बरसात का पड़ा असर, चढ़े सब्जियों के दाम

बारिश का असर सब्जियों के दामों पर भी दिखने लगा है। मंडी के थोक बाजार से निकलकर फुटकर बाजार में पहुंचने तक इनके दाम चढ़ने लगे हैं। रेहड़ी और फड़ विक्रेता जिसका फायदा उठाकर मनमाफिक दाम पर सब्जी ब्रिकी कर रहे हैं। इसका सीधा असर रसोई के बजट पर पड़ने लगा है। महिलाओं को घर चलाना मुश्किल हो गया है।

JagranSun, 08 Aug 2021 11:27 PM (IST)
बरसात का पड़ा असर, चढ़े सब्जियों के दाम

जेएनएन, बुलंदशहर । बारिश का असर सब्जियों के दामों पर भी दिखने लगा है। मंडी के थोक बाजार से निकलकर फुटकर बाजार में पहुंचने तक इनके दाम चढ़ने लगे हैं। रेहड़ी और फड़ विक्रेता जिसका फायदा उठाकर मनमाफिक दाम पर सब्जी ब्रिकी कर रहे हैं। इसका सीधा असर रसोई के बजट पर पड़ने लगा है। महिलाओं को घर चलाना मुश्किल हो गया है।

दरअसल, मानसून आ चुका है। झमाझम बरसात धान की फसल के लिए काफी लाभदायक साबित हुई है जबकि सब्जियों को इससे नुकसान पहुंचा। क्योंकि खेतों में पानी भर गया। इसमें सब्जी तक डूब गई। पानी भरे खेत में सब्जियों को किसान समय पर तोड़ नहीं सके और वह खराब हो गई। यही कारण रहा कि मंडी में सब्जियों की आवक कम हो गई और इनके दाम काफी बढ़ गए हैं।

यह है अब और बरसात से पहले के दाम

सब्जी अब दाम बरसात से पहले दाम आलू 15 10

टमाटर 40 20

प्याज 30 20

मिर्च 60 40

शिमला मिर्च 50 40

तोरई 40 20

भिडी 30 20

अरबी 30 10

पालक 40 20

नींबू 60 40

आंवला 100 40 (नोट- भाव रुपये प्रति किलोग्राम में)

लौकी, तोरई सहित दालों का बढ़ाएं सेवन

बरसात के समय खराब सब्जियों के सेवन से बीमार पड़ने की समस्या बनी रहती हैं। ऐसे में सेहतमंद बने रहने के लिए किन सब्जियों का इस्तेमाल करना चाहिए डायटीशियन पूर्णिमा सिंह लोगों को इसके लिए जागरूक कर रही हैं। उनका कहना है कि बरसात में हरे पत्ते वाली सब्जियों का सेवन करने से बचना चाहिए। क्योंकि इस मौसम में कीडे़-लार्वा आदि पैदा हो जाते हैं। जो पत्तों से चिपक जाते हैं। सब्जियों में भी लगकर उन्हें खराब कर देते हैं। इसलिए लौकी, तोरई, जैसी सब्जियों सहित दालों का इस्तेमाल भोजन में बढ़ा देना चाहिए। साथ ही दही में वैक्टीरिया होते हैं, इसलिए बरसात में इसका सेवन भी नहीं करना चाहिए। इन्होंने कहा..

बरसात के मौसम में सब्जियों की आवक कम हो जाती है। जबकि बाजार में मांग बढ़ी रहती है। ऐसे में सब्जियों के दाम चढ़ जाते हैं। जो सब्जी बरसात से पहले करीब 20 रुपये प्रति किलोग्राम में बेची जा रही है। आज उसकी कीमत 30 रुपये प्रतिकिलोग्राम हो गई है।

शोएब, सब्जी विक्रेता

------

सब्जियां के दाम दिन-प्रतिदिन चढ़ रहे हैं। घर का बजट न बिगडे़ इसलिए देखभाल कर रसोई को चलाना पड़ रहा है। जो सब्जियां ज्यादा महंगी हैं। उनका सेवन कम करना पड़ रहा है। इसकी वजह खाने की थाली बेस्वाद होने लगी है।

--अनुपमा, राधा नगर सब्जियां महंगी होने से बहुत दिक्कत आ रही है। प्याज, आलू, टमाटर सभी के दाम चढ़े हुए हैं। कोरोना काल में आय पर भी असर पड़ा है। जबकि महंगाई बढ़ रही है। खाना तो खाना है, इसलिए महंगे दामों पर ही चाहे कम ही सब्जियां लेनी पड़ रही हैं।

--मीना सक्सेना, आवास विकास

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.