वैक्सीन लगवाने में न बरतें लापरवाही

कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार अब धीमी पढ़ गई है लेकिन ऐसा नहीं है कि संक्रमण नहीं फैल सकता। इसलिए सावधानी और सतर्कता बहुत जरूरी है। सबसे जरूरी यह है कि कोरोना की वैक्सीन अवश्य लगवाएं। इससे संक्रमण का प्रभाव बहुत कम रहेगा। तबीयत खराब होने पर चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें।

JagranSun, 13 Jun 2021 04:31 AM (IST)
वैक्सीन लगवाने में न बरतें लापरवाही

बिजनौर, जेएनएन। कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार अब धीमी पढ़ गई है, लेकिन ऐसा नहीं है कि संक्रमण नहीं फैल सकता। इसलिए सावधानी और सतर्कता बहुत जरूरी है। सबसे जरूरी यह है कि कोरोना की वैक्सीन अवश्य लगवाएं। इससे संक्रमण का प्रभाव बहुत कम रहेगा। तबीयत खराब होने पर चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें। यह कहना है कि डा. आरपी त्यागी का।

चांदपुर क्षेत्र के गांव रतनगढ़ निवासी वरिष्ठ चिकित्सक डा. आरपी त्यागी का कहना है कि कोरोना को हल्के में लेने की भूल न करें। इसकी रफ्तार कम हुई है, लेकिन खतरा टला नहीं है। देखा गया कि यह एक तरह का जानलेवा संक्रमण है। यदि सतर्कता और जागरूकता बरती जाए तो इससे हराया भी जा सकता है। हल्का बुखार या खांसी या फिर सांस लेने में तकलीफ हो तो तत्काल जांच कराएं और चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें। बिना चिकित्सक की सलाह के दवाइयों को सेवन करें। इम्युनिटी बढ़ाने के लिए ताजा भोजन, दूध और मौसमी फलों का सेवन अवश्य करें। खाने के साथ सलाद भरपूर मात्रा में लेनी चाहिए। गरिष्ठ भोजन के जगह सुपाच्य खाद्य पदार्थों का सेवन करें। नियमित व्यायाम अवश्य करें। वहीं, जुकाम, बुखार आदि होने पर ठंडे पानी का सेवन बिल्कुल न करें। अब मौसम बरसात का है तो दूसरी बीमारियों भी बढ़ेंगी, इसलिए सजग रहना बहुत जरूरी है। सरकार लगातार वैक्सीनेशन पर जोर दे रही है तो लोगों को भी आगे बढ़कर कोरोना की वैक्सीन अवश्य लगवानी चाहिए। इससे कोरोना के संक्रमण से बचा जा सकता है। वैक्सीन को लेकर अफवाहों पर ध्यान न दें। विशेषकर युवा वर्ग तो अवश्य वैक्सीन लगवाएं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.