मेधावियों को निश्शुल्क पढ़ाएगा बरेली का ये स्कूल, जानिये कितने अंक वाले बच्चों को मिलेगा दाखिला

School of Bareilly teach free to meritorious Student कोरोना काल में कई परिवारों के सामने आर्थिक संकट आकर खड़ा हो गया जिस वजह कई छात्रों ने अपनी पढ़ाई ही छोड़ दी। इसमें सबसे ज्यादा नुकसान उन बच्चों का हुआ जिन्होंने दसवीं में अच्छे अंक प्राप्त किए।

Samanvay PandeyWed, 01 Dec 2021 02:45 PM (IST)
95 फीसद अंक प्राप्त करने वाले बच्चों को मिलेगा निश्शुल्क दाखिला

बरेली, जेएनएन। School of Bareilly teach free to meritorious Student : कोरोना काल में कई परिवारों के सामने आर्थिक संकट आकर खड़ा हो गया, जिस वजह कई छात्रों ने अपनी पढ़ाई ही छोड़ दी। इसमें सबसे ज्यादा नुकसान उन बच्चों का हुआ जिन्होंने दसवीं में अच्छे अंक प्राप्त किए। लेकिन, अब मेधावियों की पढ़ाई प्रभावित नहीं होगी। जरुरतमंद छात्रों को एसआर इंटरनेशनल स्कूल निश्शुल्क पढ़ाएगा। स्कूल प्रबंधन ने निर्णय लिया कि जिन छात्रों ने दसवीं की परीक्षा में 95 फीसद अंक प्राप्त किए हैं, उन्हें प्रवेश देकर ग्यारहवीं और बारहवीं की पढ़ाई निश्शुल्क कराई जाएगी। स्कूल इसके लिए किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लेगा। प्रबंध निदेशक रूमा गोयल ने बताया कि कोरोना ने पूरे सिस्टम को प्रभावित किया है। ऐसे में हम उन बच्चों को लेकर फिक्रमंद हैं जो अच्छी तैयारी के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं।

नवीं में दाखिला लेनेे वाले बच्चों को देनी होगी सिर्फ 25 फीसद फीसः स्कूल के निदेशक डा. आरके शर्मा में बताया कि स्कूल में एनसीसी की जूनियर और सीनियर दोनों विंग काम कर रही हैं। प्रवेश लेने वाले बच्चों को एनसीसी में भी बिना किसी शुल्क के प्रशिक्षित किया जाएगा। स्कूल में आर्ट्स, साइंस और कामर्स तीनों वर्ग की कक्षाएं संचालित हो रही हैं। इन वर्गों में 95 फीसद से ज्यादा अंक प्राप्त करने वाले बच्चे स्थान प्राप्त कर सकेंगे। कक्षा आठवीं में 95 प्रतिशत से ज्यादा अंक लाने वाले छात्रों के लिए भी स्कूल ने प्रवेश का मौका दिया है। मेधावी बच्चे नवीं कक्षा के लिए अपना पंजीकरण करा सकते हैं। ऐसे बच्चों को सिर्फ 25 फीसद शुल्क ही देना होगा।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.