कोरोना मौतों के मामले में बिहार से कम नहीं बरेली, अफसर छिपाए बैठे रहे संक्रमितों की मौत का आंकड़ा, सात दिन में बढ़ा ग्राफ

Bareilly Corona Death News बिहार में अचानक कोरोना से मौतों का आंकड़ा बढ़ने पर हलचल मची हुई है। कमोबेश कुछ ऐसी ही स्थिति अपने जिले की भी है पहले संक्रमितों की मौत का डेटा छिपाए बैठे रहे अधिकारी अब धीरे-धीरे पोर्टल पर अपलोड करा रहे हैं।

Ravi MishraSat, 12 Jun 2021 06:34 AM (IST)
कोरोना मौतों के मामले में बिहार से कम नहीं बरेली, अफसर छिपाए बैठे रहे संक्रमितों की मौत का आंकड़ा

बरेली, जेएनएन। Bareilly Corona Death News : बिहार में अचानक कोरोना से मौतों का आंकड़ा बढ़ने पर हलचल मची हुई है। कमोबेश कुछ ऐसी ही स्थिति अपने जिले की भी है, जहां दूसरी लहर के दौरान तगड़ी आंकड़ेबाजी हुई है। उस दौरान संक्रमितों की मौत का डेटा छिपाए बैठे रहे अधिकारी अब धीरे-धीरे पोर्टल पर अपलोड करा रहे हैं। प्रतिदिन जारी होने वाली सूची में कोरोना से मौत की जानकारी शून्य रखी जा रही है, लेकिन कोरोना से अब तक मरने वालों की कुल संख्या में प्रतिदिन इजाफा हो रहा है।बीते सात दिनों में इस सूची में 48 मौतों के आंकड़े बढ़ा दिए गए।

पांच दिन पहले जो संख्या 292 थी, अब वह 342 पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि प्राइवेट अस्पतालों और दूसरे जिलों में बरेली के लोगों की हुई मौत की जानकारी मिलने पर उन्हें अब अपडेट किया जा रहा है। जिले में जब दूसरी लहर आने से पहले तक कोरोना से जान गंवाने वालों की संख्या 146 के करीब थी, लेकिन अप्रैल और मई में एक के बाद एक मौतें होती गईं। श्मशान में कोविड प्रोटोकाल के तहत हर रोज करीब आठ से 10 शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा था, लेकिन सरकारी आंकड़ों में एक या दो मौत ही हो रही थीं।

कुछ दिन ऐसे जरूर रहे जब एक दिन में सरकारी आंकड़ों में भी आठ से 10 मौतें दर्ज की गईं। स्थिति यह थी कि एक मई तक जिले में कुल 208 मौतें दर्शाई गई थीं, लेकिन धीरे-धीरे तीन जून तक यह आंकड़ा 292 तक पहुंच गया। जबकि बीते सात दिनों में सरकारी आंकड़ों में यह संख्या अब 342 पहुंच गई हैं। बीते सात दिन के आंकड़ों में मौतों की संख्या में 48 लोगों का इजाफा हुआ है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कह रहे हैं कि अस्पतालों से अब डेटा मिल रहा है उसी अनुसार मौत का डेटा चढ़ाया जा रहा है। अब सवाल यह है कि अब तक जिन लोगों की मौत का डेटा अस्पताल छिपाए रहे, उन पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई?

आइडीएसपी मैनेजर के अलग बोल

पोर्टल पर अचानक बढ़ रही मौतों के सवाल पर आइडीएसपी के जिला डेटा मैनेजर संजय कुमार ने कहा कि अब जो डेथ पोर्टल पर अपलोड हो रही हैं, उनसे उनका कोई मतलब नहीं है। यह दूसरे जिलों और प्रदेशों की मरने वालों की संख्या है, जिसे अब वहां से अपलोड किया जा रहा है। बताया कि जिनकी मौत मुरादाबाद, रामपुर, दिल्ली, नोएडा में हुई है, वहां के अस्पताल यह डेटा खुद पोर्टल पर चढ़ा रहे हैं। वहीं जिले के किसी अस्पताल में मौत हुई है तो वही अस्पताल उस मौत को पोर्टल पर अपलोड करेगा।

जिनके पास रिपोर्ट नहीं उनका कुछ नहीं हो सकता

आइडीएसपी के जिला डेटा मैनेजर संजय कुमार ने बताया कि जिनके पास कोविड की रिपोर्ट नहीं है तो उनकी मौत पोर्टल पर अपडेट नहीं की जा सकती। बताया कि सैंपल लेने के बाद ही संबंधित व्यक्ति को पोर्टल पर अपलोड कर दिया जाता है, अगर उनका नाम पोर्टल पर ही नहीं होगा तो उनकी मौत की जानकारी अपलोड कैसे की जाएगी। होम आइसोलेशन के दौरान या प्राइवेट लैब से जांच कराने वाले ऐसे कई लोग हैं जिनके पास रिपोर्ट हैं, लेकिन वह पोर्टल पर अपलोड नहीं हैं। जिससे वह परेशान हो रहे हैं।

प्राइवेट अस्पतालों से जो जानकारी मिल रही है, उनकी डेथ डिटेल पोर्टल पर अपलोड की जा रही है। गुरुवार को ऐसे आठ और शुक्रवार को दो लोगों की डेथ डिटेल अपडेट हुई है। कुछ लोगों की इलाज के दौरान भी मौत हो रही हैं, उन्हें तत्काल पोर्टल पर अपलोड कर रहे हैं। - डा. एसके गर्ग, सीएमओ 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.