Monitoring : जानिए बरेली मंडल के डीएम क्यों करेंगे आय प्रमाण पत्र की मॉनीटरिंग Bareilly News

जेएनएन, बरेली : आय और जाति प्रमाण पत्र बनाने में हो रही देरी पर कमिश्नर ने नाराजगी जताई है। इस मामले में कमिश्नर ने मंडल के सभी डीएम को आदेश दिया है कि जो भी संबधित अधिकारी इसके लिए जिम्मेदार हैं, उनसे इसका जवाब मांगा जाए।

सप्ताह में एक दिन DM करेंगे मॉनीटरिंग  

दरअसल, छात्रों को जहां निवास और जाति प्रमाण पत्र की ज्यादा जरूरत पड़ती है, वहीं आमजन और किसानों को आय प्रमाण पत्र या खतौनी की नकल आदि बनवाने के लिए भी भटकना पड़ता है। जिन पर इसकी जिम्मेदारी है, वे कुछ न कुछ कमियां निकालकर टरकाते रहते हैं। इस तरह की शिकायतें शासन तक पहुंच रही हैं। इस पर शासन ने नाराजगी जताई और इन पांच सेवाओं पर तत्परता से काम करने के निर्देश दिए थे। अब कमिश्नर रणवीर प्रसाद ने इस पर नाराजगी जताते हुए मंडल के चारों जिलों के डीएम को निर्देश दिए हैं कि इन पांच सेवाओं पर खुद डीएम सप्ताह में एक बार मॉनीटरिंग करें।

बोले, जिम्मेदारों से मांगा जाए स्पष्टीकरण 

कमिश्नर रणवीर प्रसाद ने कहा है कि ई डिस्टिक्ट पोर्टल पर 31 अक्टूबर तक समय सीमा के बाद भी ज्यादातर आवेदनों को लंबित पाया गया है। यह स्थिति दर्शाती है कि इसमें लापरवाही बरती जा रही है। जो भी इसके लिए जिम्मेदार हैं, उनसे स्पष्टीकरण मांगा जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि आवेदन लंबित न हों। इस संबंध में तहसीलदार आशुतोष गुप्ता ने मातहतों को निर्देश दिए हैं कि हर जरूरतमंद के प्रमाण पत्र साक्ष्यों के आधार पर बनवाए जाएं। किसी को परेशान न किया जाए, अन्यथा कार्रवाई की जाएगी। साथ ही कहा कि आवेदन के साथ सभी दस्तावेजों को परखकर प्रमाण पत्र जल्द निर्गत हों।

इन पांच सेवाओं की हो मॉनीटरिंग

आय प्रमाण पत्र

जाति प्रमाण पत्र

निवास प्रमाण पत्र

हैसियत प्रमाण पत्र

खतौनी की नकल

 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.