top menutop menutop menu

कोरोना से न सही कार्रवाई से डरिए, आज भी घर में रहिए

बरेली, जेएनएन : सहूलियत के लिए हुए अनलॉक वन में लोगों की ऐसी लापरवाही हुई कि मरीजों की संख्या का हर रोज नया आंकड़ा बनता गया। कोरोना संक्रमण से बेखौफ लोग बेमतलब भीड़ का हिस्सा बनते रहे। अब शनिवार से दो दिनी प्रदेश बंदी हो गई तो पुलिस ने डंडा फटकारना शुरू कर दिया। आज भी बंदी रहेगी। हालांकि दवा, अस्पताल आदि जरूरी सेवाएं जारी रहेंगी। किराना की दुकानें खुलने की भी छूट है मगर भीड़ लगती देख पुलिस इन्हें बंद करा सकती है। सब्जी के दाम नियंत्रण में, मंडी में भरपूर आवक

आवश्यक सेवाओं को बंदी में छूट है इसलिए सब्जी खरीद-बिक्री सुचारू रही। सामान्य दिनों में करीब 12 ट्रक आलू मंडी में उतरा जाता है, जोकि वहां से फुटकर विक्रेताओं तक पहुंचता है। शनिवार को सभी ट्रक आए और माल उतारा। इसी तरह टमाटर के चार, प्याज के सात ट्रक मंडी पहुंचे। रात को फुटकर विक्रेता वहां खरीदारी को पहुंचे। हालांकि शुक्रवार को असमंजस के चलते आवक कम रही थी। महज पांच ट्रक आलू, एक ट्रक टमाटर पहुंचे थे। मंडी सचिव अनिल कुमार ने बताया कि माल की आवक सामान्य है इसलिए दाम स्थिर रहेंगे। बंदी का मंडी या सब्जियों के दाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा। किसान अपना माल बेचने मंडी तक पहुंच रहे हैं। फुटकर खरीदार भी आ रहे। दूसरे प्रदेशों से माल आने और फुटकर मंडी तक पहुंचने में कोई परेशानी नहीं है।

एहतियातन श्यामगंज मंडी में नहीं आए व्यापारी

किराना आदि जरूरी वस्तुओं के व्यापार को छूट दी गई है। हालांकि एहतियात के तौर पर श्यामगंज मंडी नहीं खुली। व्यापारी मनमोहन सब्बरवाल ने बताया कि मंडी में माल की आवक सामान्य रही। जिन लोगों ने थोक माल ऑर्डर किया था, उनके ट्रक गोदाम तक पहुंच गए। फुटकर बिक्री के लिए व्यापारियों ने एहतियातन दुकानें बंद रखीं। हालांकि इसके पीछे वजह यह भी थी कि शुक्रवार को ही लोगों ने चावल, दाल, चीनी, आटा, घी-तेल आदि की भरपूर खरीदारी कर ली थी। फुटकर दुकानदार भी पर्याप्त माल ले गए। ऐसे में किराना दुकानों में कहीं भी माल की कमी नहीं है। बंदी भी महज दो दिन की है, उसमें भी एक दिन साप्ताहिक अवकाश यानी रविवार पड़ रहा है।

---------

डीएम के थे आदेश, लेकिन पुलिस ने किराना स्टोर तक बंद कराए

जागरण संवाददाता, बरेली : किराना स्टोर, मिठाई, कंफेक्शनरी आइटम, दूध-दही जैसी आवश्यक वस्तुओं की दुकानों को बाजार बंदी में छूट दी गई थी लेकिन शनिवार को बाजार बंदी को सख्ती से लागू कराने में पुलिस ने आवश्यक वस्तुओं की दुकानें तक बंद करवा दी।

डीएम नितीश कुमार ने बाजार बंदी में आवश्यक वस्तुओं को छूट के दायरे में रखा। हालांकि लोगों ने शुक्रवार को जमकर खरीदारी भी कर ली थी। शनिवार सुबह जब आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली तो पुलिस वालों ने लाठियां फटकारते हुए बंद करा दीं। उनका कहना था कि एक दिन में कुछ नहीं बिगड़ रहा। लेकिन कुछ दुकानों की वजह से लोगों को घरों से निकलने से रोकना मुश्किल हो जाएगा। अब रविवार को भी पूरा बाजार बंद ही रहेगा। डीएम नितीश कुमार ने बताया कि दुकानों को बंद कराने में पुलिस को हालात देखते हुए निर्णय लेने के लिए कहा गया था। एक दिन में किसी को कोई परेशानी नहीं होगी।

पुलिस ने सख्ती के साथ बंद कराई दुकानें

कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार द्वारा दो दिन की बंदी के निर्देश के बाद जिले में बंदी का असर दिखाई पड़ा। पुलिस ने पूरी सख्ती के साथ बंदी का पालन कराया। शहर से लेकर देहात तक पुलिस सड़कों पर बंदी का पालन कराती दिखाई पड़ी। इस दौरान जगह-जगह पुलिस वाहनों को चेक करती नजर आई। बिना काम के सड़कों पर वाहन लेकर निकलने वालो के साथ ही पैदल घूमने वालों के खिलाफ पुलिस ने उल्लघंन का मुकदमा दर्ज किया गया। बिना मास्क मिला उसका चालान किया गया। हालांकि उसके बाद भी जगह जगह खुराफाती सड़को या गलियों में निकलते रहे। पुलिस जब उन्हें दौड़ाती तो वह घरों में घुस जाते। बंदी का पालन कराने में सबसे ज्यादा मशक्कत बारादरी और किला क्षेत्र में करनी पड़ी। जहाँ लोग बिना काम के सड़को और गलियों में घूमते रहे। जिन्हें चीता पुलिस बार-बार खदेड़ती दिखी। शनिवार को बंदी के दौरान पुलिस ने करीब 270 वाहनों का चालान किया। करीब 1004 लोगो के बिना मास्क का चालान कर 2.21 लाख का जुर्माना वसूला। इस दौरान पुलिस ने 240 के खिलाफ 188 का मुकदमा भी दर्ज किया।

------------ बंदी में सख्ती

-2.21 लाख का जुर्माना वसूला गया पूरे जिले में

-270 वाहनों का चालान जो बेवजह घूमते मिले

1004 लोगों का मास्क न लगाने पर चालान

-240 लोगों के खिलाफ 188 का मुकदमा दर्ज

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.