19 केंद्रों पर 26 स्टेटिक मजिस्ट्रेटों की रहेगी निगरानी

जागरण संवाददाता, एटा: यूपी टीईटी 2018 के लिए जिला स्तर पर तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। पिछले महीने बीटीसी का पेपर लीक हो जाने के कारण निरस्त हुई परीक्षा के बाद टीईटी को शांतिपूर्ण व नकलविहीन कराना प्रशासन के लिए कम चुनौतीपूर्ण नहीं है। यही वजह है कि इस बार परीक्षा की निगरानी को पूर्व की परीक्षाओं से भी ज्यादा दल बल जुटाया गया है।

शासन द्वारा निर्धारित 19 परीक्षा केंद्रों के लिए 26 स्टेटिक मजिस्ट्रेट तैनात किये गए हैं। इसके अलावा प्रत्येक केंद्र पर दो पर्यवेक्षक जिनमें एक प्रशासनिक व दूसरा विभागीय स्तर से भी नियुक्त किया गया है।

18 नवंबर को होने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए 19 बनाए गए हैं। इन केंद्रों पर 10310 परीक्षार्थी प्राथमिक तथा 4631 परीक्षार्थी उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में सम्मिलित होंगे। केंद्रों पर प्रश्नपत्र खुलवाने से लेकर उत्तर पुस्तिकाएं सुरक्षित स्ट्रांग रूम तक पहुंचाने के लिए निगरानी को 26 स्टेटिक मजिस्ट्रेट जिनमें एसडीएम व जिला स्तरीय अधिकारियों की ड्यूटी निर्धारित की गई हैं। 19 पर्यवेक्षक केंद्रवार प्रशासन व 19 पर्यवेक्षक शिक्षा विभाग द्वारा पूर्ण पर्यवेक्षण के लिए लगाए गए हैं। परीक्षा के मद्देनजर सभी केंद्रों को अभी से तैयारियां पूरी रखने के लिए कहा गया है। डीएम ने भी जिम्मेदारों को चेताया

-------

टीईटी परीक्षा को लेकर कलक्ट्रेट सभागार में सभी स्टेटिक मजिस्ट्रेट, केंद्र व्यवस्थापक, पर्यवेक्षक की बैठक में डीएम आइपी पांडेय ने सभी को चेताया कि परीक्षा शांतिपूर्ण व नकलविहीन संपन्न करानी है। किसी स्तर पर कोई चूक नहीं होनी चाहिए। परीक्षा दिवस केंद्रों पर प्रश्नपत्रों की गोपनीयता पर खास गौर किया जाए। परीक्षार्थियों की तलाशी के साथ-साथ केंद्रों के आसपास फोटो स्टेट की दुकानें पूरी तरह बंद रहें। केंद्रों पर पर्याप्त पुलिस बल रहेगा। सीसीटीवी कैमरे और रिकॉर्डिग सुरक्षित रखी जाए। एडीएम धर्मेंद्र ¨सह ने भी दिशानिर्देश दिए। बैठक में सभी एसडीएम व जिला स्तरीय अधिकारियों के अलावा शिक्षा विभाग के अधिकारी मौजूद थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.