देवरिया में बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, बढ़ी परेशानी

शहर में सिविल लाइन्स रोड अस्पताल रोड में नाले की सफाई कर सिल्ट को सड़क पर ही छोड़ दिया गया है। जिससे बारिश के साथ ही सिल्ट एक बार फिर नाले में बह कर जा रहा है। बस स्टेशन परिसर जिला अस्पताल कलेक्ट्रेट व कचहरी में जल जमाव से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

JagranThu, 17 Jun 2021 02:03 AM (IST)
देवरिया में बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, बढ़ी परेशानी

देवरिया: पांच दिन से रुक-रुक कर हो रही बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। शहर से लेकर ग्रामीण अंचलों के प्रमुख चौराहों व बाजारों में जल जमाव से लोगों की परेशानी बढ़ गई है। शहर की सड़कें कीचड़ से पट गई हैं। जिससे राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

शहर में सिविल लाइन्स रोड, अस्पताल रोड में नाले की सफाई कर सिल्ट को सड़क पर ही छोड़ दिया गया है। जिससे बारिश के साथ ही सिल्ट एक बार फिर नाले में बह कर जा रहा है। बस स्टेशन परिसर, जिला अस्पताल, कलेक्ट्रेट व कचहरी में जल जमाव से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। यात्रा करने के लिए लोग भींगते हुए बस स्टेशन व रेलवे स्टेशन पहुंचे। जिला अस्पताल में मरीजों का इलाज कराने आए तीमारदार बारिश के चलते परेशान रहे। मेडिकल कालेज निर्माण के कारण जिला अस्पताल से मेडिकल कालेज जाने वाला पोस्टमार्टम रोड कीचड़ से सन गया है। जिसके बीच से होकर लोग मजबूरी में आजा रहे हैं। इसके अलावा राघव नगर, न्यू कालोली, देवरिया खास, शिवपुरम कालोनी, गरुलपार में जल जमाव ने लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है। बस स्टेशन जलमग्न, यात्री परेशान

रुद्रपुर बस स्टेशन परिसर पूरी तरह जलमग्न हो गया है। बस स्टेशन के दोनों गेट से लेकर अंदर प्रवेश करने वाले गेट तक बारिश का पानी जमा हो गया है। जिससे यात्रियों को काफी परेशानी हो रही है। वहीं डीएन इंटर कालेज परिसर भी पानी से भर गया है। उपनगर के आजाद नगर, लालाटोली, नसहरा सहित अन्य वार्डों में जलजमाव होने से लोग काफी परेशान हैं। वहीं पूर्वी बाइपास और छपौली के समीप निर्माणाधीन सड़क पर कीचड़ और जलजमाव से लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

अस्पताल के कमरों में लगा पानी, मरीज व कर्मचारी परेशान

बनकटा विकास खंड के चकिया कोठी स्थित नया प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जर्जर होने से बारिश में छत टपक रही है। इसके चलते स्वास्थ्य कर्मी, मरीज व तीमारदार परेशान हैं।

बारिश होने के चलते अस्पताल के बरामदा सहित डाक्टर कक्ष, फार्मासिस्ट कक्ष, एलटी कक्ष में पानी लग गया है। छत से पानी टपकने के कारण बेड भी भींग गए हैं। दवा कक्ष में रखी हुई दवाएं भी भीग रही हैं। फार्मासिस्ट हरेकृष्ण सिंह कुशवाहा, एलटी शमशुद्दीन अंसारी, चौकीदार हरीश प्रसाद ने बताया कि स्वास्थ्य केंद्र का भवन जर्जर हो चुका है। बारिश होने पर भी छत टपकने लगती है। कई बार विभाग को अवगत कराया जा चुका है। लेकिन समस्या समाधान नहीं हो सका। छत टपकने के चलते यहां आने वाले मरीज व उनके तीमारदार सहित यहां तैनात स्वास्थ्य कर्मी भी परेशान हैं। सीएमओ डा. आलोक पांडेय ने कहा कि मुझे इसकी कोई जानकारी नहीं है। इसका मुआयना कर अस्पताल के मरम्मत के लिए एस्टीमेट बनाया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.