धान की आवक से महकी मंडी, बना नया रिकार्ड

जागरण संवाददाता, एटा: प्रकृति का साथ मिला तो अन्नदाता और अब मुख्यालय स्थित मंडी भी सुगंधा धान की रिकॉर्ड आवक के साथ महक रही है। स्थिति यह है कि डेढ़ महीने में धान की रिकॉर्ड खरीददारी हुई है। वहीं एक सप्ताह से हर रोज सुबह से देर शाम तक बिकवाली को धान लेकर आने वाले किसानों के वाहनों की कतारें मंडी से लेकर अलीगंज रोड तक देखी जा सकती हैं। विकवाली और खरीद के रिकॉर्ड के साथ ही महीने के अंत तक आंकड़े और भी बेहतर होंगे।

जनपद में इस साल औसतन 400 से ज्यादा मिली मीटर बारिश के कारण किसानों के लिए धान अच्छी आमदनी का साधन बन गया। खास बात यह रही कि बारिश के कारण लागत कम और उत्पादन ज्यादा रहा। पिछले सालों से ही जिले के अधिकांश किसान सुगंधित धान की प्रजातियों का उत्पादन करने में दिलचस्पी लेते आए हैं। इस साल भी 25 से 26 हजार हेक्टेयर पर जिले में धान की फसल लहलहाई। जिसका परिणाम अब धान की मंडी में हो रही आवक को देख लग रहा है। सुगंधा धान 2200 से 2500 वहीं पी-10 प्रजाति का धान 2800 से 3000 रुपये प्रति कुंतल तक बिक रहा है। किसानों को अगली फसल बौने व निजी कार्यों के लिए पैसे की जरूरत भी है। सही भाव मिलने के कारण किसान धान घर रखने के बजाय बेचने में दिलचस्पी ले रहे हैं। वैसे तो दीपोत्सव से पहले ही धान की आवक तेज हो गई, लेकिन त्योहार निपटते ही फिर से तेजी के साथ धान मंडी पहुंच रहा है। मंडी कारोबारियों को भी खरीद से फुरसत नहीं। रोज 700 से अधिक ट्रैक्टर-ट्रालियां व अन्य छोटे वाहन मंडी पहुंच रहे हैं। अधिक आवक से मूल्य कम न हो जाएं इसकी भी किसानों में बेसब्री है। डेढ़ माह में 2320 मीट्रिक टन खरीद:मंडी में धान खरीद की स्थिति यह है कि अब तक 2 लाख 32 हजार 41 कुंतल धान डेढ़ महीने में ही खरीदा गया है। अक्टूबर में 1 लाख 40 हजार 429 कुंतल तथा 15 नवंबर तक 91 हजार 612 कुंतल धान मंडी के आंकड़ों में दर्ज है। प्रभारी मंडी निरीक्षक नेम ¨सह के अनुसार डेढ़ माह की खरीद पिछले वर्षों के सापेक्ष 40 से 45 फीसद अधिक है। जाम ने बिगाड़े हालात: धान बिकवाली को मंडी पहुंचने वाले वाहनों के कारण जहां अलीगंज रोड पर हर समय ही जाम बना हुआ है। वहीं मंडी के दूसरे गेट के बाहर जीटी रोड पर भी यातायात प्रभावित हो रहा है। इंतजामों के बावजूद जाम राहगीरों के लिए भी परेशानी बना है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.