कागजों की गोशाला में कागजी गोवंश

केस-1

पशुपालन विभाग ने समथर में बनी गोशाला में 142 नर एवं 111 मादा मवेशी रखे जाने की बात कही है। जबकि बताये स्थान पर अभी गढ्डे ही खोदे गये हैं। मंगलवार को वहां एक ट्रक से मौरंग उतारते मिली। वहां मौजूद प्रधान प्रतिनिधि सुलखान ¨सह ने बताया उन्हें एक दिन पहले ही नक्शा मिला है। उसके अगले दिन ही काम शुरू कर दिया गया है। यहां जानवरों को रखे जाने की बात गलत है। यहां कुछ जानवर चरने जरूर आ जाते हैं।

केस-2

मोहरी ऊसराहार में विभाग ने जिस स्थान पर 138 अन्ना मवेशी एवं गाय को रखने की बात कही है, वहां दो दिन पहले ही उप जिलाधिकारी ताखा ने स्वयं निरीक्षण किया। मौके पर अभी तक खाईं ही खुदी मिली। एसडीएम ने ग्राम प्रधान को बाउंड्री वॉल एवं टीनसैड डलवाने के निर्देश दिए हैं। सोमवार को यहां बच्चे क्रिकेट खेलते नजर आ रहे थे।

संवाद सूत्र, ऊसराहार: फर्जी सूचनाएं और आंकड़ों के सहारे शासन प्रशासन को किस तरह गुमराह किया जाता है, इसको कोई पशुपालन विभाग सीखे। इस समय पूरे ताखा तहसील के किसान अन्ना मवेशियों से बेहाल हैं। इनको गोशालाओं में रखने की जगह विभाग कागजों में खेल कर रहा है। अपने कागजी खानापूर्ति में विभाग ने क्षेत्र के नौ स्थानों पर 2119 मवेशी रखने का दावा किया है। जबकि कहीं गोशाला बनी तक नहीं है।

कहीं नाप-तौल तो कहीं गढ्डे

विभाग का खेल देखिए, पारदर्शिता रखने के लिए इस संख्या में नर मवेशी 927 एवं मादा यानी गायों की संख्या 1192 बताई है। जागरण टीम ने जब इसकी धरातल पर वास्तविकता परखी तो मामला कुछ और ही नजर आया। जिन नौ स्थलों पर जानवर रखने की बात कही जा रही है उसमें कोई भी गोशाला अभी बनी नहीं है। सिर्फ जगह की नापतौल हो रही है। कुछ स्थानों पर मिट्टी की मोटी बाउंड्री बन रही है। ताखा क्षेत्र के ¨हदूपुर वैदपुर में 299 जानवरों को रखे जाने का दावा किया गया है जबकि इस स्थान पर मात्र मिट्टी की खाई ही पाटी गई है।

जब किसान के पास हैं जानवर तो गोशाला में क्यों बता रहे अधिकारी

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डीके शर्मा से बात की गई तो उन्होंने बताया ताखा में जो संख्या जानवरों की बताई जा रही है, यह जानवर पशुपालक अपने पास रखे हुए हैं और उन्हें चिन्हित कर छल्ले लगाए गए हैं। अगर ऐसा है तो इन्हें गोशाला में रखने की बात कहकर क्यों गुमराह किया गया? ऊसराहार में ही 200 से अधिक जानवर कस्बा के मेन तिराहे के आसपास घूमते हुए नजर आते हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.