436 निर्बल आय वर्ग के बच्चों को निजी स्कूल आंवटित

जेएनएनबुलंदशहर निजी स्कूलों में आरटीई की निर्धारित सीटों को भरने की दूसरे चरण की प्रवेश प्रक्रिया पूरी हो गई। आनलाइन आवेदन और सत्यापन के बाद शासन स्तर से मंगलवार को लाटरी निकाली गई।

JagranTue, 15 Jun 2021 08:56 PM (IST)
436 निर्बल आय वर्ग के बच्चों को निजी स्कूल आंवटित

जेएनएन,बुलंदशहर : निजी स्कूलों में आरटीई की निर्धारित सीटों को भरने की दूसरे चरण की प्रवेश प्रक्रिया पूरी हो गई। आनलाइन आवेदन और सत्यापन के बाद शासन स्तर से मंगलवार को लाटरी निकाली गई। जिसमें 436 निर्बल आय वर्ग के बच्चों को प्रवेश के लिए निजी स्कूल आवंटित किए गए हैं। जबकि पहले चरण में 736 बच्चों को निजी स्कूल आवंटित किए जा चुके हैं।

दरअसल, हर अभिभावक का सपना होता है कि वह अपने बच्चे के बेहतर भविष्य के लिए निजी स्कूलों में प्रवेश दिलाए। आर्थिक समस्याओं की वजह से सभी अभिभावकों के सपनों को परवाज नहीं मिलती है। यह अभिभावक निजी स्कूलों की महंगी फीस नहीं भर पाते। जिस पर सरकार ने निजी स्कूलों की 25 फीसद सीटों पर आरटीई के तहत गरीब बच्चों के प्रवेश की व्यवस्था की है। इसमें कैंसर, एडस पीड़ित, तलाकशुदा महिला सहित आर्थिक रूप से कमजोर अभिभावकों के बच्चों के प्रवेश किए जाते हैं। अब कोरोना काल में आरटीई के तहत दूसरे चरण की प्रवेश प्रक्रिया संपन्न् हुई। 10 जून तक 898 मिले थे आवेदन

दूसरे चरण में पांच अप्रैल को आनलाइन आवेदन मांगे गए। कोरोना संक्रमण की वजह से अंतिम तिथि बढ़ाई गई। अभिभावकों को 10 जून तक आनलाइन आवेदन का मौका दिया गया। जिसमें 898 आवेदन प्राप्त हुए। 11 से 12 जून तक इन आवेदनों का सत्यापन किया गया। शासन ने 15 जून को लाटरी निकालकर 436 बच्चों को स्कूल आवंटित किए। जबकि पहले चरण में दो से 25 मार्च तक 1053 आनलाइन आवेदन हुए। 26 से 28 मार्च तक आनलाइन आवेदनों का सत्यापन किया गया। 30 मार्च को शासन ने स्कूल आंटन के लिए लाटरी निकाली। जिसमें 736 गरीब बच्चों को स्कूल आवंटित किए गए। इन्होंने कहा :::

निजी स्कूलों में आरटीई की सीटों पर दूसरे चरण की प्रवेश प्रक्रिया मंगलवार को पूरी हो गई। प्राप्त आवेदनों में से 436 निर्बल आय वर्ग के बच्चों को स्कूल आवंटित हुए हैं।

अखंड प्रताप सिंह, बीएसए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.