Bareilly IT Park : शासन से दस करोड़ पास होने के बाद भी बरेली में अटके युवाओं के सपने, जानिए वजह

Bareilly IT Park दस करोड़ बजट के स्वीकृत होने के छह माह बाद भी फंड रिलीज नहीं होने से आइटी पार्क का काम अधर में अटका है। साफ्टवेयर की दुनिया के फलक पर बरेली का सितारा चमकाने के लिए युवा इसके विकसित होने का इंतजार कर रहे हैं।

Ravi MishraMon, 13 Sep 2021 08:36 AM (IST)
Bareilly IT Park : शासन से दस करोड़ पास होने के बाद भी बरेली में अटके युवाओं के सपने

बरेली, जेएनएन। Bareilly IT Park : दस करोड़ बजट के स्वीकृत होने के छह माह बाद भी फंड रिलीज नहीं होने से आइटी पार्क का काम अधर में अटका है। साफ्टवेयर की दुनिया के फलक पर बरेली का सितारा चमकाने के लिए युवा इसके विकसित होने का इंतजार कर रहे हैं। इस पार्क के विकसित होने के बाद आइटी सेक्टर से जुड़े युवाओं को नौकरियों के लिए बेंगलुरु, हैदराबाद, नोएडा की दौड़ नहीं लगानी होगी।

बरेली के सीबीगंज में इंडिन टर्पेटाइन रेजिन फैक्ट्री (आइटीआर) 16 साल से बंद पड़ी है। इसके एक हिस्से में 100 बेड का ईएसआइ अस्पताल बनने की तैयारी शुरू हो चुकी है। भूमिपूजन और रजिस्ट्री होने के बाद अब निर्माण शुरू होने हैं। वहीं यूपी इलेक्ट्रानिक्स कारपोरेशन लिमिटेड (यूपीएलसी) की टीम ने सितंबर 2020 में आइटीआर की खाली पड़ी जमीन का मुआयना करने के बाद आइटी पार्क के लिए मुफीद पाया था।

शासन ने उद्योग निदेशक कानपुर और यूपी इलेक्ट्रानिक्स कारपोरेशन लिमिटेड को पत्र जारी कर जमीन खरीदने के लिए 10 करोड़ रुपये देने की वित्तीय स्वीकृति जारी की, लेकिन जिला प्रशासन को आज भी पहली किस्त का इंतजार है। यही वजह है कि जमीन आवंटन के बाद भी आइटी पार्क की शुरुआत नहीं हो पा रही है। कमिश्नर आर. रमेश कुमार ने शासन में पैरवी करके आइटी पार्क के लिए बजट की पहली किस्त जल्दी जारी करने को कहा है, ताकि निर्माण शुरू कराए जा सकें।

चार कदम ही चला है आइटी पार्क बरेली में आइटी पार्क के लिए 27 मार्च 2021 को कैबिनेट की मंजूरी मिली थी। स्वीकृति मिलने के बाद विशेष सचिव ऋषिरेंद्र कुमार ने उद्योग निदेशक कानपुर के ध्यानार्थ पत्र जारी किया है। इसमें बरेली के आइटी पार्क की स्वीकृति के बाद भूमि खरीदने के लिए 10 करोड़ रुपये की वित्तीय स्वीकृति दी जा चुकी है।

बजट मिलने के बाद भूमि की रजिस्ट्री करवाई जाएगी। ये शासन का प्रोजेक्ट है। जितनी जल्दी निर्माण शुरू होंगे, उतनी जल्दी बरेली समेत आस-पास के युवाओं को रोजगार और साफ्टवेयर बाजार में पहचान मिलेगी। - आर. रमेश कुमार, कमिश्नर

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.