क्रेडाई कोषाध्यक्ष करा रहे अवैध प्लाटिंग, बरेली विकास प्राधिकरण ने किया सील

शहरों के विकास को बनाई गई संस्था क्रेडाई के पदाधिकारी ही प्राधिकरण के मानकों की अनदेखी पर उतर आए हैं। शहर में क्रेडाई के कोषाध्यक्ष धर्मेंद्र गुप्ता ने अवैध रूप से प्लाटिंग करवा दी। मामले की जानकारी होने पर बीडीए ने निर्माण को सील करा दिया।

Sant ShuklaPublish:Thu, 01 Apr 2021 07:10 PM (IST) Updated:Thu, 01 Apr 2021 07:10 PM (IST)
क्रेडाई कोषाध्यक्ष करा रहे अवैध प्लाटिंग, बरेली विकास प्राधिकरण ने किया सील
क्रेडाई कोषाध्यक्ष करा रहे अवैध प्लाटिंग, बरेली विकास प्राधिकरण ने किया सील

 बरेली, जेएनएन।  शहरों के विकास को बनाई गई संस्था क्रेडाई के पदाधिकारी ही प्राधिकरण के मानकों की अनदेखी पर उतर आए हैं। शहर में क्रेडाई के कोषाध्यक्ष धर्मेंद्र गुप्ता ने अवैध रूप से प्लाटिंग करवा दी। मामले की जानकारी होने पर बीडीए ने निर्माण को सील करा दिया। इसके साथ ही वहां एक अन्य बिल्डर की बनाई जा रही चार दुकानों पर भी सीलिंग की कार्रवाई की गई है।

डीजी इंफ्रा के नाम से कॉलोनियां बनाने वाले धर्मेंद्र गुप्ता क्रेडाई के कोषाध्यक्ष भी हैं। नैनीताल रोड पर टोल प्लाजा से आगे पार्क एवेन्यू के नाम से उनकी कालोनी भी है। बरेली विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष जोगिंदर सिंह के अनुसार बिल्डर द्वारा पार्क एवेन्यू के आगे वाले भाग में करीब 1200 वर्ग मीटर क्षेत्रफल पर बीडीए की अनुमति के बिना प्लाटिंग व विकास कार्य कराया जा रहा था। इसकी जानकारी होने पर बिल्डर को नोटिस देकर काम रोकने को कहा गया। बावजूद इसके वहां लगातार निर्माण कार्य चल रहा था। इस पर गुरुवार को बीडीए के अधिकारी और प्रवर्तन टीम मौके पर पहुंची। टीम ने निर्माण व विकास कार्य को सील बंद कर दिया। इसके साथ ही निर्माण नहीं रुकने पर ध्वस्तीकरण की चेतावनी भी दी। टीम ने वहां पास में ही अवैध रूप से बनाई जा रही चार दुकानों को भी सील कर दिया। इन दुकानों का निर्माण धनराज बिल्डर्स के मालिक राकेश शर्मा करवा रहे थे। उन्हें भी प्राधिकरण ने पहले नोटिस दिया था, लेकिन निर्माण कार्य बंद नहीं किया गया। इस पर टीम ने पहुंचकर सीलिंग की कार्रवाई की। क्रेडाई के कोषाध्यक्ष धर्मेंद्र गुप्ता ने बताया कि जहां निर्माण कराया जा रहा है, वह जमीन हमारी नहीं है। इस बाबत 26 मार्च को बीडीए में पत्र भी दिया था। बावजूद इसके जमीन हमारी बताकर कार्रवाई की गई है। वही, राकेश शर्मा ने भी अपनी जमीन होने से इन्कार किया। बोले, बावजूद इसके बीडीए ने हमारे नाम चालान काट दिया।