Gram Sachivalaya : बदायूं डीएम ने दिए आदेश, बोले- ग्राम सचिवालय में बैठकर सचिव पात्रों को करें लाभान्वित

Gram Sachivalaya सरकार गांवों की तस्वीर बदलने पर जोर दे रही है। इसी कड़ी में जिलाधिकारी दीपा रंजन ने गांवों को आदर्श बनाने के लिए सचिवों को नियमित ग्राम सचिवालय में बैठ कर ग्रामीणों को कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित कराने के निर्देश दिए हैं।

Ravi MishraFri, 17 Sep 2021 04:57 PM (IST)
Gram Sachivalaya : बदायूं डीएम ने दिए आदेश, बोले- ग्राम सचिवालय में बैठकर सचिव पात्रों को करें लाभान्वित

बरेली, जेएनएन। Gram Sachivalaya: सरकार गांवों की तस्वीर बदलने पर जोर दे रही है। इसी कड़ी में जिलाधिकारी दीपा रंजन ने गांवों को आदर्श बनाने के लिए सचिवों को नियमित ग्राम सचिवालय में बैठ कर ग्रामीणों को कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित कराने के निर्देश दिए हैं। कलक्ट्रेट सभागार में गुरुवार शाम हुई बैठक में उन्होंने कहा कि ग्राम सचिवालय से ग्रामीणों को आवेदन करने का तरीका भी बताया जाए। यहां से परिवार रजिस्टर की नकल, जन्म तथा मृत्यु प्रमाण पत्र भी बनाए जाएंगे। यहां लाइब्रेरी भी बनाई जाएगी, जहां विभिन्न विषयों की पुस्तकें पढ़ने के लिए उपलब्ध रहेंगी।

डीएम ने निर्देश दिए कि प्रत्येक ब्लाक में पांच-पांच आदर्श गांव के लिए तेजी से कार्य किए जाएं। आदर्श गांवों के लिए निर्धारित मानकों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि ग्राम सचिवालय, पुस्तकालय, तालाब, पार्क एवं खेल मैदान, पेयजल, हैंडपंप, सामुदायिक शौचालय, व्यक्तिगत खाद के गड्ढे, सड़कों एवं नालियों से जलनिकासी की समुचित व्यवस्था, सोकपिट, डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन कर कूड़ा निस्तारण, गांव की गलियों एवं नालियों को पक्का बनवाया जाए।

स्वास्थ्य सेवाएं, सामेकित बाल विकास सेवाएं, कुपोषण मुक्त गांव, मिड-डे मील, प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण, उत्तर प्रदेश ग्रामीण आजीविका मिशन, मनरेगा योजना में रोजगार सृजन, प्रधानमंत्री उज्जवला योजना, विधवा, वृद्धावस्था एवं दिव्यांगजन पेंशन योजना, उच्च प्राथमिक एवं प्राथमिक विद्यालयों में कायाकल्प कार्य, वैक्सीनेशन का कार्य भी इसमें शामिल रहे। डीएम ने ग्रामीणों से अपील की है कि अपने घर एवं गांव को साफ-सुथरा रखें, कूड़ा इधर उधर न डालें, निर्धारित स्थान पर कूड़ा डाला जाए।

अति कुपोषित बच्चों को एनआरसी में भर्ती कराया जाए, जिससे सभी गांव कुपोषित मुक्त हो सकें। निर्देश दिए कि जिन गांवों में खेल मैदान एवं पार्क निर्माण का कार्य प्रारंभ नहीं हुआ है, वहां दो दिनों के भीतर निर्माण कार्य प्रारंभ करा दें, अन्यथा संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पार्क में बैठने की पर्याप्त बैठने की व्यवस्था, खेल मैदान में कम से कम 400 मीटर का ट्रैक होना चाहिए। कन्या सुमंगला योजना के तहत सत्यापन का कार्य तेजी से कराएं।

बीडीओ, एबीएसए के साथ संयुक्त रूप से निरीक्षण कर आपरेशन कायाकल्प के तहत 19 पैरामीटर पर तेजी से कार्य पूर्ण कराएं। बैठक में जिला विकास अधिकारी चंद्रशेखर, परियोजना निदेशक एवं प्रभारी जिला पंचायत राज अधिकारी अनिल कुमार, सभी एसडीएम, बीडीओ और सचिव मौजूद रहे।

-- -- -- -- -- -- -- -- -- -- -

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.