आइए बदायूं, आपके स्वागत के लिए तैयार है मेला ककोड़ा, सज गया है तंबुओं का शहर, जानें मेले में क्या-क्या है

Badaun Kakoda Fair पतित पावनी गंगा मैया के रेतीले तट पर रुहेलखंड का मिनी कुंभ मेला ककोड़ा आपके स्वागत के लिए तैयार है। कासगंज और बदायूं की सीमा पर गंगा किनारे करीब चार किमी क्षेत्र में तंबुओं का शहर बसाया गया है।

Samanvay PandeyThu, 18 Nov 2021 08:48 AM (IST)
गंगा तट पर 4 किमी क्षेत्र बस गया तंबुओं का शहर, 1300 से अधिक दुकानें लगाईं

बरेली, जेएनएन। Badaun Kakoda Fair : पतित पावनी गंगा मैया के रेतीले तट पर रुहेलखंड का मिनी कुंभ मेला ककोड़ा आपके स्वागत के लिए तैयार है। कासगंज और बदायूं की सीमा पर गंगा किनारे करीब चार किमी क्षेत्र में तंबुओं का शहर बसाया गया है। मेले में बच्चों के खेलने से लेकर बुजुर्गों तक की सुविधाओं का ध्यान रखा गया है। गुरुवार को मेले का शुभारंभ होगा, इसके लिए बुधवार को दिन भर और देर रात तक तैयारियां चलती रहीं। सुरक्षा व्यवस्था के लिहाज से मेले में पुलिस बल ने भी डेरा जमा लिया है। बुधवार रात तक यहां दुकानदारों समेत करीब 20 हजार लोगों के पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है।

घाट पर स्नान शुरू, फ्लड कंपनी तैनातः ककोड़ा मेले में बनाए गए घाट पर बुधवार से ही स्नान शुरू हो गया है। यहां राउटी और तंबू लगाकर बसे लोगों के परिवारों ने बुधवार को यहां स्नान किया। इसके अलावा बदायूं, बरेली, एटा, अलीगढ़, कासगंज आदि जिलों से भी लोग यहां स्नान को पहुंचे थे। स्नान करने वालों की सुरक्षा के लिए फ्लड कंपनी स्टीमर के साथ नदी में तैनात कर दी गई है। आठ-आठ घंटे की ड्यूटी पर चार फ्लड कंपनी लगाई गई हैं।

गंगा किनारे लगी अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों की राउटीः गंगा घाट से कुछ दूर हटकर ही मेला स्थल पर अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों की राउटी लगाई गई हैं। यहां जिलाधिकारी, एसएसपी, सीडीओ, सीएमओ, डीपीआरओ सभी के अलग अलग कैंप बनाए गए हैं। इसी तरह जिले के सभी विधायकों, सांसदों, एमएलसी, जिला पंचायत अध्यक्ष, भाजपा जिलाध्यक्ष आदि का भी शिविर अलग-अलग बनाया गया है। मेले में गंगा किनारे का आखिरी छोर पूरी तरह से अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के लिए ही आरक्षित है।

चार जोन में बांंटा गया मेला स्थलः ककोड़ा मेले को चार जोन में बांटा गया है। इसमें एक जोन वीआइपी, दूसरा जनप्रतिनिधियों के लिए, तीसरा मीना बाजार और चौथा मेला स्थल का बनाया गया है। सभी जोन में एक एक एडीओ पंचायत की ड्यूटी व्यवस्थाओं को देखने के लिए लगाई गई है। मेले में साफ सफाई के लिए 174 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। जो कि उझानी, कादरचौक और सलारपुर ब्लाक से बुलाए गए हैं। इसके अलावा जिले की एक एक ग्राम पंचायत से दो-दो डस्टबिन की व्यवस्था की गई है। पूरे मेले में 2074 डस्टबिन रखे गए हैं, जिससे मेले में गंदगी न फैल सके।

मेले में पहुंच चुके 20 हजार से ज्यादा लोगः मेले में लोगों का पहुंचना शुरू हो चुका है। बुधवार देर रात शहर से लोगों का पहुंचना शुरू हो गया था। यहां अब तक करीब तीन सौ राऊटी लगाई जा चुकी हैं। इसमें दो दिन पहले से लोगों ने आकर बसना शुरू कर दिया था। अब तक करीब 1300 दुकानें लगाई जा चुकी हैं। देर रात तक यहां करीब 20 हजार से अधिक लोगों के पहुंचने का अनुमान लगाया गया है। गुरुवार को यह भीड़ दोगुनी और स्नान वाले दिन 19 नवंबर को यहां दो लाख से अधिक लोगों के आने का अनुमान लगाया जा रहा है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.