Travel Agency News : आरटीओ ऑफिस की सेटिंग से बरेली मंडल में फल-फूल रहा अवैध ट्रैवल्स एजेंसी का धंधा, 600 में से छह रजिस्टर्ड

Travel Agency News मंडल में नियम कानून जैसी कोई चीज नहीं है। आरटीओ आफिस का ढर्रा इस बात की पुष्टि करता है। चारों जिलों में 100 से अधिक बड़ी और 500 छोटी ट्रैवल्स एजेंसियां हैं। ये सभी अवैध हैं किसी का भी आरटीओ में रजिस्ट्रेशन नहीं है।

Ravi MishraWed, 04 Aug 2021 01:54 PM (IST)
आरटीओ ऑफिस की सेटिंग से बरेली मंडल में फल-फूल रहा अवैध ट्रैवल्स एजेंसी का धंधा

बरेली, अंकित शुक्ला। Travel Agency News : मंडल में नियम कानून जैसी कोई चीज नहीं है। आरटीओ आफिस का ढर्रा इस बात की पुष्टि करता है। चारों जिलों में 100 से अधिक बड़ी और 500 छोटी ट्रैवल्स एजेंसियां हैं। ये सभी अवैध हैं, किसी का भी आरटीओ में रजिस्ट्रेशन नहीं है। केवल बरेली में पांच व तो शाहजहांपुर में केवल एक ही ट्रैवल्स एजेंसी ने करा रखा है आरटीओ में पंजीयन। शेष ट्रैवल्स एजेंसी आरटीओ के बाबुओं से मिलीभगत से फल-फूल रहीं हैं। जबकि उनके गठजोड़ से सरकार को राजस्व का बड़ा नुकसान हो रहा है।

आरटीओ में जब मंडल में चल रही वैध ट्रैवल्स एजेंसी के बारे में पड़ताल की गई तो कुल छह ट्रैवल्स एजेंसी का ही पंजीकरण मिला। जबकि अन्य सभी ट्रैवल्स एजेंसियां बगैर रजिस्ट्रेशन के चल रही हैं। फर्जी फर्म और टैक्स चोरी करते लग्जरी कार व बसों से माल और पैसेंजर ढोने का काम कर रहे हैं। बरेली मंडल में उप परिवहन आयुक्त के साथ ही संभागीय परिवहन अधिकारी, संभागीय परिवहन अधिकारी प्रवर्तन, दो एआरटीओ प्रवर्तन, एक एआरटीओ प्रशासन व जिलों में एआरटीओ प्रशासन व प्रवर्तन बैठते हैं। बावजूद इसके ट्रैवल्स एजेंसियों का पंजीकरण नहीं हैं। आरटीओ कमल गुप्ता ने बताया कि अभी छह ट्रैवल्स एजेंसी का पंजीकरण है। जल्द ही अभियान चला कार्रवाई की जाएगी। जिसके बाद ही पंजीकरण की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी।

इस नियम के तहत होता है रजिस्ट्रेशन

ट्रैवल्स एजेंसी रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था दि मोटर व्हीकल्स (आल इंडिया परमिट फार टूरिस्ट एंड ट्रांसपोर्ट आपरेशन) रूल्स के तहत 1993 में निहित है। इस नियमावली के नियम 15 एवं इससे संबद्ध अनुसूची के अनुसार ट्रैवल्स एजेंसी के रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था है। जबकि बरेली आरटीओ में इसके तहत कोई भी ट्रैवल्स एजेंसी पंजीकृत नहीं है।

सर्विस टैक्स से बचने के लिए नहीं कराते पंजीकरण

ट्रैवल्स एजेंसियां सर्विस टैक्स देने से बचने के लिए संभागीय परिवहन विभाग में पंजीकरण नहीं कराते हैं। एक बार पंजीकरण कराने के बाद दरअसल प्रति माह सर्विस टैक्स देना पड़ेगा। इसके अलावा मानकों को भी पूरा करना होगा। जिससे बचने के लिए पंजीकरण नहीं कराते।

एक नजर आंकड़ों में

जिला : कुल पंजीकृत ट्रैवल्स एजेंसी

बरेली - 05

शाहजहांपुर - 01

बदायूं - 00

पीलीभीत - 00

केवल इन छह का है पंजीयन

- जगदीश ट्रैवल्स पटेल चौक बरेली

- सांई टूर एंड ट्रैवल्स आवास विकास सिविल लाइंस बरेली

- कालरा बस सर्विस आवास विकास सिविल लाइंस बरेली

- अंकुर टूर एंड ट्रैवल्स श्यामगंज बरेली

- राम ट्रैवल्स श्यामगंज बरेली

- अमन ट्रैवल्स एजेंसी रामनगर कालोनी शाहजहांपुर

बरेली मंडल में ट्रैवल्स एजेंसियों का पंजीकरण न होने की जानकारी मुझे नहीं है। अगर ऐसा हो तो आरटीओ व एआरटीओ से इसकी जानकारी ली जाएगी। इसके बाद लापरवाही करने वाले अफसरों पर कार्रवाई के साथ रजिस्ट्रेशन भी कराए जाएंगे। - मुखलाल चौरसिया, उप परिवहन आयुक्त

रजिस्ट्रेशन कराने पर ट्रैवल्स एजेंसी सर्विस टैक्स के दायरे में आ जाएंगी। इसके साथ ही ट्रैवल्स एजेंसी रजिस्टर्ड कराने के कई मानक भी है। जिन्हें अधिकतर ट्रैवल्स एजेंसियां पूरा नहीं करती हैं। इसके चलते रजिस्ट्रेशन नहीं कराते हैं। पुलिस प्रशासन की मदद मिले तो अभियान चलाकर इन पर कार्रवाई की जा सकती है। - कमल गुप्ता, आरटीओ

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.