कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रान को लेकर सतर्क हुआ बरेली, रख रहा दक्षिण अफ्रीका से सीधे संपर्क वाले परिवारों पर ‘पैनी नजर’

कोरोना संक्रमण के डेल्टा से कई गुना ज्यादा खतरनाक नया ओमिक्रान वेरिएंट दुनिया भर में परेशानी का सबब बन गया है। दक्षिण अफ्रीका से वोत्सवाना होते हुए कई देशों में फैल चुके कोरोना संक्रमण के इस वेरिएंट की संक्रामक क्षमता काफी ज्यादा है।

Ravi MishraSun, 28 Nov 2021 06:49 AM (IST)
कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन को लेकर सतर्क हुआ बरेली

बरेली, जेएनएन। : कोरोना संक्रमण के डेल्टा से कई गुना ज्यादा खतरनाक नया ओमिक्रान वेरिएंट दुनिया भर में परेशानी का सबब बन गया है। दक्षिण अफ्रीका से वोत्सवाना होते हुए कई देशों में फैल चुके कोरोना संक्रमण के इस वेरिएंट की संक्रामक क्षमता काफी ज्यादा है। चूंकि बरेली के कई परिवार दक्षिण अफ्रीका में रह रहे हैं, उनका जिले में आना-जाना रहता है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग के सर्विलांस सेल ऐसे परिवारों की कुंडली निकालने को कहा गया है, जिससे अंतरराष्ट्रीय उड़ान करने वाले लोगों और उनके संपर्क में आने वाले पर पैनी निगरानी रखी जा सके। यही नहीं, उनकी ट्रैवल हिस्ट्री यानी बीते दिनों कितनी बार और कहां-कहां की यात्रा की, इसका भी पता लगाया जाएगा।

बरेली एयरपोर्ट पर भी बढ़ाई जाए निगरानी

उधर, दुनिया के कई देशों में कोरोना के नए और बेहद खतरनाक बताए जा रहे ओमिक्रान वेरिएंट को लेकर अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट पर तो सघन जांच के निर्देश दिए ही गए हैं। इसके अलावा घरेलू फ्लाइट पर भी जांच बढ़ेगी। बरेली एयरपोर्ट की बात करें तो यहां दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू जैसे महानगरों से सीधी उड़ान है। क्योंकि इन तीनों ही जिलों में अंतरराष्ट्रीय उड़ान हैं, ऐसे में जिले के लोग भी बाहर से संक्रमण लेकर जिले में दाखिल हो जाए, इस आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता है। एएआइ महाप्रबंधक राजीव कुलश्रेष्ठ ने बताया कि हवाई अड्डे पर वैसे तो सैंपलिंग की जा रही है, लेकिन दुनिया में बढ़ते कोरोना केस देखते हुए जांच और बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों से बात की है।

महिला अस्पताल में जनरेटर से नहीं चल पा रहा आक्सीजन प्लांट 

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान आक्सीजन की किल्लत सामने आई थी। इसके बाद शासन ने कई आक्सीजन प्लांट लगवाने के निर्देश दिए थे। जिले में 300 बेड कोविड अस्पताल में एक हजार मीट्रिक लीटर प्रतिदिन की क्षमता का प्लांट लगाया गया। वहीं महिला अस्पताल में 500 एमएलडी का प्लांट लगा। इसके अलावा कुछ प्रमुख सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर 300 प्लस एमएलडी का प्लांट लगा। इनमें से सभी प्लांट चल रहे हैं। केवल महिला अस्पताल में लगा आक्सीजन प्लांट जनरेटर से नहीं चल पा रहा है। समस्या का समाधान करने के लिए इंजीनियरों को बुलवाया गया है।

300 बेड कोविड अस्पताल समेत सभी संसाधन चेक करना जरूरी

ओमिक्रान वेरिएंट के बेहद कम समय में 50 से ज्यादा म्यूटेशन सामने आ चुके हैं। इनमें से 32 म्यूटेशन स्पाइक प्रोटीन में ही हो गए हैं। यानी संक्रमण का यह वेरिएंट तेजी से बदल रहा है। जिस तेजी से फैल रहा है, उससे विशेषज्ञ इसे तीसरी लहर की आहट भी मान रहे हैं। ऐसे में फिलहाल शासन की ओर से कोई विशेष दिशा-निर्देश नहीं हुए हैं। लेकिन प्रशासन और स्वास्थ्य महकमे को सभी संसाधन और बेडों की स्थिति चेक करना जरूरी है। जिले में इस समय 300 बेड कोविड अस्पताल के अलावा तीन मेडिकल कालेज, करीब 20 निजी अस्पतालों के अलावा कुछ विशेष सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में बेड और आक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था है।

इफको टाउनशिप में विवाह समारोह से लौटा युवक मिला कोरोना संक्रमित :

जिले में भी शनिवार को एक कोरोना संक्रमित मामला सामने आया है। दिल्ली की एक निजी आइटी कंपनी में नौकरी (फिलहाल वर्क फ्राम होम) कर रहा युवक आंवला स्थित इफको टाउनशिप में रह रहा है। 21 नवंबर को वह टाउनशिप के एक विवाह समारोह में शामिल हुआ था। 24 नवंबर को स्वाद लेने और गंध महसूस होने में दिक्कत हुई। 26 नवंबर को निजी पैथलैब में हुई जांच में युवक कोरोना संक्रमित मिला। युवक होम आइसोलेशन में है और उसके संपर्क में आए लोगों की जांच की गई है।

संक्रमित लोगों की निगरानी और जांच के लिए लगी टीमों को और भी ज्यादा संजीदगी से काम करने के निर्देश दिए गए हैं। एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, बस अड्डे और बार्डर इलाकों पर सैंपलिंग के लिए विशेष टीमें लगवाई जाएंगी। - डा.बलवीर सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, बरेली

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.