गन्ना तौल सेंटरों को लेकर धरना-प्रदर्शन की बनाई रणनीति

गन्ना तौल सेंटरों को लेकर धरना-प्रदर्शन की बनाई रणनीति

खुर्जा में गन्ना तौल सेंटरों पर बंद होने के विरोध में किसानों ने धरना-प्रदर्शन की रणनीति बनाई। साथ ही अनशन करने की चेतावनी प्रशासन को दी है।

JagranTue, 18 May 2021 09:54 PM (IST)

जेएनएन, बुलंदशहर। खुर्जा में गन्ना तौल सेंटरों पर बंद होने के विरोध में किसानों ने धरना-प्रदर्शन की रणनीति बनाई। साथ ही अनशन करने की चेतावनी प्रशासन को दी है।

क्षेत्र में गन्ना तोल सेंटरों के बंद होने के कारण किसानों की मुसीबत बढ़ गई है। भारतीय किसान यूनियन अंबावता के प्रदेश अध्यक्ष संतोष चौहान ने बताया कि वह मंगलवार के जाहिदपुर कला स्थित गन्ना सेंटर पर पहुंचे, लेकिन वह बंद मिला। इससे पहले सोमवार को भी तोल केंद्र बंद था। जिसकी वीडियो बनाकर उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को भेज दी है। इसके बावजूद सेंटरों खोलने को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। किसानों का कहना है कि उनका गन्ना खेतों में पड़ा है। अगर गन्ना मिल तक नहीं पहुंचा, तो वह खराब हो जाएगा। जिसका नुकसान उन्हें उठाना पड़ेगा। वर्तमान में आए दिन तौल सेंटर बंद होते जा रहे हैं। इसे लेकर भारतीय किसान यूनियन अंबावता के पदाधिकारियों ने धरना-प्रदर्शन की रणनीति बनाई। साथ ही आज यानि बुधवार को अनिश्चितकालीन धरने पर बैठने की चेतावनी दी है।

खुले आसमान के नीचे आठ हजार मीट्रिक टन गेहूं

संवाद सहयोगी, बुलंदशहर : केंद्र और राज्य सरकार गेहूं खरीद योजना को सफल बनाने और अधिक से अधिक गेहूं खरीद की कवायद में है। ताकि कोरोना काल में गरीब और कार्ड धारक परिवारों को गेहूं उपलब्ध कराया जा सके। महामारी के बीच जनपद में किसान लगातार क्रय केंद्रों पर पहुंच रहे हैं और बंफर खरीद हो रही है।लेकिन अधिकारियों की लापरवाही के चलते खरीद गए गेहूं की दुर्गति हो रही है।

जनपद में गेहूं खरीद के लिए 112 क्रय केंद्र बनाए गए हैं। एक अप्रैल से शुरू गेहूं खरीद में अब तक 82 हजार मीट्रिक टन गेहूं खरीद हो चुकी है। इनमें से 74 हजार मीट्रिक टन गेहूं गोदामों में संरक्षित कर दिया गया है। जबकि क्रय केंद्रों पर करीब 8 हजार मीट्रिक टन गेहूं भरा पड़ा है। कई केंद्रों पर टीन शेड्स और गोदाम भरे होने के चलते अधिकांश गेहूं खुले आसमान के नीचे पड़ा है। मौसम जानकारों ने आगामी 24 घंटे में बारिश होने की संभावना जताई है। इसके बावजूद क्रय केंद्रों पर रखे गेहूं के बचाव के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं।

....

कैसे करें उठान, ट्रकों में भरा पड़ा गेहूं

पीसीएफ के 90 क्रय केंद्र जनपद में हैं। एआर कापरेटिव प्रदीप कुमार ने बताया कि गेहूं उठान के लिए 185 ट्रकों की सुविधा है लेकिन सभी ट्रकों में गेहूं भरा है और एफसीआई के गोदामों पर खड़े हैं। ट्रकों से गेहूं न उतर पाने के लिए मजदूर न मिलना और गोदाम में पर्याप्त जगह न होना है। ऐसे में क्रय केंद्रों से कैसे गेहूं उठान हो। बताया कि क्रय केंद्र प्रभारियों को तिरपाल ढकने के निर्देश दिए गए हैं।

....

बूंदाबांदी में भीगता रहा गेहूं

इमलिया स्थित एफसीआई के गोदाम के बाहर करीब 45 ट्रक लाइन में लगे खड़े है और अधिकांश के ऊपर तिरपाल न होने के कारण गेहूं बूंदाबांदी में भीगता रहा। इसके बचाव की जिम्मेंदारी से अधिकारी अपना बचाव करते नजर आए।

....

जनपद में खुले चार अतिरिक्त क्रय केंद्र

एक अप्रैल से जनपद में 112 क्रय केंद्र संचालित हैं और बंफर खरीद हो रही है। जिला विपणन विभाग ने लखावटी ब्लाक् के सहकारी नगर, पहासू ब्लॉक क्षेत्र के मीरपुर और गंगागढ़ और गांव सोई के साथ-साथ ऊंचागांव के अमरपुर गांव में चार अतिरिक्त क्रय केंद्र खोल दिए हैं।

...

इन्होंने कहा..

बूंदाबांदी में गेहूं को तिरपाल से ढकने तथा क्रय केंद्रों पर खुले आसमान के नीचे रखे गेहूं को गोदाम तक पहुंचाने के निर्देश दिए गए हैं। गेहूं को बेकार नहीं होने दिया जाएगा।

-सहदेव मिश्रा

एडीएम-जे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.