बुखार से पीड़ित बच्चों की संख्या बढ़ी, इंतजाम नाकाफी

स्वास्थ्य विभाग बेहतर इंतजाम करने में असफल साबित हो रहा पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट के सभी बेड फुल हो गए

JagranFri, 17 Sep 2021 12:07 AM (IST)
बुखार से पीड़ित बच्चों की संख्या बढ़ी, इंतजाम नाकाफी

जागरण संवाददाता,देवरिया: जनपद देवरिया में तेज बुखार एवं संक्रामक रोग से पीड़ित बच्चों की संख्या लगातार बढ़ रही है। पीआइसीयू वार्ड यानी पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट के सभी बेड फुल हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के इंतजाम नाकाफी हैं।

महर्षि देवरहा बाबा राजकीय मेडिकल कालेज से संबद्ध जिला अस्पताल के पीआइसीयू वार्ड का हाल बुरा है। गुरुवार को बुखार एवं झटका से पीड़ित 17 बच्चों को भर्ती कराया गया। इलाज में लापरवाही बरती गई। किसी को समय पर इंजेक्शन नहीं तो किसी को नेबुलाइजर समय पर उपलब्ध नहीं कराया गया। इसकी वजह संसाधन की कमी व ड्यूटी पर तैनात चिकित्सकों की लापरवाही भी है। भर्ती होने वाले बच्चों में ज्यादातर बरहज एवं तरकुलवा इलाके के हैं।

वार्ड का हाल यह है कि एक बेड पर दो तथा तीन-तीन बच्चे भर्ती कराए गए हैं। वार्ड में दवाओं का मुकम्मल इंतजाम नहीं होने से पीड़ित बच्चों के इलाज में लापरवाही बरती जा रही है। तीमारदारों को न तो बाहर से दवा लाने दिया जा रहा है और न अंदर से दवा मिल रही है। बच्चे दिन भर कराहते रहे।

-

एक दिन में 17 बच्चे भर्ती:

गुरुवार को जिला अस्पताल के ऐसी वार्ड में सुबह से दोपहर तक बुखार व झटका रोग से पीड़ित बच्चों के भर्ती होने का सिलसिला दोपहर ढाई बजे तक जारी रहा। तीन बजे तक 17 बच्चे भर्ती किए गए। लेकिन बेड कम पड़ गया। भर्ती बच्चों में बरहज के रमई पुरवा गांव के रहने वाले घनश्याम के पुत्र सत्यार्थ उम्र करीब डेढ़ माह, बड़हरा की कृष्णा उम्र आठ माह, सुकरौली मगहरा बरहज के आदर्श उम्र तीन माह तथा नोनापार सलेमपुर की काजल उम्र चार वर्ष एवं पनिका बाजार बरहज के मनीष उम्र छह माह के अलावा गौरी बाजार क्षेत्र के बड़हरा गांव के रोहन उम्र दो वर्ष के साथ मोनू उम्र एक माह, लाला मुजहाना तरकुलवा की आरिया उम्र तीन वर्ष, महुआपाटन तरकुलवा की याशिका उम्र नौ माह, रावतपार अमेठिया के नरेंद्र सोनकार उम्र तीन वर्ष, सुहानी उम्र आठ वर्ष निवासी नारायनपुर तरकुलवा, अंशिका उम्र पांच वर्ष निवासी साकेत नगर व सिद्धार्थ उम्र छह माह निवासी मुसहरी तरकुलवा को भर्ती कराया गया। इसके अलावा अनन्या उम्र एक वर्ष चौरीचौरा को भी भर्ती कराया गया।

इलाज के लिए पांच घंटे तक परेशान रही मां

जिला अस्पताल के स्वास्थ्य सेवा के इंतजाम का हाल यह है कि ग्राम बड़हरा गौरी बाजार के रहने वाले प्रदुम्न के दो वर्षीय पुत्र रोहन को लेकर उनकी पत्नी सोनी दिन के 10:00 बजे जिला अस्पताल के पीआइसीयू वार्ड में पहुंची। दोपहर तीन बजे तक वार्ड में बच्चा कराहता रहा। लेकिन स्वास्थ्य कर्मियों पर कोई असर नहीं हुआ। दोपहर दो बजे के बाद ड्यूटी पर पहुंचे चिकित्सक से मां इलाज के लिए बिलखती रही। यह दृश्य देखकर किसी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. आलोक पांडेय से इसकी शिकायत की। उसके बाद स्वास्थ्य कर्मी चौकन्ना हुए तब जाकर चार बजे के बाद इलाज शुरू कराया गया।

सीएमओ डा. पांडेय ने कहा कि मामले की जांच की जाएगी। जो भी दोषी होगा। उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

--

कृषि मंत्री ने अधिकारियों की ली क्लास

- उप्र के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही गुरुवार को अस्पताल पहुंचे। वहां स्वास्थ्य सेवा ठीक करने के लिए सीएमओ व प्रधानाचार्य मेडिकल कालेज डा.एएम वर्मा को बेहतर सेवा देने व दवा प्रबंध करने का निर्देश दिया। कहा कि दवाओं की कमी हुए तो कार्रवाई होगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.