बदायूं की इस आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में चल रहा मंथन, भाजपा के पास सीट, पार्टियां सोच रही किसे दें टिकट

UP Assembly Elections 2022 विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक गलियारे में टिकट को लेकर गहमागहमी बढ़ने लगी है। जिले की छह सीटों में बिसौली विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। वर्तमान में यह सीट भाजपा के पास है।

Ravi MishraPublish:Tue, 30 Nov 2021 09:45 AM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 05:19 PM (IST)
बदायूं की इस आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में चल रहा मंथन, भाजपा के पास सीट, पार्टियां सोच रही किसे दें टिकट
बदायूं की इस आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में चल रहा मंथन, भाजपा के पास सीट, पार्टियां सोच रही किसे दें टिकट

बदायूं, जेएनएन। UP Assembly Elections 2022 : विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक गलियारे में टिकट को लेकर गहमागहमी बढ़ने लगी है। जिले की छह सीटों में बिसौली विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। वर्तमान में यह सीट भाजपा के पास है। सत्तारूढ़ दल समेत सभी प्रमुख पार्टियों में जिताऊ प्रत्याशी मैदान में उतारने को लेकर मंथन चल रहा है। लखऊ से लेकर दिल्ली तक से आंतरिक सर्वे भी कराया जा रहा है। पिछले चुनाव को देखते हुए इस सीट पर राजनीतिक समीकरण बदले हैं।

वर्ष 2017 के चुनाव में इस सीट पर भाजपा के युवा नेता कुशाग्र सागर एक लाख 287 वोट पाकर निर्वाचित हुए थे। रनर रहे सपा के पूर्व विधायक आशुतोष मौर्य उर्फ राजू 89,599 वोट मिले थे। जबकि बसपा के मेजर कैलाश सागर को 32,398 वोट मिले थे। 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए गोटियां बिछाई जाने लगी हैं। सत्तारूढ़ दल भाजपा के विधायक कुशाग्र सागर के अलावा दावेदारों में अरुण प्रकाश धोबी और डा.डीएस चौधरी का नाम उभरकर सामने आया है। पिछला चुनाव बसपा से लड़ने वाले मेजर कैलाश सागर भी अपना प्रचार तो कर रहे हैं, लेकिन बसपा से लड़ेंगे या किसी अन्य पार्टी से अभी तक तस्वीर साफ नहीं हो सकी है।

पिछले चुनाव में कुशाग्र सागर के पीछे उनके पिता पूर्व विधायक योगेंद्र सागर का राजनीतिक संरक्षण था। पिछले दिनों एक मामले में उनहें उम्रकैद की सजा होने के बाद से इस सीट के समीकरण बदले हैं। सपा से अभी तक पूर्व विधायक आशुतोष मौर्य को ही टिकट का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। बसपा में अभी मंथन चल रहा है, किसी दावेदार का नाम खुलकर सामने नहीं आ रहा है। जबकि बदायूं और दातागंज सीट पर बसपा प्रत्याशियों की घोषणा कर चुकी है। कांग्रेस से डा.सुशीला कोरी, श्रीमती मिंत्रो, रचना कुमारी और प्रज्ञा दिवाकर ने दावेदारी पेश की है। सियासी समर में किस दल से कौन उतरेगा राजनीतिक दलों के हाईकमान तय करेगा।

हाईकमान से घोषित होगा टिकट, दमदारी से लड़ाएंगे चुनाव

भाजपा जिलाध्यक्ष राजीव कुमार गुप्ता, सपा जिलाध्यक्ष प्रेमपाल सिंह, बसपा जिलाध्यक्ष हेमेंद्र गौतम और कांग्रेस जिलाध्यक्ष ओमकार सिंह सभी टिकट किसे मिलेगा इस पर कुछ कहने से बच रहे हैं। सभी का मिलता-जुलता जवाब मिल रहा है, जनता के बीच पकड़ बनाने वाले निष्ठावान जिताऊ कार्यकर्ताओं को टिकट दिया जाएगा। पार्टी हाईकमान जिसे भी टिकट देगा उसे पूरी मजबूती से चुनाव लड़ाया जाएगा।