सौ से अधिक मकानों से वाशिंदों का पलायन

श्याम बिहार कालोनी के बाद वर्मा नगर और संजय नगर की ओर बढ़ रहा ईसन नदी का पानी

JagranSat, 24 Jul 2021 05:38 AM (IST)
सौ से अधिक मकानों से वाशिंदों का पलायन

जागरण संवाददाता, एटा: शहर के मुहल्ला श्याम बिहार कालोनी में ईसन नदी के पानी का कहर नहीं थम रहा। तीसरे दिन हालात और ज्यादा बिगड़ गए और पलायन करने वालों की संख्या भी बढ़ गई है। लोग अपना सामान लेकर जा रहे हैं।सौ से अधिक मकान मुहल्लेवासियों ने खाली कर दिए हैं। प्रशासन की ओर से अभी तक कोई राहत शिविर नहीं लगाया गया है। नदी का पानी दूसरे मुहल्लों की ओर भी बढ़ रहा है।।

शुक्रवार सुबह तेज बारिश के दौरान ईसन नदी का जलस्तर और बढ़ गया। नदी फिर से उफनने लगी। श्याम बिहार कालोनी के घरों में ईसन नदी का पानी पहले से ही भरा हुआ था। नदी जब और उफनी तो पानी का दबाव और ज्यादा बढ़ गया। ऐसे में लोगों ने घर छोड़ना ही मुनासिब समझा। वे घरों से सामान निकालकर कर बच्चे और बुजुर्ग लोगों को साथ लेकर पलायन करते हुए दिखाई दिए। उनका कहना था कि ईसन नदी और मुहल्ले में पानी का स्तर कम नहीं हो रहा। ऐसे में मकान ढह सकते हैं। छोटे बच्चों को पानी से खतरा है, इसलिए घर छोड़ देना ही उचित है।

वहीं दूसरी तरफ एसडीएम सदर अलंकार अग्निहोत्री, अधिशासी अभियंता सिचाई विभाग एएस भारती एवं ईओ डा. दीप कुमार वाष्र्णेय ने ईसन नदी पर पहुंचकर हालत देखे। अधिकारियों ने जलस्तर कम करने के लिए मशीन से नहर की सफाई कराई। इसके साथ ही आगरा रोड से अतिक्रमण भी हटवाया। हालांकि लोगों को इससे कोई ज्यादा राहत नहीं मिल सकी। नदी का पानी अब वर्मा नगर और संजय नगर की ओर भी बढ़ रहा है। इन दोनों मुहल्लों के लोग इन हालातों से हलकान हैं। कालोनी में विद्युत आपूर्ति ठप:

श्याम बिहार कालोनी में हुए दो से तीन फुट तक जलभराव के बाद विद्युत विभाग ने मुहल्ले की बिजली सप्लाई काट दी है। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि जलभराव के वक्त सप्लाई छोड़ने पर कोई भी बड़ा हादसा हो सकता है। विद्युत सप्लाई न मिलने के कारण लोग पेयजल नहीं जुटा पा रहे हैं। इसके कारण घरों में खाना तैयार नहीं हो पा रहा है। ऐसे में लोग अपने-अपने गांव में पलायन कर रहे हैं। प्रशासन ने नहीं लगाया राहत शिविर:

श्याम बिहार कालोनी से एक तरफ लोग बड़ी संख्या में पलायन कर रहे हैं। वहीं प्रशासन ने अभी तक राहत शिविर नहीं लगाया है। लोग अपने ही सुरक्षित ठिकानों पर जाने के लिए विवश हैं। कई लोग ऐसे हैं जिनके पास पशु भी हैं। उनके सामने समस्या है कि पशुओं को कहां ले जाएं। पहली बार बनी यह स्थिति:

ईसन नदी को लोगों ने पहली बार इतना उफनते हुए देखा है। श्याम बिहार कालोनी निवासी बुजुर्ग नेत्रपाल सिंह ने बताया कि बारिश तो हर साल होती है, लेकिन कभी पानी का इतना कहर देखने को नहीं मिला। उनकी याद में पहली बार ईसन नदी यहां पर उफनते हुए देखी गई है जो घरों को अपने आगोश में ले रही है। कंट्रोल रूम स्थापित:

आपदा राहत के लिए जिला प्रशासन ने कंट्रोल रूम स्थापित किया है। इसका टोल फ्री नंबर भी जारी किया गया है। अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व सुनील कुमार सिंह ने बताया कि कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है, जिसके नंबर-05742-234320, 234327, 233174, 297880, 297900, 297901, 297902, टोल फ्री नंबर-18001803841 हैं। इन नंबरों पर फोन कर आपदा राहत से संबंधित कोई भी शिकायत लोग दर्ज करा सकते हैं तथा सहायता भी मांग सकते हैं।

पापा हम कहां जा रहे हैं:

जलभराव से निकलने के बाद एक बच्ची ने अपने पिता से कहा कि पापा हम अपने घर से कहां जा रहे हैं। परिवार वाले बच्चों को समझा रहे हैं। लोगों का काफी सामान घरों में ही रह गया है। जलभराव के कारण लोग काफी परेशान हैं। वे बच्चों की चिता करते हुए मकान खाली करके अपना इधर उधर आशियाना ढूंढ रहे हैं।

मुहल्ले में तीसरे दिन भी प्रशासन की कवायद के बाद जलभराव में कमी नहीं हुई है। घरों के अंदर तक पानी भरा हुआ है। ऐसे में लोग मुहल्ले से पलायन कर रहे हैं।

-धनपालसिंह घर और सड़कों पर पानी भरने के कारण सभी आवागमन की व्यवस्थाएं बंद हो गई हैं। सब्जी आदि जरूरी सामान भी नहीं आ पा रहा है। इस कारण सौ से अधिक लोग पलायन कर चुके हैं।

-उपेन्द्र कुमार --------------------

ईसन नदी का पानी श्याम बिहार कालोनी में भर गया है, इस वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। प्रशासन लोगों की हरसंभव मदद कर रहा है। नदी की सफाई कराई जा रही है ताकि पानी आगे बढ़ सके।

- अलंकार अग्निहोत्री, उप जिलाधिकारी सदर, एटा

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.