Indian Railway : रेलवे ने शुरू की नई व्यवस्था, अब चलती ट्रेन में ड्यूटी बदल सकेंगे लोको पायलट, जानिए कैसे

Loco Pilot will Change Duty in Moving Train ड्यूटी का समय पूरा होने पर अब किसी लोको पायलट सहायक या फिर गार्ड को अतिरिक्त ड्यूटी नहीं करनी पड़ेगी। वह वाट्सएप पर सूचना देकर रास्ते में ही अपनी ड्यूटी को बदलवा सकेंगे।

Ravi MishraWed, 24 Nov 2021 10:23 AM (IST)
Indian Railway : रेलवे ने शुरू की नई व्यवस्था, अब चलती ट्रेन में ड्यूटी बदल सकेंगे लोको पायलट, जानिए कैसे

बरेली, राम मिश्रा। Loco Pilot will Change Duty in Moving Train : ड्यूटी का समय पूरा होने पर अब किसी लोको पायलट, सहायक या फिर गार्ड को अतिरिक्त ड्यूटी नहीं करनी पड़ेगी। वह वाट्सएप पर सूचना देकर रास्ते में ही अपनी ड्यूटी को बदलवा सकेंगे। इसके लिए शाहजहांपुर के रोजा लोको प्रभारी ने यह सुविधा मंगलवार से शुरू करा दी हैं।

रेलवे प्रशासन ने कर्मचारियों का ड्यूटी समय नौ घंटे निर्धारित कर रखा हैं। लेकिन अक्सर ट्रेनें किसी न किसी वजह से निर्धारित समय से तीन से चार घंटे तक देरी से चलती हैं। रास्ते में क्रू बदलने की कोई व्यवस्था न होने की वजह से लोको पायलट, सहायक व गार्ड को अतिरिक्त ड्यूटी करनी पड़ रही थी। या फिर ट्रेनें कंट्रोल पर सूचना देकर रास्ते में ही छोड़ देते थे। जिस वजह से रेलवे प्रशासन व यात्रियों को भी परेशान होना पड़ता। इसके अलावा हादसा होने की भी संभावना रहती थी। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। ड्यूटी पूरी होने से एक घंटे पहले ही लोको चालक कंट्रोल व लोको प्रभारी को वाट्सएप पर सूचना देकर अन्य कर्मचारियों की व्यवस्था कराने की मांग कर सकता हैं।

पहले यह होंगे प्रयास

चालक की आठ घंटे ड्यूटी पूरी होने के बाद यदि किसी वजह से ट्रेन को ज्यादा लंबे समय के लिए रास्ते में रोका जा रहा हैं तो कंट्रोल में बातकर उस ट्रेन को पहले निकलवाने का प्रयास किया जाएगा ताकि संबंधित कर्मचारियों की निर्धारित स्टेशन पर ही ड्यूटी खत्म हो। यदि ऐसा नहीं हो पा रहा हैं तो अन्य कर्मचारियों को वहां भेज दिया जाएगा। ताकि अतिरिक्त ड्यूटी न करनी पड़े।

जानिए शाहजहांपुर में ट्र्रेनाें की स्थिति 

- 94 मालगाड़ी रोजा क्षेत्र से होकर गुजरती हैं।

- 70 मालगाड़ी पर शाहजहांपुर का स्टाफ जाता हैं।

- 184 लोको पायलट हैं।

- 250 लोको पायलट होने चाहिए।

- 291 सहायक लोको पायलट हैं।

- 314 सहायक लोको पायलट हैं।

- 110 गार्ड हैं।

- 250 होने चाहिए।

- 27 मेल के लोको पायलट हैं।

- 17 पैसेंजर के लोको पायलट हैं।

- 27 पैंसेंजर के लोको पायलट होने चाहिए।

ट्रेनों का संचालन प्रभावित न हो इसके लिए ड्यूटी पूरी होने पर वाट्सएप पर एक घंटे पहले सूचना देने के निर्देश दिए गए हैं। यह व्यवस्था आज से शुरू करा दी गई हैं। ड्यूटी पूरी होने पर संबंधित स्टेशन पर लोको पायलट, सहायक व गार्ड को भेज दिया जाएगा। बृजेंद्र कुमार झा, लोको प्रभारीे

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.