कलश यात्रा के साथ रुद्र महायज्ञ व श्रीराम कथा शुरू

कलश यात्रा के साथ रुद्र महायज्ञ व श्रीराम कथा शुरू

कलश यात्रा में 108 कन्याओं के साथ महिलाओं और पुरुषों का जत्था शामिल हुआ।

JagranThu, 04 Mar 2021 12:27 AM (IST)

जागरण संवाददाता, गायघाट, बस्ती: कुदरहा ब्लाक के ग्राम पंचायत पाऊं में स्थित बाबा सोमेश्वर नाथ शिव मंदिर परिसर से बुधवार को कलश यात्रा के साथ नौ दिवसीय रुद्र महायज्ञ एवं संगीतमय श्रीराम कथा का शुभारंभ हुआ। कलश यात्रा में 108 कन्याओं के साथ महिलाओं और पुरुषों का जत्था शामिल हुआ। हाथी-घोड़े और बैंड बाजा के साथ कलश में जल भरने के लिए कलवारी टांडा सरयू नदी के तट से जल भरकर लेकर आए।

यज्ञाचार्य आचार्य प्रदीप पांडेय ने वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच कलश में जल भरवाया। यात्रा में शामिल श्रद्धालु के माथे पर पीली पट्टी और हाथों में केसरिया झंडा लिए जयश्री राम और भोले शंकर की जयघोष से पूरा क्षेत्र भक्तमय हो गया। वहीं हाथी और घोड़े और रथ का समूह आकर्षण का केंद्र बना रहा। यज्ञ में मिर्जापुर से पधारे कथावाचक जगतगुरु लक्ष्मणाचार्य चार मार्च से श्री राम कथा का अमृत वर्षा करेंगे। संयोजक भाजपा युवा मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष अभिषेक पांडेय, काशीनाथ द्विवेदी, पुनीत शुक्ल, अरुण दूबे, संजय सोनी, संगीता, कविता आदि मौजूद रहे। ---

प्रवेश द्वार का हुआ अनावरण :

गायघाट,बस्ती: पाऊं में राम जानकी मार्ग के बगल नवनिर्मित बाबा सोमेश्वर नाथ धाम प्रवेश द्वार का भाजपा जिलाध्यक्ष महेश शुक्ला व सांसद प्रतिनिधि बालकृष्ण तिवारी उर्फ पिटू, क्षेत्रीय विधायक प्रतिनिधि मोहंती दूबे, भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष हिमांशु मिश्रा, मंडल अध्यक्ष मनोज पासवान के साथ फीता काटकर व शिलापट का अनावरण किया गया। इस दौरान विष्णु दत्त शुक्ला, अविनाश गुप्ता, दिनेश शुक्ला, अंबिका दूबे सहित आदि लोग मौजूद रहे। धर्म, सत्य के मार्ग पर जो चला वह भगवान कहलाया

जासं रुधौली, बस्ती: रायठ में स्थित ओम गिरिनाग धाम में चल रहे महाशिवरात्रि महोत्सव व श्री काली महायज्ञ के दूसरे दिन शांति श्रिया द्वारा श्रद्धालुओं को श्रीरामकथा सुनाई गई। कहा कि सत्य पर चलने वाले को सारी सुविधाएं भगवान की कृपा से मिलती रहती हैं। सत्य सनातन है, जिसने भी सत्य को प्राप्त कर लिया, वह भगवान बन गया। सत्य ही ब्रह्म और शाश्वत है। भगवान श्रीराम और कृष्ण को भी सत्य के मार्ग पर चलकर ही भगवान का दर्जा प्राप्त हुआ था। भाग्यशाली मनुष्य को ही यह पुनीत श्रीरामकथा सुनने का अवसर मिलता है। उन्होंने कहा कि भौतिकता की दौड़ में व्यक्ति अध्यात्म से दूर भाग रहा है। अध्यात्म को कम महत्व देने के कारण ही आज मनुष्य तमाम भौतिक सुख सुविधाओं के बावजूद सुखी नहीं है। व्यक्ति की इच्छाएं और आकांक्षाएं अनियंत्रित हो जाने से श्रीमद्भागवत गीता के रहस्य को समझ पाना उसके लिए कठिन हो गया है। उन्होंने कहा कि लालसा रूपी नींद को त्यागकर ही अध्यात्म के मार्ग पर बढ़ना संभव है। इसी मार्ग पर चलकर सत्य रूपी आनंद को प्राप्त कर सम्मान प्राप्त किया जा सकता है। इस अवसर पर मुख्य यजमान कर्नल कमलेश्वर प्रसाद त्रिपाठी ललिता त्रिपाठी, डीएन त्रिपाठी, वंश बहादुर तिवारी धीरेंद्र त्रिपाठी मनमोहन तिवारी, शत्रुघन यादव, फूलचंद सुभाष तिवारी, घिसियावन यादव,मनमोहन त्रिपाठी, मुकेश, संजय त्रिपाठी, ओम प्रकाश, अभिषेक यादव, सद्दाम हुसैन, शशि, विपिन, राकेश यादव सहित लोग मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.