Corona Fighter News : गर्भवती पत्नी की मौत के बाद अंत्येष्टि कर ड्यूटी पर पहुंचा सिपाही, जानिये हतप्रभ साथियों से क्या बोला

सात माह की गर्भवती पत्नी और सिपाही दोनों हुए थे पॉजिटिव, 26 अप्रैल को कोविड अस्पताल में हुई थी मौत।

Corona Fighter News पुलिस लाइन के गेस्ट हाउस में तैनात नीरज कुमार को गुरुवार को देख उनके साथी हतप्रभ रह गए। बोले - इतनी जल्दी कैसे आ गए। कुछ दिन पहले ही तो पत्नी की मौत हुई थी। कुछ दिन और घर बिता लेते।

Samanvay PandeySat, 08 May 2021 12:25 PM (IST)

बरेली, जेएनएन। Corona Fighter News : पुलिस लाइन के गेस्ट हाउस में तैनात नीरज कुमार को गुरुवार को देख उनके साथी हतप्रभ रह गए। बोले - इतनी जल्दी कैसे आ गए। कुछ दिन पहले ही तो पत्नी की मौत हुई थी। कुछ दिन और घर बिता लेते। नीरज ने का जवाब सुन सभी का सीना चौड़ा हो गया। बोला - कोई और इस कोरोना की भेंट न चढ़े, इसलिए जल्दी आ गया। लोगों का ख्याल रखूंगा, कोरोना से कैसे बचना है सबको बताऊंगा।

2012 बैच के सिपाही नीरज की शादी 2013 में महिला कांस्टेबल मंजू भारतीय से हुई थी। शादी के बाद से दोनों बरेली में ही ड्यूटी कर रहे थे। पुलिस लाइन के सरकारी क्वाटर में जीवन यापन कर रहे थे। इस दौरान नीरज और मंजू को दो बच्चे हुए, एक बेटी तनिष्का जो अब सात साल की है और एक बेटा वंश जो चार साल का है। नीरज की ड्यूटी इन दिनों पुलिस लाइन के ही गेस्ट हाउस में चल रही थी और मंजू सात माह की गर्भवती थी। 20 अप्रैल को मंजू की कुछ तबीयत खराब हुई। इसके बाद नीरज को भी बुखार लगा। इस पर 21 अप्रैल को दोनों ने अपनी कोविड जांच कराई, जिसमें वह पॉजिटिव आए। दोनो होम आइसोलेसन में थे।

इसी दौरान मंजू की हालत बिगड़ी तो उसे 25 अप्रैल को अपेक्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। जहां 26 अप्रैल को मंजू की मौत हो ई। इसके बाद नीरज अंत्येष्टि आदि कार्य के लिए अपने मुरादाबाद के डिलारी स्थित पैतृक घर चले गए। जहां अंत्येष्टि आदि कार्य पूरा करने के बाद गुरुवार को लौट आए। वह पुलिस लाइन आमद कराने पहुंचे तो अधिकारी और साथ सभी चक्कर में पड़ गए। उन्हें सलाह दी कि कुछ दिन और आराम करें फिर ड्यूटी ज्वाइन करें। नीरज ने बताया कि उन्होंने दोबारा सैंपल भी दिया है, जिसकी रिपोर्ट आनी बाकी है। इंतजार है कि रिपोर्ट निगेटिव आए और ड्यूटी ज्वाइन करूं।

कोविड वॉरियर थी मंजू

मंजू गर्भवती थी, लिहाजा उसकी ड्यूटी इन दिनों पुलिस लाइन में ही चल रही थी। उसे कोविड वॉरियर की जिम्मेदारी दी गई थी। वह पुलिस लाइन में आने जाने वाले लोगों को मास्क लगाने और दूरी बनाकर रखने आदि की सलाह देती थी। किसे मालूम था जो कोविड वॉरियर है वह ही इस कोरोना की शिकार हो जाएगी। आरआई हरेंद्र पाल ने बताया कि मंजू खुद भी बराबर मास्क लगाए रहती थी, लेकिन वह कैसे कोविड का शिकार हुई समझ नहीं आया। बताया कि नीरज को कुछ और दिन आराम करने के लिए कहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.