गोली से घायल महिला की मौत, थाने का घेराव, जाम

दिनभर चला मान-मुनव्वल का दौर शाम को पुलिस ने उठवाया शव कार्रवाई का आश्वासन

JagranTue, 07 Dec 2021 05:32 AM (IST)
गोली से घायल महिला की मौत, थाने का घेराव, जाम

जासं, एटा: मिरहची स्थित जिन्हैरा रोड पर 26 अक्टूबर को गोली लगने से घायल हुई महिला ने सोमवार तड़के दम तोड़ दिया। इसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने शव थाने पर रखकर जाम लगा दिया। दिनभर थाने का घेराव और हंगामा होता रहा। शाम के वक्त पुलिस ने सख्ती करते हुए शव हटवाया, तब कहीं जाकर मामला शांत हो सका। ग्रामीण आरोपित जिला पंचायत सदस्य और उसके साथियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करने तथा तत्काल गिरफ्तारी करने की मांग कर रहे थे।

घटना वाले दिन 30 वर्षीय बीनू पत्नी दुष्यंत अपने घर पर पुताई कर रही थी, तभी गोली लगने से वह घायल हो गई। जानलेवा हमले की रिपोर्ट थाना मिरहची क्षेत्र के गांव नगला श्याम निवासी जिला पंचायत सदस्य बंटू राजपूत एवं उसके भाई जीतू, साथी भागीरथ तथा गांव नगला परसोती निवासी वीरेंद्र सिंह के खिलाफ दर्ज कराई गई थी। बीनू को गंभीर हालत में पहले जिला अस्पताल लाया गया, जहां से आगरा और फिर जयपुर रेफर कर दिया। हालत में थोड़ा सुधार हो गया तो परिवार के लोग जयपुर से घर ले आए, मगर सोमवार तड़के उसकी हालत बिगड़ गई और परिवार के लोग इलाज के लिए आगरा ले जा रहे थे कि रास्ते में ही मौत हो गई। इसके बाद ग्रामीणों का पारा चढ़ गया और सैकड़ों की तादात में एकत्रित होकर महिला का शव लेकर मिरहची थाने पहुंच गए। शव को सड़क पर रखकर जाम लगा दिया।

पुलिस अधिकारी ग्रामीणों से दिनभर बातचीत करते रहे, लेकिन स्वजन और ग्रामीण लगातार जिला पंचायत सदस्य समेत सभी आरोपितों की तत्काल गिरफ्तारी और इंस्पेक्टर को हटाए जाने तथा हत्या में मुकदमा तरमीम करने की मांग पर अड़ गए। अपर पुलिस अधीक्षक धनंजय कुशवाह, अपर पुलिस अधीक्षक क्राइम स्नेहलता व अलीगंज, सदर, सिटी व जलेसर सर्किल के सीओ भी ग्रामीणों को दिनभर समझाते रहे, लेकिन वे शव उठाने को तैयार नहीं हुए। शाम के वक्त ग्रामीण महिला का शव थाने के सामने से उठाकर मिरहची चौराहे पर ले गए, जहां हंगामा करने लगे। अंत में शाम के वक्त एसएसपी उदयशंकर सिंह पहुंचे और उन्होंने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि मामले की विवेचना चल रही है जो भी दोषी होगा उसकी गिरफ्तारी की जाएगी। इसके बाद पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए शव को एंबुलेंस में रखवा दिया तब यह शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा सका। मुकदमा हत्या में तरमीम

--

थाना प्रभारी मिरहची जयेंद्र प्रसाद मौर्य ने बताया कि हमले का मुकदमा हत्या में तरमीम किया गया है। मामले की गंभीरतापूर्वक विवेचना की जा रही है। उधर, इससे पहले किसी भी आरोपित की गिरफ्तारी नहीं हो पाई थी। पुलिस का कहना था कि मामला लेन-देन का है और आरोपितों को झूठा फंसाया गया है, इसीलिए जांच की जा रही थी। पुलिस बल देख भागे प्रदर्शनकारी

-शाम को एसएसपी ने मिरहची चौराहे पर जाम लगा रहे लोगों को खूब समझाया, लेकिन वे नहीं माने। इस पर विभिन्न थानों के तैनात फोर्स को चौराहे पर बुला लिया गया और पुलिस ने जब तेवर दिखाने शुरू किए तो हंगामा करने वाले भाग खड़े हुए। तब कहीं जाकर शव उठ सका। ग्रामीणों ने बंद कराया बाजार

-शव सड़क पर रखकर प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों ने जबरन मिरहची कस्बा का बाजार बंद करा दिया। शव हटाए जाने के बाद स्थिति सामान्य हो गई। जाम में फंसे रहे वाहन

-

ग्रामीणों द्वारा लगाए गए जाम के दौरान एटा-बरेली फोरलेन हाईवे पर घंटों तक जाम लगा रहा, जिसकी वजह से वाहन चालकों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। प्रदर्शनकारी वाहन नहीं निकलने दे रहे थे। गाड़ियों की लंबी कतार लग गई। -ग्रामीण आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे, मामले की विवेचना चल रही है। विवेचक से कहा गया है कि सभी तथ्यों को जुटाएं, जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। प्रदर्शन कर रहे ग्रामीणों को समझाने के बाद वे मान गए और उन्हें उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया है।

- उदयशंकर सिंह, एसएसपी एटा

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.