेला बाजार, खेल तमाशे लगेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.