top menutop menutop menu

विशेष सचिव बोले- राशन स्टॉक में गड़बड़ी मिली तो लाइसेंस होगा निरस्त

बरेली, जेएनएन : खाद्य एवं रसद आयुक्त मनीष चौहान की गेहूं खरीद और राशन वितरण पर मंडलीय समीक्षा के तुरंत बाद विशेष सचिव खाद्य एवं रसद विभाग ओपी वर्मा बरेली पहुंचे। दोपहर में सर्किट हाउस में उपायुक्त खाद्य रंजना गोयल और जिलापूर्ति अधिकारी सीमा त्रिपाठी के साथ बैठक की। फिर फरीदपुर तहसील पहुंचे। शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की तीन कोटे की दुकानों पर औचक निरीक्षण किया।

विशेष सचिव सबसे पहले फरीदपुर की नगर पंचायत में वार्ड तीन फर्रकपुर पहुंचे। कोटेदार दुर्गेश कुमार की रियायती दर की दुकान पर प्रवासियों को जारी राशनकार्ड नहीं थे। वहीं, नियमित राशनकार्ड पर खाद्यान्न लेने के लिए खड़े लोगों के बीच शारीरिक दूरी का पालन नहीं हो रहा था। दुकान के बाहर सैनिटाइजर भी नहीं था। साबुन कुछ देर पहले ही खोलकर नया रखा गया था। उन्होंने स्टॉक मिलान के साथ ई-पॉस मशीन के बाबत पूछा तो बताया गया कि मशीन खराब है और ठीक कराने बरेली भेजी है।

शुक्रवार को सिर्फ पांच लोगों को राशन वितरण हो सका था। विशेष सचिव ने नाराजगी जाहिर करते हुए स्टॉक मिलान करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जांच के बाद अगर गड़बड़ी मिलती है तो लाइसेंस निरस्त कर देंगे। कोटेदार ने बताई मशीन की बैटरी की समस्या फरीदपुर में गांव मेवापट्टी में सीता देवी कोटेदार की दुकान पर विशेष सचिव को 17 प्रवासियों के राशनकार्ड जारी मिले। यहां 49 यूनिट पर खाद्यान्न बंट चुका है। सैनिटाइजेशन और साबुन रखा मिला। मौके पर नोडल अधिकारी मिथलेश कुमार मौजूद थे। यहां से 510 नियमित कार्ड जारी मिले, इनमें पांच जून तक 212 राशन कार्डों पर वितरण हो चुका था।

अप्रैल और मई का खाद्यान्न वितरण हो चुका था। कोटेदार ने बताया कि उसकी मशीन की बैटरी जल्दी खत्म होती है। इसलिए बार-बार चार्ज करना पड़ता है। शिवपुरी में राशन बंटता हुआ मिला गांव शिवपुरी में कोटेदार कमलेश कुमारी की दुकान पर 15 प्रवासियों के अस्थाई कार्ड पर 55 यूनिट का अनाज वितरण किया गया था। यहां मौके पर नोडल अधिकारी मो. ताहिर मौजूद थी। शारीरिक दूरी का पालन होता मिला। नियमित राशन कार्ड 537 थे। इनमें 363 पर वितरण हो चुका था। जून का राशन अभी बांटा जाना बाकी था।

अपात्र कार्ड के जांच के निर्देश गांव मेवापट्टी के प्रधान ने विशेष सचिव खाद्य से सुशीला देवी के एक कार्डधारक को अपात्र बताते हुए शिकायत की। उसके आरोप थे कि वह अमीर है, लेकिन कोटे का राशन उठाती है। प्रमुख सचिव ने जिला पूर्ति अधिकारी सीमा त्रिपाठी को जांच सौंप दी है। उन्होंने बताया कि शनिवार को दस कोटे की दुकानों का निरीक्षण किया जाएगा।

इन बिंदुओं के इर्द गिर्द रहा विशेष सचिव का दौरा

प्रवासियों को मिलने वाला खाद्यान्न

प्रवासी चिह्नांकित कर अस्थायी राशन कार्ड मिले या नहीं 

अस्थायी राशन कार्डों पर खाद्यान्न वितरण की स्थिति 

कोटे की दुकानों पर शारीरिक दूरी का पालन या नहीं

खाद्यान्न वितरण के लिए नोडल अधिकारी तैनात या नहीं

कोटे की दुकानों पर सैनिटाइजर और साबुन है या नहीं

पहली जून 2020 से शुरू किए गए खाद्यान्न वितरण की स्थिति

15 अप्रैल से 24 मई के बीच खाद्यान्न वितरण का हाल

ई-पॉस मशीनों के जरिये राशन बंट रहा है या नहीं

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.