बरेली में 32 लोगों में मलेरिया तो छह में डेंगू की पुष्टि

टाइगर यानी एडीज मच्छर ने एक बार फिर जिले में छह लोगों पर वार कर उन्हें डेंगू का मरीज बना दिया है। वहीं मलेरिया के भी 32 नए शिकार जिले में मिले हैं। इनमें जानलेवा फैल्सीपेरम के 17 वहीं प्लाज्मोडियम वाइवेक्स की 15 मरीजों में पुष्टि हुई है। इस तरह जिले में अब तक डेंगू के कुल 23 केस सामने आ चुके हैं। वहीं मलेरिया का आंकड़ा भी 1913 पर पहुंच चुका है।

JagranWed, 22 Sep 2021 05:48 AM (IST)
बरेली में 32 लोगों में मलेरिया तो छह में डेंगू की पुष्टि

जागरण संवाददाता, बरेली: टाइगर यानी एडीज मच्छर ने एक बार फिर जिले में छह लोगों पर वार कर उन्हें डेंगू का मरीज बना दिया है। वहीं, मलेरिया के भी 32 नए शिकार जिले में मिले हैं। इनमें जानलेवा फैल्सीपेरम के 17, वहीं प्लाज्मोडियम वाइवेक्स की 15 मरीजों में पुष्टि हुई है। इस तरह जिले में अब तक डेंगू के कुल 23 केस सामने आ चुके हैं। वहीं, मलेरिया का आंकड़ा भी 1913 पर पहुंच चुका है। पिछले दो दिनों तक डेंगू का कोई नया केस जिले में नहीं था, वहीं मलेरिया के मरीजों की संख्या भी सीमित थी, लेकिन मंगलवार को आई रिपोर्ट के बाद स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों के माथे पर फिर से बल पर पड़ गए हैं।

इन मरीजों में डेंगू की पुष्टि

बिथरी चैनपुर के कलारी गांव में बीते दिनों एक महिला डेंगू का शिकार बनी थी। वहीं मंगलवार को गांव के ही एक 15 वर्षीय किशोरों में भी डेंगू की पुष्टि हुई है। शहर के लेबर कालोनी की बुजुर्ग महिला, इज्जतनगर के 28 वर्षीय युवक, हास्टल कैंपस के 21 वर्षीय युवक, नवाबगंज के मिर्जापुर गांव निवासी 22 वर्षीय युवक और खालीपुर गांव के 45 वर्षीय युवक की रिपोर्ट भी डेंगू पाजिटिव आई है।

50 दिन का बच्चा भी मलेरिया का शिकार

जिले में मलेरिया का प्रकोप से तेजी से फैल रहा है। मंगलवार को जिला अस्पताल के बच्चा वार्ड में एडमिट 50 दिन के बच्चे में मलेरिया पीवी की पुष्टि हुई है। स्टाफ के अनुसार शहर के जोगी नवादा निवासी शमीम बानो ने बताया कि 50 दिन पहले ही उनके यहां बेटे का जन्म हुआ था। पिछले एक सप्ताह से बच्चे को तेज बुखार है। सोमवार को हालत गंभीर होने पर उसे बच्चा वार्ड में भर्ती कराया था। जहां स्टाफ ने जांच कराई तो बच्चा मलेरिया से ग्रसित मिला। वार्ड में भर्ती आंवला निवासी एक तीन साल की बच्ची में भी जानलेवा मलेरिया पीएफ की पुष्टि हुई है। इसके अलावा 29 अन्य केस भी पाजिटिव मिले हैं।

आंकड़ों पर एक नजर

- 5,914 घरों में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने किया निरीक्षण

- 362 घरों में मलेरिया व डेंगू का लार्वा मिला

- 1,633 अब तक प्लाज्मोडियम वाइवेक्स के शिकार

- 280 पर मलेरिया के फैल्सीपेरम का हमला

------------

आज से जिला अस्पताल में ही डेंगू का एलाइजा टेस्ट

जिला अस्पताल में लंबे समय से बंद एलाइजा जांच बुधवार से शुरू हो सकेगी। मंगलवार को एलाइजा रीडर टेस्ट मशीन जिला अस्पताल में पहुंच गई। मंडलीय अपर निदेशक एवं प्रमुख अधीक्षक डा.सुबोध शर्मा ने बुधवार से जांच शुरू करने के आदेश दिए हैं। पिछले करीब डेढ़ साल से जिला अस्पताल में डेंगू की जांच मशीन खराब पड़ी थी। जिस कारण पहले डेंगू के सैंपल लखनऊ स्थित लैब में जांच को भेजे जाते थे। हालांकि कुछ दिन पहले जिले में श्रीराम मूर्ति स्मारक मेडिकल कालेज में निश्शुल्क डेंगू के एलाइजा टेस्ट शुरू हुए थे, लेकिन पिछले दिनों एडीएसआइसी ने शासन को पत्र भेजकर मशीन मुहैया कराने की मांग की थी। जिस पर मंगलवार को शासन स्तर से मशीन प्रबंधन को भेज दी गई है। वहीं कंपनी के कर्मचारियों ने जांच के लिए मशीन लगा भी दी। काफी मुमकिन है कि बुधवार से जिला अस्पताल में ही सैंपलों का एलाइजा टेस्ट कर मरीज में डेंगू है या नहीं, इस बात की पुष्टि की जा सके।

वर्जन

शासन से एलाइजा टेस्ट मशीन आ गई है। इसको लैब में लगवाया भी जा चुका है। बुधवार से जिला अस्पताल में डेंगू की जांच भी शुरू कर दी जाएंगी।

डा. सुबोध शर्मा, मंडलीय अपर निदेशक एवं प्रमुख अधीक्षक, जिला अस्पताल

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.