जिस महिला की सूटकेस में लाश मिली, वो जिदा निकली

जिस महिला की सूटकेस में लाश मिली, वो जिदा निकली

यह खबर पुलिस की कमजोर तफ्तीश की तस्दीक कर रही है। इसके चलते तीन बेकसूरों को सलाखों के पीछे जाना पड़ गया। दरअसल बुलंदशहर के इस्लामाबाद निवासी जिस विवाहिता वरिशा का शव साहिबाबाद में सूटकेस में मिला था सोमवार को वह अलीगढ़ के गांधी पार्क थाने पहुंच गई।

Publish Date:Mon, 03 Aug 2020 11:34 PM (IST) Author: Jagran

बुलंदशहर, जेएनएन। यह खबर पुलिस की कमजोर तफ्तीश की तस्दीक कर रही है। इसके चलते तीन बेकसूरों को सलाखों के पीछे जाना पड़ गया। दरअसल, बुलंदशहर के इस्लामाबाद निवासी जिस विवाहिता वरिशा का शव साहिबाबाद में सूटकेस में मिला था, सोमवार को वह अलीगढ़ के गांधी पार्क थाने पहुंच गई। महिला ने बताया कि वह ससुराल वालों के उत्पीड़न से तंग आकर नोएडा चली गई थी। जब पता चला कि उसे मृत घोषित कर दिया है तो वह अपने मायके पहुंची। पुलिस ने दहेज हत्या के मामले में वरिशा के पति, सास और ससुर को जेल भेज दिया था।

27 जुलाई को गाजियाबाद के साहिबाबाद में एक महिला की सूटकेस में लाश मिली थी। गाजियाबाद के ही इस्माइल ने बताया कि मृतका बुलंदशहर के इस्लामाबाद निवासी उनकी रिश्तेदार थी। इसके बाद बुलंदशहर पुलिस महिला की मां बूंदो पत्नी जफर और भाई निवासी कस्बा जलाली थाना हरदुआगंज अलीगढ़ को गाजियाबाद लाई। मां और भाई ने उसकी शिनाख्त वरिशा के रूप में की थी। वरिशा को मृत मानकर स्वजनों ने सूटकेस में मिले शव का अंतिम संस्कार कर दिया था। उधर, सोमवार को शहर कोतवाली पुलिस अलीगढ़ से महिला को बरामद करके बुलंदशहर ले आई।

-------------

विवाहिता ने बताई यह कहानी

वरिशा ने बताया कि गत एक जून को उसकी शादी बुलंदशहर के इस्लामाबाद निवासी आरिफ से हुई थी। बीती एक जुलाई को वह अपने मायके गई और 17 जुलाई को मायके से ससुराल आ गई। सास जमीला, पति आरिफ और ससुर मुस्लिम ने उसके जेवरात चोरी करके आरोप उसके मायके वालों पर लगा दिया। 22 जुलाई की रात उसे पीटा गया। हत्या के डर से वरीशा 23 जुलाई की सुबह अपने घर से निकल गई और नोएडा पहुंचकर एक इलेक्ट्रॉनिक कंपनी में काम करने लगी। रविवार को पता चला कि उसे स्वजनों ने मृत समझ लिया है। इसके बाद वह मायके पहुंची और फिर अलीगढ़ के गांधी पार्क थाने में। जरूरत पड़ी तो होगा डीएनए टेस्ट

एसएसपी का कहना है कि गाजियाबाद पुलिस ने सूटकेस में मिले महिला के शव का बिसरा और डीएनए सुरक्षित रख लिया था। अब गाजियाबाद पुलिस पता लगाएगी कि सूटकेस में मिली लाश किसकी थी। इनका कहना है

पूरे मामले में अब नया मोड़ आ गया है। वरिशा जिदा है। फोटो, आधार कार्ड आदि सभी से मिलान कर लिया है। वरिशा के भाई द्वारा दर्ज कराए मुकदमे से दहेज हत्या की धारा हटाई जाएगी। दहेज उत्पीड़न की धारा मुकदमे से नहीं हटेगी।

- संतोष कुमार सिंह, एसएसपी

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.