300 Bed Covid Hospital Ventilator News : बरेली स्वास्थ्य महकमे ने शासन काे भेजी चाैंकाने वाली रिपाेर्ट, 18 वेंटीलेटर माैजूद लेकिन संख्या बताई जीराे

300 Bed Covid Hospital Ventilator News : बरेली स्वास्थ्य महकमे ने शासन काे भेजी चाैंकाने वाली रिपाेर्ट

300 Bed Covid Hospital Ventilator News एक तरफ कोरोना संक्रमण जमकर ओवरटाइम कर रहा है। यही वजह है कि संक्रमितों की संख्या अप्रैल महीने में कई गुना बढ़ चुकी है। वहीं दूसरी तरफ संक्रमितों के इलाज के लिए जरूरी वेंटीलेटरों की छुट्टी बरकरार है।

Ravi MishraTue, 04 May 2021 05:30 PM (IST)

बरेली, जेएनएन। 300 Bed Covid Hospital Ventilator News : एक तरफ कोरोना संक्रमण जमकर ओवरटाइम कर रहा है। यही वजह है कि संक्रमितों की संख्या अप्रैल महीने में कई गुना बढ़ चुकी है। वहीं, दूसरी तरफ संक्रमितों के इलाज के लिए जरूरी वेंटीलेटरों की छुट्टी बरकरार है। बात 300 बेड कोविड अस्पताल की हो रही है।

300 बेड कोविड अस्पताल बनने के बाद यहां संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए सामान्य व आइसीयू के अलावा वेंटीलेटर युक्त आइसीयू भी बनाया गया था। लेकिन अभी तक यहां एक भी गंभीर कोविड मरीज भर्ती नहीं किया गया। स्वास्थ्य महकमे के जिम्मेदार केवल यह कहकर पल्ला झाड़ लेते हैं कि 300 बेड कोविड अस्पताल में वेंटीलेटर संचालन के लिए जरूरी विशेषज्ञ डॉक्टर, एनेस्थेटिक व अन्य स्टाफ नहीं हैं।

इसी वजह से इसे एल-2 यानी लेवल-2 कोविड अस्पताल का ही दर्जा दिया गया है। ऐसे में गंभीर मरीजों को रेफर करना मजबूरी है। हालांकि यह भी हकीकत है कि 300 बेड कोविड अस्पताल से मरीजों को रेफर करने में जान का खतरा भी रहता है। वहीं, तीमारदारों की मुश्किलों में भी इजाफा होता है।

शासन को भेजी रिपोर्ट में एक भी वेंटीलटर नहीं 

जिले में कोविड मरीजों की स्थिति पर रोज एक रिपोर्ट शासन को भेजी जाती है. इसमें जिले के डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बनाए गए मेडिकल कालेज समेत निजी अस्पतालों में मौजूद वेंटीलेटर पर कितने मरीज भर्ती हैं, इसकी पूरी जानकारी रहती है. हालांकि चौंकाने वाली बात यह है कि 300 बेड कोविड अस्पताल में 18 वेंटीलेटर होने के बावजूद शासन को भेजी जाने वाली रिपोर्ट में वेंटीलेटरों की संख्या शून्य ही बताई जाती है.

...तो अस्थाई रूप से मेडिकल कालेज को दें 

कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए मिलेजुले प्रयास की जरूरत है। जब सरकार आपात स्थिति का हवाला देते हुए निजी संसाधनों को हासिल कर सकती है। ऐसे में बिना उपयोग के 300 बेड कोविड अस्पताल में रखे वेंटीलेटर निजी अस्पताल को क्यों नहीं दे सकती। हालांकि इसके लिए जिले में अन्य संसाधनों की जानकारी लेनी होगी। इसके अलावा प्रशिक्षित स्टाफ को आपातकाल में हायर किया जा सकता है।

वेंटीलेटर के लिए क्या है जरूरत 

जानकार बताते हैं कि वेंटीलेटर संचालन किसी गाड़ी को किक मारकर स्टार्ट करने जैसा आसान नहीं है। वेंटीलेटर संचालन के लिए विशेषज्ञ स्टाफ की जरूरत होती है। हर पांच वेंटीलेटर पर एक विशेषज्ञ डॉक्टर, एक एनेस्थेटिक और हर वेंटीलेटर पर एक बेहद प्रशिक्षित नर्स की जरूरत होती है।

जिले के 17 कोविड अस्पतालों में 105 वेंटीलेटर

जिले में 300 बेड कोविड अस्पताल, डेडिकेटेड कोविड अस्पताल बनाए गए तीन मेडिकल कालेज के अलावा 13 निजी अस्पताल हैं। एसआरएमएस और रोहिलखंड मेडिकल कालेज में 20-20 और राजश्री अस्पताल में 10-10 वेंटीलेटर हैं। इसके अलावा निजी अस्पतालों में 65 मिलाकर कुल 105 वेंटीलेटर हैं। जिनमें से अधिकांश समय सभी जगह के वेंटीलेटर फुल रहते हैं।

जिले में पांच या इससे ज्यादा वेंटीलेटर वाले प्रमुख कोविड अस्पताल

कोविड अस्पताल वेंटीलेटर

एसआरएमएस मेडि.कालेज 20

रोहिलखंड मेडिकल कालेज 20

राजश्री मेडिकल कालेज 10

मिशन अस्पताल 05

दीपमाला अस्पताल 06

गंगाशील अस्पताल 05

खुशलोक अस्पताल 05 

जिला अस्पताल से संबद्ध 300 बेड कोविड अस्पताल में कुछ समय पहले 18 वेंटिलेटर आए थे। लेकिन विशेषज्ञ स्टाफ के अभाव में वेंटीलेटर नहीं चल पा रहे हैं। प्रशासन से बात कर अन्य विकल्प भी तलाशे जा रहे हैं। - डॉ.रंजन गौतम, जिला सर्विलांस अधिकारी, बरेली 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.