बरेली में डेंगू के पांच और केस मिले, जिले में अब डेंगू के हो गए 30 मरीज, 19 लोगों में मलेरिया की पुष्टि

Dengue in Bareilly जिले में डेंगू और मलेरिया के मरीजों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। सर्विलांस और निरोधात्मक कार्रवाई के कुछ जिम्मेदारों का बेपरवाह होना भी इसकी एक वजह है। गुरुवार को जिले में डेंगू के पांच और केस रिपोर्ट किये गए।

Samanvay PandeyFri, 24 Sep 2021 04:09 PM (IST)
832 मलेरिया जांचों में 17 पीएफ और दो मरीजों में फाल्सीपेरम

बरेली, जेएनएन। Dengue in Bareilly : जिले में डेंगू और मलेरिया के मरीजों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। सर्विलांस और निरोधात्मक कार्रवाई के कुछ जिम्मेदारों का बेपरवाह होना भी इसकी एक वजह है। गुरुवार को जिले में डेंगू के पांच और केस रिपोर्ट किये गए। इस तरह जिले की बात करें तो एक जनवरी से अब तक जानलेवा डेंगू से ग्रसित कुल 30 मरीज मिल चुके हैं। वहीं, जिले भर में मलेरिया की कुल 832 जांचों में 19 मलेरिया के रोगी सामने आए हैं। इनमें से 17 मरीज प्लाज्मोडियम वाइवेक्स और दो मरीजों में फाल्सीपेरम की पुष्टि हुई है।

जिला अस्पताल में ही एलाइजा टेस्ट शुरू : वहीं, जिला अस्पताल में ही अब एलाइजा टेस्ट शुरू हो गया है। जिसके बाद अब सैंपल जांच के लिए एसआरएमएस नहीं भेजे जाएंगे। पिछले डेढ़ साल से जिला अस्पताल की डेंगू के एलाइजा टेस्ट की जांच मशीन खराब पड़ी थी। जिस कारण जांच को सैंपल लखनऊ भेजे जा रहे थे। इसकी रिपोर्ट आने में आठ से दस दिन लग रहे थे। पिछले सप्ताह स्वास्थ्य विभाग ने एसआरएमएस मेडिकल कालेज प्रबंधन से बात की। जिसके बाद एसआरएमएस मेडिकल कालेज में जांच के सैंपल भेजे जा रहे थे। सीएमओ डा. बलवीर सिंह ने बताया कि डेंगू और मलेरिया के केस में लगातार इजाफा हो रहा है। हालांकि लगातार जिले भर में टीमें मलेरिया और डेंगू की जांच कर लोगों को बचाव के लिए जागरूक भी कर रही हैं।

महिला स्वास्थ्य एवं पोषण विषय पर की गई चर्चा : वीरांगना अवंतीबाई लोधी राजकीय महिला महाविद्यालय में गुरुवार को मिशन शक्ति कार्यक्रम के तहत पोषण व्याख्यान का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता एनएसएस की कार्यक्रम अधिकारी डा. फौजिया खान ने की। कार्यक्रम की शुरुआत महाविद्यालय की प्राचार्या डा. मनीषा राव ने महिला स्वास्थ्य व पोषण विषय पर छात्राओं से विशेष चर्चा की। उन्होंने कहा कि महिलाओं को विशेषकर अधिकतर खान-पान में हरी सब्जियों, फलों और मोटे अनाज पर केंद्रित होना चाहिए। छात्राओं में सबसे अधिक समस्या एनीमिया की होती है। जिसके लिए आयरन का प्रचुर मात्रा में प्रयोग आवश्यक है।

वहीं इसके बाद मतदाता जागरुकता अभियान स्वीप 2021 के अंर्तगत मतदान संबंधी स्लोगन लेखन कराया गया। जिसमें छात्राओं ने जागरूक देश की है पहचान, हो शत-प्रतिशत मतदान जैसे स्लोगन लिखे। छात्राओं में रुकमणी, प्रिया, शिवानी, पीयूष, अरीबा आदि ने प्रतिभाग किया। महाविद्यालय की प्राचार्या ने बताया कि बीए, बीएससी, बीकाम के द्वितीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर द्वितीय वर्ष में प्रवेश को इच्छुक छात्राएं महाविद्यालय की वेबसाइट पर आवेदन कर 25 सितंबर तक महाविद्यालय में अनिवार्य रूप से शुल्क जमा कर दें।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.