बरेली में सूदखोर ने छह लाख देकर 15 बीघा जमीन करा ली अपने नाम, पढ़ें सूदखोरों के चंगुल में फंसे लोगों की दर्दभरी कहानी

छह लाख रुपये देकर एक सूदखोर ने 15 बीघा जमीन का बैनामा खुद के नाम करा लिया। जमीन की कीमत 60 लाख रुपये। सूदखोर के चंगुल में व्यक्ति ऐसा फंसा कि कर्जदार भी बन गया और खेती की जमीन भी चली गई। यह कहानी एक व्यक्ति की नहीं है।

Samanvay PandeyTue, 15 Jun 2021 01:37 PM (IST)
सूदखोरों के चंगुल में फंसे पीड़ित बोले- मूल रकम का कई गुना देने के बाद भी लाखों बकाया।

बरेली, जेएनएन। छह लाख रुपये देकर एक सूदखोर ने 15 बीघा जमीन का बैनामा खुद के नाम करा लिया। जमीन की कीमत 60 लाख रुपये। सूदखोर के चंगुल में व्यक्ति ऐसा फंसा कि कर्जदार भी बन गया और खेती की जमीन भी चली गई। यह कहानी एक व्यक्ति की नहीं है। सूदखोर के चंगुल में फंसे हर एक व्यक्ति की कहानी इसी के इर्द-गिर्द है। कई ने तो इससे तंग आकर जिंदगी काे अलविदा कह दिया। दैनिक जागरण की पड़ताल में यह हकीकत सामने आईं। चौकाने वाली बात यह है कि सरकारी चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भी सूदखोरों के चंगुल में बुरी तरह फंसाेे हैंं। नगर निगम से जुड़े जानकार के मुताबिक, नगर निगम में तैनात करीब 2150 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों में 50 फीसद कर्मचारी सूदखोरों के चंगुल में फंसे हुए हैं।

बिटिया शादी के लायक है, क्या करू?: कर्ज तले दबा देवरनिया निवासी युवक सूदखोर का नाम लेते ही फफक पड़ता है। कहता है कि साहब...कुछ नहीं बचा। जवान बेटी अब शादी लायक हो गई है, क्या करू। छह लाख रुपये देकर कर्जदार ने 15 बीघा जमीन का बैनामा अपने नाम करा लिया। बताया कि वर्ष 2016 में सूदखोर ने उसे दस प्रतिशत ब्याज पर छह लाख रुपये दिए। इसके एवज में उसने जमीन का बैनामा अपने नाम करा लिया। कहा कि ब्याज व मूल रकम वापस करने पर खेत वापस कर दिया जाएगा। तब तक जमीन पर कब्जा हमारा रहेगा। इसके बाद से सूदखाेर ने पीड़ित को खेत बोने तक नहीं दिए। सूदखोर के चंगुल में पीड़ित ऐसा फंसा कि आय का एकमात्र जरिया भी खत्म हो गया। जमीन की कीमत 60 लाख रुपये के करीब है। कहता है कि इसकी शिकायत कई बार जिम्मेदारों से की लेकिन, आज तक सुनवाई नहीं हुई। 

70 हजार के बदले वसूले ढाई लाख...फिर भी लाखों का बकाया : 70 हजार के बदले सूदखोर ने ढाई लाख रुपये के ऊपर वसूल लिए। बावजूद सूदखोर द्वारा लाखों रुपये बकाया होने का दावा किया जा रहा है। यह कहानी है कि इज्जतनगर की रहने वाली एक महिला की। महिला ने बताया कि जून 2019 में पति ने क्षेत्र के ही एक व्यक्ति से 70 हजार रुपये ब्याज पर लिये। इसके बदले में सूदखोर ने पति का एटीएम रख लिया। हर माह पति की तनख्वाह आते ही दस हजार रुपये सूदखोर द्वारा एटीएम से निकाल लिए जाते। कई दफा 20 हजार रुपये भी निकाले गए। अप्रैल माह में पत्नी ने पति का एटीएम कार्ड ब्लाक करा दिया। इस पर सूदखोर महिला के घर आ धमके। घर में तोड़फोड करते हुए जबरदस्ती एक खाली चेक पर उनके पति के हस्ताक्षर करा लिए। शिकायत की बात पर जान से मारने की धमकी दी। 

क्या कहते हैं अधिकारी : एडीजी अविनाश चंद्र ने बताया कि जोनभर में सूदखोरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सूदखोरों के बारे में जानकारी पुलिस टीम द्वारा जुटाई जा रही है। सूदखोर के बारे में कर्ज तले दबा व्यक्ति सीधे कार्यालय आकर जानकारी दें, तत्काल एक्शन लिया जाएगा। जानकारी देने वाले व्यक्ति का नाम गुप्त रखा जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.