फिर से होने लगी कोविड अस्पतालों में तैयारियां, जानिए क्या है वजह

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का असर दिल्ली समेत अन्य प्रदेशों में दिखने लगा है।

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का असर दिल्ली समेत अन्य प्रदेशों में दिखने लगा है। इसके चलते जिले का स्वास्थ्य विभाग तैयारियों में जुट गया है। संक्रमण की शुरुआत में जिस तरह कोविड अस्पतालों में व्यवस्थाएं की गई थी। एक बार फिर उसी तरह कार्ययोजना बनाई गई है।

Publish Date:Wed, 02 Dec 2020 03:44 PM (IST) Author: Sant Shukla

बरेली, जेएनएन।  जिले के दो पेड कोविड और चार सरकारी सहायता प्राप्त कोविड अस्पतालों में कुल 1360 बेड का इंतजाम किया गया है। कोविड संक्रमित मरीजों को उपचार मुहैया कराने के लिए कोई कसर न रहे, इसके लिए वेंटीलेटर, आक्सीजन युक्त बेड आदि की भी तैयारी है। आइए जानिए किसलिए की गई है यह तैयारी...

दूसरी लहर आने की आशंका
कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का असर दिल्ली समेत अन्य प्रदेशों में दिखने लगा है। इसके चलते जिले का स्वास्थ्य विभाग पूर्व की तरह ही तैयारियों में जुट गया है। संक्रमण की शुरुआत में जिस तरह कोविड अस्पतालों में व्यवस्थाएं की गई थी। एक बार फिर उसी तरह कार्ययोजना बनाई गई है। इसमें सबसे पहले अस्पतालों में बेड का इंतजाम, वेंटीलेटर व आक्सीजन युक्त बेड की उपलब्धता देखी जा रही है। जिले में फिलहाल 1360 बेड उपलब्ध हैं। इसमें आक्सीजन युक्त 676 जबकि वेंटीलेटर युक्त बेड की संख्या 80 है।

अभी अस्पतालों में भर्ती हैं 222 संक्रमित

हालांकि दूसरी लहर का असर अभी जिले में दिल्ली जैसा तो नजर नहीं आ रहा है। लेकिन त्योहार के बाद से संक्रमितों की संख्या में कुछ इजाफा हुआ है। इसके चलते ही जिले में इस समय 462 सक्रिय संक्रमित हैं। इनमें से 240 लोग होम आइसोलेट जबकि 222 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। अस्पतालों में भर्ती लोगों में 90 लोग खतरे में है। इनमें से भी 26 लोगों की हालत अधिक खराब है।

क्या कहना है सीएमओ का
 सीएमओ डा.विनीत कुमार शुक्ला का कहना है कि जिले में दूसरी लहर अभी तक आती नहीं दिखी है। लेकिन इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई है। किसी को भी कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी। इसके लिए जिले के क्षेत्रों को भी चिन्हित किया जा रहा है। अस्पतालों में वेंटीलेटर और आक्सीजन युक्त बेडों की संख्या भी बढ़ा दी गई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.