शहर में अब शामिल होंगे 64 नए गांव

बस्ती : नगर पालिका से सटे मोहल्ले अब शहरी क्षेत्र में शामिल होंगे। इसकी तैयारी यहां युद्ध स्तर पर चल रही है। सब कुछ ठीक रहा तो अगले साल नगर पालिका क्षेत्र का दायरा 40 वर्ग किलो मीटर बढ़ जाएगा। वार्डों की संख्या में भी वृद्धि होगी। पहले चरण में 64 गांवों को शामिल करने का कार्य फाइनल हो गया है। लखनऊ की एक संस्था शहर का नक्शा तैयार कर रही है।

प्रदेश सरकार ने शहरी सीमा विस्तार के कार्य पर जोर दिया है। फिलहाल सीमा विस्तार फाइनल स्टेज पर है। माना जा रहा है कि दो से तीन माह के भीतर कार्य पूरा हो जाएगा। गजट जारी होने के बाद 64 गांव शहर का हिस्सा बन जाएंगे। यहां की आबादी को शहरी सुविधाएं मिलने लगेंगी। वर्तमान समय में शहर में 25 वार्ड हैं। सवा लाख आबादी है। नए गांवों के शामिल होने के बाद साढ़े तीन लाख आबादी हो जाएगी। वर्तमान में 19.4 वर्ग किमी क्षेत्र में शहर फैला है। हालांकि नपा क्षेत्र में कुछ ऐसे मोहल्ले भी हैं जहां गांव जैसी भी सुविधाएं नहीं हैं। पांडेयडीह, कृष्णा भगौती, देवराव, भैसहियां, भद्रेश्वरनाथ, जामडीह शुक्ल व पांडेय, नवडाड़ तिवारी, लबनापार, सोनबरसा, घरसोहिया, गिदही बुजुर्ग व खुर्द, वैरिया, परसातकिया, जिगना, पिपरा रामकिशुन, करनपुर, झरकटिया, पचौरा, जिगनी, बायपोखर, बरवा, लखनौरा, बड़ेरिया खुर्द, बंदरिया बुजुर्ग, मरवटिया, लैबुढ़वा, अमौली, चैनपुरा, महुडर, बधावर, पिपरी, रुधौली आंशिक, देईपार, दामोदर, डडवा, खोराखार, नउवाडाडी, संतपुर, हरदिया बुजुर्ग, डिडौरा, मड़वानगर, बरगदवा, बड़ार, हवेली खास, बड़ेवन, मूड़घाट, नावछ, खौरहवा, भुअर निरंजनपुर, लौकिहवा, बेलगड़ी, मिश्रौलिया, मुंडेरवा, डारीडीहा, सुपेलवा, चननी सियरोवास, परासी, दुधौरा शामिल हैं। ईओ अखिलेश त्रिपाठी ने बताया कि सीमा विस्तार का कार्य तेजी से चल रहा है। नक्शा बनाने का कार्य हो रहा। जल्द ही नक्शा और सूची शासन को भेज दिया जाएगा। कोशिश होगी कि तीन माह में सभी 64 गांवों को शामिल कर उन्हें शहरी सुविधाएं मुहैया कराई जाएं।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.