Omicron Variant की दहशत के बीच सिंगापुर और बांग्लादेश से बरेली लौटे दो परिवार, जानें कोरोना जांच में क्या निकला

Omicron Variant कोरोना की तीसरी लहर की आशंका शासन ने जताई है। विदेश में कोरोना के नये वैरिएंट ओमिक्रोन की भी मरीजों में पुष्टि हुई है। वहीं पिछले सप्ताह सिंगापुर और बांग्लादेश में रहने वाले दो परिवार जिले में लौटे हैं जिनको आइडीएसपी ने ट्रेस किया है।

Samanvay PandeyFri, 03 Dec 2021 07:51 AM (IST)
आरटी-पीसीआर जांच की जा चुकी है जिसमें दोनों ही परिवार के लोग कोरोना निगेटिव निकले।

बरेली, जेएनएन। Omicron Variant : कोरोना की तीसरी लहर की आशंका शासन ने जताई है। विदेश में कोरोना के नये वैरिएंट ओमिक्रोन की भी मरीजों में पुष्टि हुई है। वहीं पिछले सप्ताह सिंगापुर और बांग्लादेश में रहने वाले दो परिवार जिले में लौटे हैं, जिनको आइडीएसपी ने ट्रेस किया है। हालांकि यह दोनों ही परिवार की पहले से ही आरटी-पीसीआर जांच की जा चुकी है जिसमें दोनों ही परिवार के लोग कोरोना निगेटिव निकले।

इस बारे में सर्विलांस सेल प्रभारी डा. अनुराग गौतम ने बताया कि सिंगापुर से लौटे परिवार के सदस्यों के पासपोर्ट पर बरेली का पता लिखा हुआ था। हालांकि परिवार मूल रूप से बदायूं का निवासी है। वहीं दूसरा परिवार जो कि बांग्लादेश से लौटा है, मूल रूप से बरेली के फरीदपुर का निवासी है। दोनों ही परिवारों के सदस्यों की आरटी-पीसीआर जांच पहले ही की जा चुकी है। टीम को प्रतिदिन परिवार के सदस्यों से उनका हाल जानने के आदेश दिए गए हैं। तबीयत बिगड़ने पर फौरन जांच कराई जाएगी।

विदेश से आने वालों के बनाया वार्ड : स्वास्थ्य विभाग के अफसरों के अनुसार विदेश से आने वाले लोगों की सघन निगरानी की जा रही है। ऐसे में अगर कोई विदेश से आने वाला कोई भी व्यक्ति कोरोना जांच में पॉजिटिव आता है तो उसे भर्ती करने के लिए 300 बेड कोविड हास्पिटल में अलग से वार्ड बनाया गया है।

रुहेलखंड विश्वविद्यालय में की गई रैंडम सैंपलिंग : रुहेलखंड विश्वविद्यालय में गुरुवार को कुलपति प्रो. केपी सिंह के निर्देश पर विश्वविद्यालय में कोविड की रैंडम सैंपलिंग की गई। 300 बेड मंडलीय चिकित्सालय के प्रभारी अधिकारी व मुख्य चिकित्सा अधिकारी कोविड चिकित्सालय बरेली के संयुक्त तत्वाधान में स्टेट सर्विलांस आफिसर लखनऊ के आदेशानुसार फोकस सैंपलिंग का कार्य किया गया। सभी स्थानों से विश्वविद्यालय आए छात्रों एवं उनके अभिभावकों की भी रैंडम सैंपलिंग हुई। गुरुवार को कुल 100 छात्र-छात्राओं, शिक्षकों एवं अभिभावकों के सैंपल इकट्ठा कर उन्हें एंटीजन एवं आरटी-पीसीआर जांच के लिए भेजा गया। नोडल अधिकारी सुधांशु शर्मा, तपन वर्मा, आकाश सक्सेना, दिनेश आदि मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.