पुुलिस पर हमला : बयान लेने गई पुलिस की टीम पर हमला, चौकी इंचार्ज ने किया था पार्षद के भाई का चालान

पार्षद का आरोप हैं कि खनन की शिकायत से गुस्साए चौकी इंचार्ज उन्हें धमकाने आए थे।

इज्जतनगर में चौकी इंचार्ज द्वारा खनन कराने की मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत की गई थी। मामले की जांच सीओ तृतीय कर रही थी। मंगलवार को बयान लेने भाजपा पार्षद के घर पहुंचे बेरियर-वन चौकी के दारोगा और सिपाही पर हमला हो गया।

Publish Date:Wed, 02 Dec 2020 01:09 PM (IST) Author: Sant Shukla

 बरेली, जेएनएन।  इज्जतनगर में चौकी इंचार्ज द्वारा खनन कराने की मुख्यमंत्री पोर्टल पर  शिकायत की गई थी। मामले की जांच सीओ तृतीय कर रही थी। मंगलवार को बयान लेने भाजपा पार्षद के घर पहुंचे बेरियर-वन चौकी के दारोगा और सिपाही पर हमला हो गया। पार्षद का आरोप हैं कि खनन की शिकायत से गुस्साए चौकी इंचार्ज उन्हें धमकाने आए थे। बयान लेने का सिर्फ बहाना था।

जब उन्हें घर के अंदर आकर पूछताछ करने के लिए कहा तो उन्होंने घर के अंदर मारपीट कर तोड़फोड़ की। चौकी इंचार्ज का कहना है कि वह भाजपा पार्षद के घर बात करने गए थे। इस दौरान भाजपा पार्षद ने मारपीट कर वर्दी फाड़ दी। हालांकि मामले की जानकारी पर महापौर उमेश गौतम, शहर विधायक अरुण कुमार और अन्य भाजपा पार्षद पहुंचे और विरोध जताने के साथ अधिकारियों से शिकायत की। पूरे घटनाक्रम में चौकी इंचार्ज की लापरवाही देखते हुए प्रभारी एसएसपी व एसपी देहात संसार सिंह ने चौकी इंचार्ज को लाइन हाजिर कर दिया। वहीं पूरे मामले की जांच सीओ तृतीय को सौंप दी है। दोनों पक्षों ने थाने में तहरीर दी है लेकिन अधिकारियों ने जांच के बाद ही कार्रवाई की बात कही है।

इज्जतनगर के नगरिया परीक्षित मुहल्ले में भाजपा पार्षद महेश राजपूत ने खनन को लेकर मुख्यमंत्री पोर्टल, एडीजी और डीआइजी को शिकायत की थी। चौकी इंचार्ज पर खनन कराने का आरोप लगे थे। खनन शिकायत की जांच सीओ तृतीय श्वेता यादव को दी गई थी। आरोप है कि चौकी इंचार्ज कपिल कुमार, सिपाही अरविंद और प्रशांत को लेकर भाजपा पार्षद के घर बात करने पहुंचे । भाजपा पार्षद का आरोप है कि चौकी इंचार्ज शिकायत से नाराज थे और उन्होंने दबाव बनाया। विरोध पर उनके साथ ही नहीं उनकी पत्नी रानी और मां सुंदरवती से मारपीट कर घर में तोडफ़ोड़ की। वहीं चौकी इंचार्ज का कहना है कि वह बात करने गए थे लेकिन अचानक पार्षद व उनके परिजनों ने उनसे मारपीट शुरू कर दी और और उनकी वर्दी फाड़ दी।

पार्षद से मारपीट के विरोध पर पहुंचे विधायक व महापौर

भाजपा पार्षद ने तत्काल चौकी इंचार्ज द्वारा घर में घुसकर मारपीट तोड़फोड़ व महिलाओं से अभद्रता की शिकायत की जिसके बाद भाजपा नेताओं में आक्रोश फैल गया। जानकारी पर मेयर उमेश गौतम, नगर विधायक अरुण कुमार, भाजपा नेता विशाल महरोत्रा के साथ बड़ी संख्या में भाजपा पार्षद मौके पर पहुंच गए । वह चौकी न जाकर सीधे पार्षद के घर पहुंचे और डीआइजी समेत अन्य अफसरों से मामले की शिकायत की।

एसपी सिटी का हुआ विरोध

वहीं दारोगा से मारपीट और बवाल की सूचना पर एसपी सिटी रविंद्र कुमार तत्काल थाना बारादरी, प्रेमनगर, कोतवाली की फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे। किला में हुए लव जिहाद बवाल के बाद एसपी सिटी से भाजपा के लोगों की पहले से पटरी नहीं खा रही थी। जिसके बाद भाजपा नेताओं ने उनके बोलते ही विरोध करना शुरू किया। इसके बाद एसपी सिटी वापस लौट गए।

 चौकी नहीं गए भाजपाई

एसपी सिटी के वापस लौटने के बाद डीआइजी राजेश पांडेय ने सीओ तृतीय स्वेता यादव को भेजा। इसके बाद एसपी देहात संसार सिंह और सीओ तृतीय साद मियां भी चौकी पर पहुंचे। सभी को पता था कि महापौर, नगर विधायक समेत बड़ी संख्या में भाजपाई पार्षद के घर हैं। जिसके बाद चौकी में अतिरिक्त फोर्स और मंगाई गई लेकिन किला बवाल के बाद भाजपा नेताओं में हुई कार्रवाई के बाद शायद भाजपा नेताओं ने भीड़ के साथ चौकी जाना उचित नहीं समझा।

लखनऊ तक गूंजा मामला

मामले की गंभीरता को देखते हुए नगर विधायक ने तत्काल फोन कर घटना की शिकायत प्रभारी मंत्री श्रीकांत शर्मा से की। इस दौरान अधिकारियों से चौकी इंचार्ज को निलंबित करने की मांग की गई।

चौकी इंचार्ज पर लगाया खनन व गैरकानूनी काम कराने का आरोप

पार्षद महेश राजपूत का आरोप है कि चौकी इंचार्ज क्षेत्र में खनन कराते है। इतना ही नहीं वह क्षेत्र में अन्य गैर कानूनी कामों को बढ़ावा दे रहे हैं।

पार्षद के भाई का किया था चालान

एक महीने पहले चौकी इंचार्ज ने पार्षद महेश राजपूत के भाई का चेकिंग के दौरान चलान किया था। उस दौरान पार्षद ने चौकी इंचार्ज को चालान नहीं करने के लिए कहा था लेकिन चौकी इंचार्ज ने चालान कर दिया। जिसके बाद से दोनों पक्षों में तनातनी चल रही है

अधिकारियों का क्या है कहना

 प्रभारी एसएसपी संसार सिंह का कहना है कि  खनन मामले की जांच सीओ कर रही थी। चौकी इंचार्ज लापरवाही कर उनके घर गए। जिससे उन्हें लाइन हाजिर कर दिया। दोनों पक्षों ने तहरीर की है। सीओ तृतीय को जांच दी गई है। उनकी रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.