एरिया डोमिनेशन में पुलिस-प्रशासन ने दिखाई ताकत, गड़बड़ी करने वालों की खैर नहीं

एरिया डोमिनेशन में पुलिस-प्रशासन ने दिखाई ताकत, गड़बड़ी करने वालों की खैर नहीं

पंचायत चुनाव के मद्देनजर एरिया डोमिनेशन के तहत पुलिस प्रशासन ने ग्रामीण्

JagranTue, 13 Apr 2021 05:58 AM (IST)

जागरण संवाददाता, एटा: पंचायत चुनाव के मद्देनजर एरिया डोमिनेशन के तहत पुलिस प्रशासन ने ग्रामीण क्षेत्रों में ताकत का अहसास कराया। गड़बड़ी के इरादे पालने वालों को डीएम-एसएसपी ने सीधे लहजे में चेतावनी दी कि अगर चुनाव में किसी ने व्यवधान पहुंचाने की कोशिश की तो उसकी खैर नहीं। मतदाताओं से कहा कि पुलिस-प्रशासन उनकी रक्षा के लिए खड़ा है। निर्भीक होकर मतदान केंद्र पर जाएं और वोट करें।

जिलाधिकारी डा. विभा चहल, एसएसपी उदयशंकर सिंह तथा सभी जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट व खासी तादाद में पुलिस फोर्स का काफिला कलक्ट्रेट से सुबह 9 बजे ग्रामीण क्षेत्रों के लिए रवाना हुआ। एटा से शिकोहाबाद रोड होते हुए निधौली खुर्द, फफोतू, घुमरिया, भावरपुर, रजकोट, उम्मेदपुर, बहलोलपुर सकीट, नगला काजी, दत्तपुर, कुंजपुर, इशारा पश्चिमी, गढि़या कौंची, आसपुर रोड होते हुए वापस एटा लौटा। पूर्व माध्यमिक विद्यालय फफोतू पर ग्रामीणों से संवाद करते हुए पूर्व माध्यमिक विद्यालय पर जनसमुदाय से डीएम ने कहा कि लोकतंत्र में पंचायत चुनाव बेहद महत्वपूर्ण है। इसलिए इस चुनाव में प्रत्येक मतदाता को वोट डालने मतदान केंद्र पर अवश्य जाना चाहिए। सभी मताधिकार का प्रयोग करें। एसएसपी उदयशंकर सिंह ने ग्रामीणों से कहा कि वोट डालने के लिए अगर कोई उन्हें धमकाता है तो तत्काल पुलिस को सूचना दें। पुलिस मौके पर पहुंचकर धमकाने वालों को सबक सिखाएगी। कहीं भी शांति व्यवस्था भंग नहीं होने दी जाएगी।

अधिकारियों ने ग्राम पंचायत भांवरपुर के आंगनबाड़ी केंद्र पर भी ग्रामीणों से बातचीत की। ग्रामीणों ने जो शिकायतें कीं, उनका निस्तारण भी मौके पर ही किया गया। ग्रामीणों को आचार संहिता से संबंधित बातें भी बताई गईं। इस दौरान उपजिला निर्वाचन अधिकारी सुनील कुमार सिंह, एडीएम प्रशासन विवेक कुमार मिश्र, एसडीएम अबुल कलाम, क्षेत्राधिकारी सकीट कमलेश त्रिवेदी, सकीट विकास खंड क्षेत्र के सभी सेक्टर एवं जोनल मजिस्ट्रेट मौजूद रहे। सामान बांटना प्रतिबंधित जिलाधिकारी एवं एसएसपी ने ग्रामीणों से कहा कि मतदान से पूर्व ग्रामीणों को सामान बांटना और सामूहिक भोज देना पूरी तरह प्रतिबंधित है। अगर इस तरह की कोई सूचना मिलती है तो तत्काल लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के उल्लंघन की एफआइआर दर्ज की जाएगी। बूथों का किया निरीक्षण

-------

भ्रमण के दौरान गांवों में अधिकारियों ने बूथों का भी निरीक्षण किया। वहां जो भी खामियां मिलीं, उन्हें दूर कराया गया। इस दौरान सेक्टर मजिस्ट्रेटों को निर्देश दिए गए कि वे निरंतर बूथों का भ्रमण अवश्य करते रहें।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.