शादी तो कर ली, अब अनुदान का इंतजार

शादी तो कर ली, अब अनुदान का इंतजार

अनुदान के लिए पात्र व्यक्ति शादी के तीन माह पहले और तीन माह बाद तक आवेदन कर सकते हैं। इसके तहत बड़ी संख्या में लोगों ने आनलाइन आवेदन किया लेकिन महज 26 लोग ही लाभ प्राप्त कर सके। बाकी 250 लोग ब्लाक से लेकर विकास भवन तक चक्कर लगा रहे हैं।

Publish Date:Fri, 04 Dec 2020 11:45 PM (IST) Author: Jagran

महराजगंज: पिछड़ा वर्ग शादी अनुदान योजना के तहत गरीब बेटियों की शादियों के लिए आए आवेदनों के सत्यापन में ब्लाकों के अधिकारी- कर्मचारी रुचि नहीं ले रहे हैं। जिसके कारण लाभार्थियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। शादियां तो हो गई लेकिन अनुदान नहीं मिल सका है।

जिले में 250 लोग शादी अनुदान के लिए चक्कर लगा रहे हैं। प्रदेश सरकार ने पिछड़े वर्ग की गरीब बेटियों की शादी के लिए बीस हजार रुपये अनुदान का प्राविधान किया है। योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र में निवास करने वाले व्यक्तियों के लिए अधिकतम आय सीमा वार्षिक 46080 एवं शहरी क्षेत्र में निवास करने वाले व्यक्तियों के लिए अधिकतम आय सीमा वार्षिक 56460 रुपये निर्धारित की गई है। अनुदान के लिए पात्र व्यक्ति शादी के तीन माह पहले और तीन माह बाद तक आवेदन कर सकते हैं। इसके तहत बड़ी संख्या में लोगों ने आनलाइन आवेदन किया लेकिन महज 26 लोग ही लाभ प्राप्त कर सके। बाकी 250 लोग ब्लाक से लेकर विकास भवन तक चक्कर लगा रहे हैं। पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी रत्नेश सिंह ने बताया कि आवेदकों की पत्रावलियों का सत्यापन कर शीघ्र ही खाते में भुगतान कर दिया जाएगा। इसके लिए प्रक्रिया चल रही है। केस एक- घुघली ब्लाक के हरखी निवासी रमेश गुप्ता ने बताया कि जून में बेटी की शादी कर चुके हैं लेकिन अभी तक अनुदान की राशि नहीं मिल सकी है। धनराशि कब मिलेगी, इसका सही जवाब भी नहीं मिल पा रहा है। केस दो- मिठौरा ब्लाक के मोरवल उत्तरी निवासी राजेश्वर यादव ने बताया कि जून माह में ही किसी तरह बेटी की शादी करने के बाद आवेदन किया था लेकिन अभी तक अनुदान की राशि नहीं मिली। केस तीन- लक्ष्मीपुर ब्लाक के ग्राम रुद्रपुर शिवनाथ निवासी दानी देवी ने बताया कि बेटी की शादी आठ दिसंबर को है। सोची थी कि अनुदान की राशि मिल जाएगी, तो सुविधा हो जाएगी लेकिन धनराशि नहीं मिलने से दिक्कत बढ़ गई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.