बरेली के सेवानिवृत्त अधिकारी ने एक आइडिए से बदली जिंदगी, आनलाइन सजाई सुरों की महफिल, बाथरूम सिंगर से लेकर नामचीन हस्तियों ने की शिरकत

Suro Ki Mehfil पिछले साल बैंक से अधिकारी पद पर सेवानिवृत्ति मिली। कोरोना की पहली लहर के बीच बधाइयों में ही पूरा साल बीत गया। दूसरा साल आया शुरू से ही कोरोना संक्रमण का खौफ था। घरवालों ने घर से निकलने नहीं दिया।

Ravi MishraThu, 16 Sep 2021 09:38 AM (IST)
बरेली के सेवानिवृत्त अधिकारी ने एक आइडिए से बदली जिंदगी, आनलाइन सजाई सुरों की महफिल

बरेली, अशाेक आर्य। Suro Ki Mehfil: पिछले साल बैंक से अधिकारी पद पर सेवानिवृत्ति मिली। कोरोना की पहली लहर के बीच बधाइयों में ही पूरा साल बीत गया। दूसरा साल आया, शुरू से ही कोरोना संक्रमण का खौफ था। घरवालों ने घर से निकलने नहीं दिया। बंद कमरे में सिर्फ मैं, मेरी तन्हाई और कोरोना का डर। सोचा, ऐसे ही कई और लोग भी होंगे, जो दीवारों के अंदर कैद हैं। तब मन को बहलाने को गीतों का सहारा लिया। रिलेक्स मिला तो फार्मूला अपने जैसों के लिए भी अपनाया। गा लो मुस्कुरा लो आनलाइन सिंगिंग क्लब शुरू कर दिया। सुरों की महफिल से संगदिल तन्हाई फिर पास नहीं आई।

सेवानिवृत्ति के बाद का अकेलापन और कोरोना के डर को दूर रखने के लिए सिविल लाइंस के कृष्णा पार्क कालोनी निवासी अरुण शर्मा ने गीतों का सहारा लिया। बाथरूम सिंगिंग तक ही सीमित रहने वाले उनके जैसे तमाम लोग आज इस क्लब के सदस्य हैं। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन से समाज बिखरने-सिमटने लगा था। लोग घरों में बंद होकर अकेलापन, डर और नकारात्मक माहौल में जी रहे थे। जब सब कुछ 'वर्चुअल' होने लगा तो आपदा में अवसर ढूंढते हुए लोगो को जूम एप पर जोड़कर गायन का मंच दिया।

हर हफ्ते ढाई घंटे चलता है कार्यक्रम

कोरोना कर्फ्यू के समय सुर संध्या कार्यक्रम हफ्ते में तीन दिन रखा गया था। अनलाक होने के बाद हफ्ते में दो दिन गुरुवार और रविवार को शाम साढ़े पांच बजे से आठ बजे तक कार्यक्रम चल रहा है। सभी प्रतिभागी अपने घर पर ही जूम एप के माध्यम से जुड़कर अपनी प्रस्तुति देते हैं। कार्यक्रम की रिकार्डिंग करके सभी प्रतिभागियों को भेज दी जाती है।

क्लब में 80 फीसद सेवानिवृत्त अधिकारी, कर्मचारी

अप्रैल में सिर्फ चार लोगों से आनलाइन क्लब की शुरुआत की गई थी, आज इसमें करीब 70 सदस्य जुड़ गए हैं। अपने देश के साथ ही लंदन से भी कुछ लोग इसमें जुड़े हैं। मंच में करीब 80 फीसद लोग सेवानिवृत्त अधिकारी व कर्मचारी हैं। इसके साथ ही अन्य लोग जो गीतों के शौकीन हैं, उन्हें भी इससे जोड़ा गया है।

कार्यक्रम में अतिथि के रूप में शामिल हो रहे नामचीन

कार्यक्रम की सुधरती गुणवत्ता और प्रभावी संयोजन को देखते हुए अब हर रविवार को किसी विशेष व्यक्तित्व को मुख्य अतिथि के रूप में निमंत्रित किया जाता है। वह अपने घर से ही आनलाइन कार्यक्रम में जुड़ते हैं। बीते दिनों 25 जुलाई के कार्यक्रम में बालीवुड अभिनेता मनोज कुमार के बेटे कुणाल गोस्वामी शामिल हुए थे। महान गायक मुहम्मद रफी की पुत्रवधू फिरदौस शाहिद रफी भी शामिल हो चुकी हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.