दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

जिले में हुई आठ हजार मीट्रिक टन गेहूं की खरीद

जिले में हुई आठ हजार मीट्रिक टन गेहूं की खरीद

गेहूं खरीद को एक माह बीत गया कितु अभी तक जनपद में 8.164 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद ही हो पाई है। जनपद के अधिकांश क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद की गति धीमी चल रही है। वहीं महकमे ने लघु और सीमांत किसानों से मंगलवार और गुरुवार को गेहूं की खरीद किए जाने की अतिरिक्त व्यवस्था की है।

JagranSun, 09 May 2021 11:14 AM (IST)

जेएनएन, बिजनौर। गेहूं खरीद को एक माह बीत गया, कितु अभी तक जनपद में 8.164 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद ही हो पाई है। जनपद के अधिकांश क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद की गति धीमी चल रही है। वहीं महकमे ने लघु और सीमांत किसानों से मंगलवार और गुरुवार को गेहूं की खरीद किए जाने की अतिरिक्त व्यवस्था की है। जनपद के 48 क्रय केंद्रों पर एक अप्रैल से 1,975 रुपये प्रति कुंतल की दर से गेहूं की खरीद शुरू हो गई है।

इस साल सरकार ने अभी तक गेहूं का लक्ष्य निर्धारित कर चुकी है। विपणन विभाग समेत अन्य खरीद एजेंसी पिछले साल के लक्ष्य 45 हजार मीट्रिक टन को आधार मानते हुए अब तक इन क्रय केंद्रों पर 1662 किसान से 8,164 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की है। इस बार खरीद एजेंसियों ने लघु और सीमांत किसानों को सहूलियत देने के लिए मंगलवार और गुरुवार को उनका गेहूं खरीदे जाने की व्यवस्था की है। धामपुर तहसील क्षेत्र में सर्वाधिक छह गेहूं क्रय केंद्र अफजलगढ़ ब्लाक में हैं। यहां कादराबाद सेवा सहकारी समिति में लगभग 2,600 कुंतल गेहूं खरीदा गया, जबकि ग्राम तुरतपुर क्रय केंद्र पर यह आंकड़ा 2,700 कुंतल तक ही पहुंचा। इसके अलावा तीन हजार कुंतल खरीद कल्लूवाला क्रय केंद्र पर हुई है। अब तक तीनों केंद्रों पर लक्ष्य के अनुरूप केवल 50 प्रतिशत गेहूं खरीदा गया है। नहटौर के जोशियान में उत्तरी किसान सहकारी समिति अभी मात्र 258 कुंतल गेहूं की खरीदारी हो पाई है, जबकि इसके लिए लक्ष्य पांच हजार कुंतल का है। कोरोना संक्रमण का असर भी गेहूं खरीद पर पड़ा है।

नजीबाबाद कृषि उत्पादन मंडी समिति में स्थित क्रय केंद्रों पर गेहूं की खरीद जारी है। केंद्र संचालक खरीद लक्ष्य को पाने की कोशिश में जुटे हैं, लेकिन गेहूं को सुरक्षित रख पाना चुनौती बना हुआ है। तेज बारिश होने की स्थिति में टिनशेड के नीचे रखा गेहूं भीग भी सकता है। दरअसल, टिनशेड कई जगहों से टूटा पड़ा है। एसएफसी केंद्र प्रभारी बाल सिंह ने बताया कि केंद्र पर 5,234 कुंतल गेहूं की खरीद करते हुए एक करोड़ से अधिक भुगतान किया जा चुका है। खाद्य विभाग के खरीद केंद्र पर 10,069 कुंतल गेहूं खरीदते हुए एक करोड़ 68 लाख रुपये से अधिक भुगतान कर दिया गया है। विपणन अधिकारी घनश्याम वर्मा ने अब तक 8,164 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद किए जाने की पुष्टि की है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.