एक रुपये रोज के खर्च पर कोक्लियर इंप्लांट से सुन सकते हैं साफ आवाज

किसी की आवाज न सुन पाना या साफ न सुन पाने की परेशानी जिदगी को बेरौनक बना सकती है। आंखों के साथ ही कानों पर भी ध्यान देना जरूरी है। उक्त बातें एसआरएमएस ट्रस्ट के चेयरमैन देवमूर्ति ने एसआरएमएस मेडिकल कालेज में शुक्रवार से शुरू हुई दो दिवसीय चतुर्थ कोक्लियर इंप्लांट वर्कशाप और लाइव सर्जरी के उद्घाटन सत्र में शुक्रवार को कहीं।

JagranSat, 27 Nov 2021 05:31 AM (IST)
एक रुपये रोज के खर्च पर कोक्लियर इंप्लांट से सुन सकते हैं साफ आवाज

जागरण संवाददाता, बरेली: किसी की आवाज न सुन पाना या साफ न सुन पाने की परेशानी जिदगी को बेरौनक बना सकती है। आंखों के साथ ही कानों पर भी ध्यान देना जरूरी है। उक्त बातें एसआरएमएस ट्रस्ट के चेयरमैन देवमूर्ति ने एसआरएमएस मेडिकल कालेज में शुक्रवार से शुरू हुई दो दिवसीय चतुर्थ कोक्लियर इंप्लांट वर्कशाप और लाइव सर्जरी के उद्घाटन सत्र में शुक्रवार को कहीं।

उन्होंने बताया कि एसआरएमएस मेडिकल कालेज पिछले पांच वर्ष से कोक्लियर इंप्लांट सर्जरी करता आ रहा है। मरीजों के इस महंगे आपरेशन का सारा खर्च एसआरएमएस ट्रस्ट खुद वहन करता है। देवमूर्ति ने मेडिकल कालेज में संचालित एक रुपये प्रतिदिन के खर्च पर इलाज की भी जानकारी दी। उन्होंने कहा इस खर्च पर 50 हजार तक के आपरेशन यहां पर फ्री किए जाते हैं। ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस योजना का लाभ उठाना चाहिए। ईएनटी, हेड एंड नेक सर्जरी डिपार्टमेंट द्वारा आयोजित इस वर्कशाप में कोक्लियर इंप्लांट सर्जरी भी की गई और मेडिकल के विद्यार्थियों के लिए इसका लाइव प्रसारण भी किया गया।

छह बच्चों की कोक्लियर इंप्लांट सर्जरी

दो दिनी लाइव सर्जरी में छह बच्चों के आपरेशन किए जाने हैं। शुक्रवार को तीन बच्चों अवंतिका (तीन वर्ष, नवाबगंज), संचिता (दो वर्ष, खीरी) और शाद मुस्तफा (पांच वर्ष, रामपुर) के आपरेशन किए गए। ईएनटी, हेड एंड नेक सर्जरी डिपार्टमेंट के प्रमुख डा.रोहित शर्मा ने कहा कि यहां हम पिछले पांच वर्ष में एसआरएमएस ट्रस्ट के सहयोग से कोक्लियर इंप्लांट सर्जरी करते आ रहे हैं। इसी वर्ष केंद्र और राज्य सरकार ने एसआरएमएस को पैनल में शामिल किया, जिससे ज्यादा से ज्यादा जरूरतमंद बच्चों की सर्जरी संभव हुई है। उद्घाटन सत्र को फोर्टिस अस्पताल मोहाली के डायरेक्टर डा.अशोक गुप्ता ने भी संबोधित किया। करीब 1100 से ज्यादा कोक्लियर इंप्लांट आपरेशन कर चुके डा.गुप्ता ने इसकी सर्जिकल एप्रोच, मरीज की पहचान, तकनीक और बदलावों की जानकारी दी।

प्रदेश में कुल सात सेंटर, एसआरएमएस एकमात्र निजी संस्थान

वर्कशाप में बताया गया कि प्रदेश में केंद्र और राज्य सरकार ने केवल सात सेंटर को ही कोक्लियर इंप्लांट की मान्यता दी है। इनमें से निजी क्षेत्र में प्रदेश में सिर्फ एसआरएमएस मेडिकल कालेज को ही कोक्लियर इंप्लांट सर्जरी की अनुमति मिली है। एसआरएमएस मेडिकल कालेज के डायरेक्टर आदित्य मूर्ति, एलएलआरएम मेरठ के डा. विनीत शर्मा, रुहेलखंड मेडिकल कालेज एंड हास्पिटल के डीन डा. चंद्रमोहन, डा. पीएल प्रसाद, डा. नीलिमा मेहरोत्रा, डा. पीयूष कुमार, डा. एसके सागर, डा. पीडी परडल, डा. तनु अग्रवाल, डा. मिलन जायसवाल, डा. एमपी रावल, डा. तारिक महमूद, डा. आशीष मेहरोत्रा, डा. ममता वर्मा, डा. संदीप कुमार, डा. अभिनव श्रीवास्तव और मेडिकल स्टूडेंट शामिल हुए।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.