विकास को मिलेगी रफ्तार, फोरलेन का लोकार्पण आज

विकास को मिलेगी रफ्तार, फोरलेन का लोकार्पण आज

ट्रैफिक के साथ ही जिले में विकास को भी अब रफ्तार मिलेगी। मेरठ-बुलंदशहर राष्ट्रीय राजमार्ग-235 बनकर तैयार हो गया है। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी गुरुवार की शाम चार बजे दिल्ली से ही इसका वर्चुअल लोकार्पण करेंगे। लगभग तीन साल में 2407 करोड़ रुपये की लागत से ये महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट तैयार हुआ है।

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 04:36 AM (IST) Author: Jagran

जेएनएन, बुलंदशहर। ट्रैफिक के साथ ही जिले में विकास को भी अब रफ्तार मिलेगी। मेरठ-बुलंदशहर राष्ट्रीय राजमार्ग-235 बनकर तैयार हो गया है। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी गुरुवार की शाम चार बजे दिल्ली से ही इसका वर्चुअल लोकार्पण करेंगे। लगभग तीन साल में 2407 करोड़ रुपये की लागत से ये महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट तैयार हुआ है।

अब से पहले मेरठ से बुलंदशहर जाने में दो घंटे से अधिक समय लगता था। साथ ही हादसों का भी खतरा रहता था क्योंकि सड़क की चौड़ाई कम थी। इसके साथ ही गुलावठी, हापुड़ और खरखौदा में भी वाहन चालकों को जाम झेलना पड़ता था। जनता की समस्या और विकास को रफ्तार देने के लिए भाजपा सरकार ने मेरठ-बुलंदशहर स्टेट हाईवे को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित कर इसको फोरलेन बनाने का प्रोजेक्ट तैयार किया। केन्द्र सरकार की प्राथमिकताओं में शुमार ये राष्ट्रीय राजमार्ग का कार्य वर्ष 2017 को शुरू हुआ। बहुत तेजी से हाईवे का निर्माण शुरू किया गया। शुरूआत में इस हाईवे की लागत 886 करोड़ रुपये थी लेकिन बढ़ते-बढ़ते 2407 करोड़ तक पहुंच गई। बरसात और प्रदूषण बढ़ने के कारण निर्माण कार्य पर लगी पाबंदी के चलते हाइवे का निर्माण पूरा होने में थोड़ा वक्त ज्यादा लगा। अब ये राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है और इस पर टोल प्लाजा भी शुरू हो चुका है। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा हाईवे के लोकार्पण का भाजपा कार्यालय पर स्क्रीन लगाकर लाइव प्रसारण दिखाया जाएगा। इसके लिए जिलेभर के भाजपा कार्यकर्ता और पदाधिकारियों को कार्यालय पर बुलाया गया है। इंफो

2407-करोड़ रुपये की लागत से हुआ निर्माण

2016- में हुआ था हाईवे का शिलांयास

64- किलोमीटर है राजमार्ग की लंबाई व्यापारी भी खुश

अब से पहले बुलंदशहर से मेरठ जाने में वाहन 60 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से ज्यादा नहीं चला पाते थे लेकिन अब सौ से अधिक स्पीड से वाहन दौड़ाया जा सकता है।

-गगन शर्मा व्यापारी किसी भी शहर या जिले में विकास का रास्ता वहां की सड़कें तय करती हैं। हाईवे बनने से हापुड़ और बुलंदशहर जाना बहुत बेहतर हो गया है।

-अंकुर यादव-आटोमोबाइल्स व्यापारी सड़क पर डिवाइडर बनने से दुर्घटनाएं कम होंगी। गुलावठी, हापुड़ और खरखौदा के बाइपास से अब पता ही नहीं चलेगा कब मेरठ पहुंच गए।

-नवीन शर्मा-बाइक शोरूम संचालक हाईवे पर चलकर जब कोई व्यक्ति बाहर से जिले में आएगा तो लगेगा कि बुलंदशहर पिछड़ा हुआ नहीं है बल्कि विकास कर रहा है। विकास से ही जिले की सूरत बदलेगी।

-विनीत चड्ढा-व्यापारी

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.