बरेली में थोक दवा कारोबारी से अवैध वसूली, 20 के बाद अब 50 लाख मांगे

मुकदमे में फंसाने का डर दिखाकर दवा के थोक व्यापारी से 20 लाख रुपये वसूल लिए। आरोप है कि अब व्यापारी से 50 लाख रुपये की मांग की जा रही है। मांग न पूरी होने पर व्यापारी को फंसाने की धमकी दी जा रही है। व्यापारी ने नारकोटिक्स विभाग के कर्मियों पर आरोप लगाते हुए एसएसपी से शिकायत की है।

JagranPublish:Tue, 07 Dec 2021 09:28 PM (IST) Updated:Tue, 07 Dec 2021 09:28 PM (IST)
बरेली में थोक दवा कारोबारी से अवैध वसूली, 20 के बाद अब 50 लाख मांगे
बरेली में थोक दवा कारोबारी से अवैध वसूली, 20 के बाद अब 50 लाख मांगे

जागरण संवाददाता, बरेली: मुकदमे में फंसाने का डर दिखाकर दवा के थोक व्यापारी से 20 लाख रुपये वसूल लिए। आरोप है कि अब व्यापारी से 50 लाख रुपये की मांग की जा रही है। मांग न पूरी होने पर व्यापारी को फंसाने की धमकी दी जा रही है। व्यापारी ने नारकोटिक्स विभाग के कर्मियों पर आरोप लगाते हुए एसएसपी से शिकायत की है। एसएसपी ने मामले में जांच बैठा दी है।

प्रेमनगर के चाहबाई निवासी दवा के थोक व्यापारी अंकित सक्सेना ने बताया कि वैष्णवी इंटरप्राइजेज नाम से उनकी फर्म है। काम के लिए बाकायदा ड्रग विभाग की ओर से लाइसेंस ले रखा है। फर्म द्वारा खरीदी व बेची गई दवाइयों का सारा रिकार्ड है। इनकम टैक्स रिटर्न भी समय से जमा किया गया। सबके साक्ष्य भी मौजूद है। जुलाई 2020 में नारकोटिक्स कर्मी ने 20 लाख रुपये अतिरिक्त कर जमा करने की बात कही। अंकित ने 10-10 लाख कर दो बार में 20 लाख रुपये जमा कर दिए। आरोप है कि जब जमा किये गए रुपयों की रसीद मांगी तो कर्मी टहलाने लगे। इसी बीच एक कर्मी का स्थानांतरण बाराबंकी हो गया। मामला शांत भी नहीं हुआ था कि पांच दिसंबर 2021 को नारकोटिक्स कर्मी फिर घर आ धमके। 50 लाख रुपये कर की मांग करने लगे। 20 लाख रुपये को लेकर अंकित ने सवाल किया तो उसे धमकाया गया। धमकी दी गई कि रकम नहीं दी तो पूरा परिवार जेल जाने के लिए तैयार रहो। अंकित ने एसएसपी से शिकायत कर आरोपितों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किए जाने की मांग की है। तर्क है कि व्यापार में उसके द्वारा किए गए लेन-देन का पूरा विवरण है। बावजूद अवैध वसूली का दबाव बनाया जा रहा है। मामले की शिकायत आइजी, एडीजी व शासन तक की गई है।

वर्जन

पूरे मामले में जांच बैठा दी गई है। साक्ष्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

- रोहित सिंह सजवाण, एसएसपी